Mobile Apps:'मानसिक बीमारी' से निपटने के लिए एम्स दिल्ली ने डेवलप किए 'मोबाइल एप्स'

हेल्थ
आईएएनएस
Updated Sep 15, 2021 | 00:42 IST

AIIMS Develop Mobile Apps:एम्स की वरिष्ठ मनोचिकित्सक ममता सूद ने बताया, हमने मानसिक बीमारी से निपटने के लिए दो मोबाइल ऐप- सक्षम और दिशा - विकसित किए हैं।

AIIMS
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली 

नई दिल्ली:राष्ट्रीय राजधानी स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) ने पुरानी मानसिक बीमारी से पीड़ित मरीजों और उनके देखभाल करने वालों के लिए दो मोबाइल ऐप विकसित किए हैं।जब से पूरी दुनिया कोविड-19 महामारी की चपेट में आई है, चिंता और अवसाद के मामले भी बढ़ गए हैं।

एम्स ने गंभीर मानसिक बीमारी से पीड़ित रोगियों की समस्या को कम करने के लिए दो मोबाइल ऐप विकसित किए हैं। यह ऐप गंभीर मानसिक बीमारियों से पीड़ित लोगों के साथ ही उन लोगों के लिए भी फायदेमंद होंगे, जिन्हें बीमारी से संबंधित लक्षणों का हाल ही में पता चला है।

इन 2 ऐप को सक्षम और दिशा नाम दिया गया है

इन दो ऐप को सक्षम और दिशा नाम दिया गया है, जो कि उन दोनों के लिए हैं, जिन्हें इस तरह के लक्षणों का हाल में ही पता चला है और उन लोगों के लिए, जो गंभीर मानसिक बीमारी से पीड़ित हैं। उन्होंने कहा कि सक्षम ऐप उन लोगों के लिए है जो पुरानी मानसिक बीमारी से पीड़ित हैं, जबकि दिशा ऐप उन लोगों को लाभान्वित करेगा, जो इस तरह के लक्षणों के पहले एपिसोड से गुजर रहे हैं।दोनों ऐप को इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली और यूनिवर्सिटी ऑफ वारविक, ब्रिटेन के कंप्यूटर विज्ञान विभागों के सहयोग से विकसित किया गया है। इस परियोजना को ब्रिटेन के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ रिसर्च द्वारा वित्त पोषित किया गया है।

ऐप्स अगले साल जनवरी से मुफ्त सार्वजनिक उपयोग के लिए उपलब्ध होंगे

सूद ने कहा, ऐप्स अगले साल जनवरी से मुफ्त सार्वजनिक उपयोग के लिए उपलब्ध होंगे। हम ऐप्स में उपयोग किए जाने वाले रोगी डेटा के बारे में अधिक चिंतित हैं और डेटा बहाली सुरक्षित हो जाने के बाद, हम इसे अगले साल जनवरी तक लॉन्च करेंगे।उन्होंने कहा, ऐप्स मरीजों की दवाओं और अन्य जरूरतों के लिए देखभाल करने वालों को रिमाइंडर भी भेजेंगे। चल रही महामारी के दौरान लोगों को होने वाली मानसिक समस्याओं के बारे में पूछे जाने पर, सूद ने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों पर किए गए एम्स के एक शोध से पता चला है कि स्वास्थ्य सेवा के 50 प्रतिशत कर्मचारी चिंता, अवसाद और तनाव जैसे लक्षणों का सामना कर रहे हैं।

हालांकि, उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि इस तरह के लक्षण होना और बीमारी होना अलग है, क्योंकि लक्षण मरीजों को प्रभावित नहीं करते हैं, जबकि बीमारी सभी को प्रभावित करती है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर