जब सुशांत सिंह राजपूत ने बताया कैसे काम करता है नेपोटिज्म, कंगना ने शेयर किया चार साल पुराना फेसबुक पोस्ट

कंगना रनौत सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से ही नेपोटिज्म का मुद्दा उठा रही हैं। अब कंगना ने सुशांत सिंह राजपूत का एक पुराना पोस्ट शेयर किया है। इसमें उन्होंने बताया कि नेपोटिज्म कैसे काम करता है।

Kangana Ranaut, Sushant Singh Rajput
Kangana Ranaut, Sushant Singh Rajput 

मुख्य बातें

  • सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद नेपोटिज्म पर बहस हो रही है।
  • कंगना रनौत ने अब सुशांत सिंह राजपूत का एक पुराना फेसबुक पोस्ट शेयर किया है।
  • सुशांत इस पोस्ट में नेपोटिज्म पर निशाना साध रहे हैं।

मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद सोशल मीडिया पर नेपोटिज्म को लेकर तीखी बहस हो रही है। बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत इस मुद्दे को सबसे ज्यादा उठा रही हैं। अब कंगना ने सुशांत का एक पुराना पोस्ट शेयर किया है। इसमें सुशांत ने बॉलीवुड में मौजूद नेपोटिज्म पर लिखा है। 

सुशांत सिंह राजपूत का ये फेसबुक पोस्ट साल 2015 का है। उन्होंने लेखक लैरी कर्स्टन को कोट करते हुए लिखा- 'हम यहां अक्सर अपने परिवार के मेंबर्स को बढ़ावा देकर अपने फैमिली वैल्यू को बढ़ावा देते हैं।' इस पोस्ट के साथ सुशांत ने नेपोटिज्म और बॉलीवुड हैशटैग का इस्तेमाल किया है। 

कंगना रनौत ने सोशल मीडिया पर लिखा- 'एक प्रतिभाशाली मन की तकलीफ, उन्होंने नेपोटिज्म के सर्कस को देखने का फैसला किया। इससे लड़ने और इसमें खुद को ढालने के बजाए उसने हार मानना ज्यादा बेहतर समझा।'

सुशांत को नहीं हो रहा था सहन
कंगना रनौत ने इससे पहले टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा था- 'मैंने जब अंकिता से बात की तो उसने मुझे बताया कि सुशांत शुरुआत से ही काफी अपमानित महसूस कर रहा था। अब उससे सहन नहीं हो रहा थ।'

कंगना के मुताबिक- अंकिता उसे तब से जानती थीं जब वह सीरियल में काम कर रहा था। इसके बाद वह टॉप एक्टर बना, वह ऑडिशन के बाद ऑडिशन देता था, उसे कई रिजेक्शन मिले। हर फिल्ममेकर उसकी डेट के लिए झगड़ा करता था। वह जमीन से जोड़ा था, लेकिन मोटी खाल का नहीं था।

सुशांत केस में मदद के लिए तैयार 
सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की जांच में कंगना पुलिस को सहयोग करना चाहती हैं। कंगना रनौत के वकील ने कहा कि- कंगना जांच में सहायता करने के लिए 'इच्छुक और उत्सुक' है। हालांकि वह COVID-19 महामारी के कारण मुंबई नहीं जाएंगीं।

कंगना की टीम ने सुविधाजनक समय पर अपने बयानों की ऑनलाइन रिकॉर्डिंग के लिए इलेक्ट्रॉनिक माध्यम की व्यवस्था करने की पेशकश की है। इसके अलावा पुलिस बयान दर्ज करने के लिए मनाली में एक पुलिस अधिकारी को उसके घर भेज सकती है। 

अगली खबर