मृतक और घायल प्रवासियों के लिए आगे आए सोनू सूद, 400 परिवारों तक पहुंचा रहे आर्थिक मदद

Sonu Sood Migrant Families Help: सोनू सूद अपने #GharBhejo पहल में उन लोगों के परिवारों को आर्थिक सहायता प्रदान कर रहे हैं जो अपने प्रियजनों को खो चुके हैं या फिर घर वापस आने के दौरान यात्रा में घायल हुए थे...

Sonu Sood help migrant Families near around 400 who deceased and injured in travelling
सोनू सूद।  |  तस्वीर साभार: Instagram

मुख्य बातें

  • सोनू सूद ने अब कुछ लोगों के परिवारों को मदद और समर्थन देने का फैसला किया है।
  • सोनू उन लोगों की मदद करने वाले हैं जिन्होंने इस कठिन समय में अपने प्रियजनों को खो दिया है।
  • सोनू सूद ने अब मृतक और घायल प्रवासियों के लगभग 400 परिवारों तक पहुंचने का फैसला किया है। 

सोनू सूद लगातार कोविड-19 संकट के बीच प्रवासी मजदूरों और बाकी जरूरतमंदों को घर पहुंचने में मदद कर रहे हैं। इस नेक काम के लिए सोनू सूद की सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर प्रशंसा हो रही है। अब अभिनेता सोनू सूद ने कुछ लोगों के परिवारों को मदद और समर्थन देने का फैसला किया है। सोनू उन लोगों की मदद करने वाले हैं जिन्होंने इस कठिन समय में अपने प्रियजनों को खो दिया है या फिर घर वापस आने के दौरान यात्रा में घायल हुए हैं। सोनू सूद ने अब मृतक और घायल प्रवासियों के लगभग 400 परिवारों तक पहुंचने का फैसला किया है। 

सोनू सूद अपनी दोस्त नीती गोयल के साथ #GharBhejo पहल में उन लोगों के परिवारों को आर्थिक सहायता प्रदान कर रहे हैं जो अपने प्रियजनों को खो चुके हैं या फिर घर वापस आने के दौरान यात्रा में घायल हुए थे। जैसा कि कई प्रवासी दैनिक दिहाड़ी के जरिए भरण-पोषण करते थे वो सभी कुछ समय से बेरोजगार हैं। इसलिए सोनू सूद पिछले दो महीनों से उनका आर्थिक सहयोग भी कर रहे हैं। 

अभिनेता सोनू सूद इन प्रवासी मजदूरों के बच्चों की शिक्षा में, खेती के लिए और घरों के निर्माण के लिए भी मदद भी कर रहे हैं। सोनू सूद ने इस पहल के बारे में बात करते हुए बताया, 'मैंने मृतक या घायल प्रवासियों के परिवारों को सुरक्षित भविष्य के लिए मदद करने का फैसला किया है। मुझे लगता है कि उनका समर्थन करना मेरी व्यक्तिगत जिम्मेदारी है।'

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

(@sonu_sood) on


राज्यों की सरकारों से सोनू सूद ने मांगा डाटा
सोनू सूद ने उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड सहित कई राज्यों के अधिकारियों से उन प्रवासियों के डेटा के लिए संपर्क किया, जिनकी इस दौरान जान चली गई। उनके पते से लेकर बैंक खाते तक, सूद ने सभी रिकॉर्ड हासिल किए और उसी के अनुसार वो मदद प्रदान करेंगे। सोनू सूद का सोशल मीडिया अकाउंट मदद के अनुरोधों से भरा हुआ है और उनके प्रयास भी लगातार जारी हैं।

अगली खबर