ब्रिटिश कंपनी जीएसके का दावा, उसकी एंटीबॉडी दवा ओमिक्रॉन वैरिएंट से लड़ने में सक्षम

ओमिक्रॉन के खिलाफ कौन सी वैक्सीन पुख्ता तौर पर काम करेगी इसके बारे में पूरी जानकारी किसी के पास नहीं है हालांकि दावा किया जा रहा है। इन सबके बीच ब्रिटिश दवा कंपनी जीएसके का दावा है उसकी एंटीबॉडी दवा कारगर है।

,Omicron variant, corona virus, Omicron virus in India, British company GlaxoSmithKline
ब्रिटिश कंपनी जीएसके का दावा, उसकी एंटीबॉडी दवा ओमिक्रॉन वैरिएंट से लड़ने में सक्षम 

लंदन। कोरोना वायरस का ओमिक्रॉन वैरिएंट अब पांव पसार चुका है। ओमिक्रॉन की चुनौती से निपटने के लिए सरकारें अलग अलग स्तर पर तैयारी कर रही हैं। सरकारों की तरफ से कहा जा रहा है कि वैक्सीन लगवाने से कोई ना चूके तो दूसरी तरफ बूस्टर डोज लगाने की भी इजाजत मांगी जा रही है। इन सबके बीच ग्लैक्सो स्मिथक्लाइन का दावा है कि उसकी एंटीबॉडी दवा ओमिक्रॉन वैरिएंट का सामना करने में सक्षम है। 

ग्लैक्सो स्मिथक्लाइन का दावा
ब्रिटिश दवा निर्माता ग्लैक्सो स्मिथक्लाइन ने दावा किया है कि प्रारंभिक प्रयोगशाला परीक्षणों से पता चला है कि कोविड-19 के खिलाफ इसकी एंटीबॉडी दवा नए सुपर म्यूटेंट ओमिक्रॉन वैरिएंट के खिलाफ प्रभावी है।ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन (जीएसके) ने सोट्रोविमैब को यूएस पार्टनर वीर (वीआईआर) बायोटेक्नोलॉजी के साथ विकसित किया, जो मानव द्वारा पहले से बनाए गए प्राकृतिक एंटीबॉडी पर आधारित एक मोनोक्लोनल एंटीबॉडी है। नैदानिक परीक्षणों में, सोट्रोविमैब को 24 घंटों में हल्के से मध्यम कोविड-19 के साथ उच्च जोखिम वाले वयस्क रोगियों में अस्पताल में भर्ती होने या मृत्यु के जोखिम को 79 प्रतिशत तक कम करने का दावा किया गया है।

सोट्रोविमैब पूरी तरह से कारगर
कंपनी ने एक बयान में कहा, "ओमिक्रॉन वैरिएंट के अनुक्रम (सीक्वेंस) के आधार पर, हमारा मानना है कि सोट्रोविमैब की ओर से इस वैरिएंट के खिलाफ सक्रियता और प्रभावशाली बनाए रखने की संभावना है।यह अध्ययन प्रीप्रिंट सर्वर बायोरेक्सिव पर पोस्ट किया गया है। हालांकि अध्ययन में प्रारंभिक प्रयोगशाला परीक्षणों के आधार पर डेटा साझा किया गया है और अभी तक इसकी पूर्ण समीक्षा नहीं की गई है। कंपनी के अनुसार, अध्ययन ने प्रदर्शित किया कि सोट्रोविमैब नए ओमिक्रॉन सार्स-सीओवी-2 वैरिएंट (बी.1.1.529) के प्रमुख म्यूटेंट के खिलाफ सक्रियता या गतिविधि को बरकरार रखता है।

तकनीकी तौर पर सक्षम 
कंपनियां अब 2021 के अंत तक एक अपडेट प्रदान करने के इरादे से सभी ओमिक्रॉन म्यूटेशन के संयोजन के खिलाफ सोट्रोविमैब की निष्क्रिय गतिविधि की पुष्टि करने के लिए इन व्रिटो स्यूडो-वायरस टेस्टिंग पूरा कर रही हैं।वीर बायोटेक्नोलॉजी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, पीएचडी, जॉर्ज स्कैनगोस ने एक बयान में कहा, "सोट्रोविमैब को जानबूझकर एक म्यूटेटिंग वायरस को ध्यान में रखकर बनाया गया है। स्पाइक प्रोटीन के अत्यधिक संरक्षित क्षेत्र को लक्षित करके, जिसके म्यूटेट होने की संभावना कम है। हमने वर्तमान सार्स-सीओवी-2 वायरस और भविष्य के वैरिएंट दोनों से निपटने की उम्मीद की है, जिसकी हमें उम्मीद थी कि यह अपरिहार्य होगा। सोट्रोविमैब को यूके मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) द्वारा रोगसूचक वयस्कों और किशोरों (12 वर्ष और अधिक आयु) के तीव्र कोविड-19 संक्रमण के उपचार के लिए एक सशर्त मार्केटिंग प्राधिकरण भी दिया गया है। सशर्त मार्केटिंग प्राधिकरण में इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स शामिल हैं।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर