Gurugram: लाखों रुपये का कर्ज न चुकाना पड़े, इसलिए दोस्त को गोली मार कर दी थी हत्‍या

गुरुग्राम के फर्जी गन लाइसेंस मामले के मुख्‍य आरोपी मनीष को गोली मारने वाले उसके दोस्‍त और इस केस के सहआरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस पूछताछ में आरोपी ने हत्‍या करने की बात कबूल करते हुए बताया कि उसने मनीष से 30 लाख रुपये उधार लिए थे, जिसे वह वापस मांग रहा था।

Gurugram Murder
मनीष हत्‍याकांड का आरोपी सन्‍नी गिरफ्तार   |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • आरोपी सन्‍नी ने मनीष से लिए थे 30 लाख रुपये उधार
  • पैसे न चुकाने पड़े, इसलिए अपने दोस्‍त को मार दी गोली
  • पुलिस ने सोनीपत और गुरुग्राम के रास्‍ते में किया गिरफ्तार

Gurugram Murder: गुरुग्राम के न्यू कॉलोनी एरिया में सात जून को मनीष भारद्वाज नाम के युवक की हुई हत्या मामले का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने इस हत्‍याकांड के मुख्‍य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। मनीष को उसके ही दोस्‍त सन्नी ने गोलियों से भून कर मार दिया था। दोनों गुरुग्राम के चर्चित फर्जी गन लाइसेंस के मामले में आरोपी थे। आरोपी ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसने मृतक मनीष भारद्वाज से 30 लाख रुपये उधार लिए थे, जिसे मनीष लगातार मांग रहा था, इस दबाव से छुटकारा पाने के लिए उसने मनीष की गोली मार कर हत्या कर दी।

बता दें कि कोर्ट में पेशी के बाद बोलोरा से आ रहे दोनों आरोपियों के बीच पैसे को लेकर कहासुनी हुई थी। जिसके बाद आरोपी सन्‍नी ने गाड़ी में आगे बैठे अपने दोस्‍त मनीष को न्यू कॉलोनी एरिया के पास पीछे से गोली मार दी थी। घटना के बाद आरोपी और गाड़ी का ड्राइवर फरार हो गए थे। इस मामले की लगातार तफ्तीश में जुटी पुलिस को सूचना मिली थी कि आरोपी सन्नी सोनीपत से गुरुग्राम आ रहा है। उसी दौरान रास्‍ते में गुरुग्राम पुलिस ने इस आरोपी को धर दबोचा।

30 लाख रुपये लिए थे उधार

पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि फर्जी गन लाइसेंस मामले में जेल से बाहर आने के बाद उसने मनीष भारद्वाज से 30 लाख रुपये उधार लिए थे। मनीष अपने इस पैसे को लगातार मांग रहा था, लेकिन इतनी बड़ी रकम चुकाने के लिए मेरे पास पैसे नहीं थे। इसकी वजह से दोनों की दोस्ती में खटास पैदा होती जा रही थी। सन्नी ने लगातार बढ़ते दबाव के चलते खुदकुशी करने का प्लान भी बनाया था, लेकिन बाद में उसने मनीष को ही मौत के घाट उतारने की योजना बनाई। सन्‍नी ने बताया कि 7 जून को वह पहले से ही प्‍लान बनाकर आया था। कोर्ट में पेशी से आने के बाद दोनों ने मिलकर पहले खरीददारी की और वापस लौटते समय मनीष ने फिर से पैसे मांगने शुरू कर दिए। इसी दौरान सन्नी ने एक के बाद एक मृतक मनीष भारद्वाज को 3 गोलियां मारी। जिसमें मनीष भारद्वाज की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद से आरोपी फरार होकर सोनीपत में छुपा हुआ था।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर