दिव्यांका त्रिपाठी ने बताई नेपोटिज्म की असल वजह, पति के नाम से पहचान बनाने पर जताई नाराजगी

Divyanka reaction on Nepotism: दिव्यांका त्रिपाठी ने विवेक दहिया को अपने पति के रूप में संबोधित करने वालों के खिलाफ नाराजगी जताई है और इसे भाई-भतीजावाद का हिस्सा बताया है।

Divyanka Tripathi with Vivek Dahiya
विवेक दहिया के साथ दिव्यांका त्रिपाठी  |  तस्वीर साभार: Instagram

मुख्य बातें

  • पति के नाम से संबोधित किए जाने पर दिव्यांका त्रिपाठी ने जताई नाराजगी
  • बोलीं- हर कोई अपने काम से पहचाना जाना पसंद करता है
  • एक्ट्रेस ने बताया- कहां से शुरु होता है भाई-भतीजावाद का दुष्चक्र

मुंबई: सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद भाई-भतीजावाद को लेकर चर्चा बहुत तेज हो गई है। वही, लोकप्रिय टीवी स्टार दिव्यांका त्रिपाठी ने भी इस मामले को लेकर अपनी राय जाहिर की है। ट्विटर पर इस बारे में लिखते हुए अभिनेत्री ने कहा कि खबरों में उन्हें विवेक दहिया की पत्नी बताया जाता है और उन्होंने अपनी खुद की पहचान सामने नहीं आने पर नाराजगी जाहिर की।

दिव्यांका के अनुसार भाई-भतीजावाद का दुष्चक्र यही से शुरु होता है। उन्होंने किसी व्यक्ति के लिए रिश्तेदार या पति या पत्नी के नाम का इस्तेमाल रोकने और उसे उसके काम से पहचानने का अनुरोध किया है।

Divyanka Tripathi with Vivek Dahiya

नेपोटिज्म पर बोलीं दिव्यांका त्रिपाठी:
दिव्यांका के पति के रूप में विवेक दहिया को टैग करने वाले एक पोर्टल को लेकर एक्ट्रेस ने कहा, 'वे इसे @VivekDahiya08 की पत्नी के रूप में संदर्भित क्यों नहीं करते हैं? यह मेरी पोस्ट भी नहीं थी! मैं लंबे समय से यहां हूं लेकिन इंडस्ट्री की नई प्रतिभाओं को सम्मान देना चाहिए। भाई-भतीजावाद के नाम पर रोना मत रोइए। यहीं से दुष्चक्र शुरू होता है! मैं किसी एक पर निशाना नहीं साध रही हूं बल्कि यह हर जगह एक सामान्य व्यवहार बन गया है।'

एक्ट्रेस ने कहा, 'किसी की बेटी, बेटे, पति/ पत्नी को संबोधित करने के लिए अटैचमेंट की जरूरत क्यों है? जब तक कि सामान्य समाचार और सभी एकमात्र पहचान का सम्मान नहीं करते हैं, भाई-भतीजावाद नहीं रुकेगा। हर कोई अपने काम से परिचित होना चाहता है। #AcIInditionalTalent # StopNepotism #EqualityForAll।'

अंत में, दिव्यांका ने सभी के व्यक्तित्व को पहचान देने की बात कही और ट्वीट में लिखा, 'अगर कोई परिचितों को बढ़ावा देता है तो भाई-भतीजावाद और यदि ऐसा नहीं करता तो उसे 'असुरक्षित' कहा जाता है! तो ऐसी बातों का इस्तेमाल न करें व्यक्तिगत पहचान बनाए रखने की अनुमति दें। #AcceptIndateralTalent #StopNepotism #EqualityForAll।'

अगली खबर