आपके काम की खबर: जानिए स्टॉक मार्केट और रियल एस्टेट में से कौन सा विकल्प है बेहतर

स्टॉक और रियल एस्टेट में निवेश भारत में दो सामान्य लॉन्ग टर्म निवेश विकल्प हैं। क्या आपने कभी विश्लेषण किया है कि इनमें से कौन-सा निवेश विकल्प (स्टॉक बनाम रियल एस्टेट) आपको आने वाले वर्षों में अमीर बना देगा? इन एसेट क्लास में अपना पैसा लगाकर आप कितनी संपत्ति जमा कर सकते हैं?

Investment tips
स्टॉक मार्केट बनाम रियल एस्टेट निवेश विकल्प (Pic: iStock) 

आमतौर पर यह तर्क दिया जाता है कि शेयरों में निवेश रियल एस्टेट निवेश से कहीं बेहतर है। क्या वास्तव में ऐसा है? इस प्रश्न का वास्तव में कोई सटीक उत्तर नहीं है क्योंकि यह व्यक्तिगत प्राथमिकताओं और वित्तीय उद्देश्यों पर निर्भर करता है। आइए इन दो लोकप्रिय निवेश विकल्पों के गुण और दोषों पर एक नजर डालें: स्टॉक बनाम रियल एस्टेट में निवेश।

स्टॉक्स में निवेश

स्टॉक्स में निवेश करने से आपको कंपनी में हिस्सेदारी मिलती है। स्टॉक निवेश जोखिम लेने वाले निवेशकों का हमेशा से पसंदीदा रहा है जो शेयर बाजार से बड़ा और बेहतर रिटर्न हासिल करना चाहते हैं। हम सभी जानते हैं कि शेयर बाजार जोखिम के अधीन हैं। लेकिन, जैसा कि कहा जाता है, "जितना अधिक जोखिम, उतना अधिक रिटर्न" तो शेयर बाजार से भी ऐसी ही उम्मीद की जा सकती है।

शेयरों पर लाभांश अर्जित करना और उन्हें सही समय पर बेचकर लाभ जोड़ना, आय का अच्छा स्रोत प्रदान करता है।

रियल एस्टेट में निवेश

रियल एस्टेट या अचल संपत्ति, एक टैंजिबल एसेट ने दशकों से निवेशकों के लिए लगातार धन अर्जित किया है। वाणिज्यिक हो या आवासीय, रियल एस्टेट में निवेश अधिक धन रखने वाले लोगों का पसंदीदा विकल्प रहा है।

एक निवेशक के रूप में, भारत के विभिन्न शहरों और स्थानों में रियल एस्टेट से रिटर्न काफी भिन्न हो सकता है। घर के अलावा जहां आप रहते हैं, यदि आप कोई अतिरिक्त संपत्ति किराए पर देने की योजना बना रहे हैं, तो यह आपको समय के साथ पूंजी वृद्धि के साथ नियमित किराये की आय प्रदान कर सकता है।

स्टॉक्स बनाम रियल एस्टेट में निवेशः तुलना

लॉन्ग टर्म निवेश- स्टॉक के साथ-साथ रियल एस्टेट दोनों में निवेश को लॉन्ग टर्म निवेश साधन माना जाता है। विशेषज्ञ आमतौर पर इन दोनों परिदृश्यों में काफी लंबी अवधि के लिए निवेशित रहने की सलाह देते हैं।

आपको रियल एस्टेट की तुलना में अपेक्षाकृत कम अवधि में शेयरों से कमाई करने का मौका मिल सकता है। लेकिन, बाजार में तेजी आने तक, आपको अपनी वास्तविक क्षमता अर्जित करने के लिए अपनी संपत्ति को अधिक वर्षों तक रखना पड़ सकता है।

तेज और सुविधाजनक- यहां कोई भी अनुमान लगा सकता है कि शेयरों में निवेश करना इतना तेज़ और सुविधाजनक है, और इसमें लर्निंग कर्व भी छोटा है। आपको बस एक प्रतिष्ठित स्टॉक ब्रोकर के साथ जुड़ना है, डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलना है, इसे अपने बैंक खाते से लिंक करना है और आप शुरुआत कर सकते हैं।

रियल एस्टेट निवेश एक लंबी प्रक्रिया है जिसमें अंतिम सौदा करने से पहले बहुत सारी कागजी कार्रवाई और गहन विश्लेषण शामिल है।

स्टॉक्स बनाम रियल एस्टेट में तरलता- रियल एस्टेट में निवेश की तुलना में स्टॉक या इक्विटी में निवेश उच्च तरलता प्रदान करता है। आपके पास बाजार समय में अपने स्टॉक निवेशों से ऑनलाइन बाहर निकलने का विकल्प है। आपको अपनी वर्तमान आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अपने सभी इक्विटी निवेशों को नहीं, बल्कि कुछ को खत्म करने का विकल्प भी रहता है।

लेकिन, जब आप अपना पैसा रियल एस्टेट में निवेश करते हैं, तो आप इसे जल्दी से नहीं निकाल सकते। संपत्ति को तुरंत बेचना संभव नहीं होगा। आपको बाजार के मजबूत होने का इंतजार करना होगा और वांछित लाभ प्राप्त करने के लिए उपयुक्त खरीदार की तलाश करनी होगी।

बाजार में उतार-चढ़ाव- स्टॉक के साथ-साथ रियल एस्टेट में निवेश से बाजार में उतार-चढ़ाव का खतरा रहता है। स्टॉक लंबे समय में उच्च धन उत्पन्न करने के लिए सिद्ध हुए हैं। यह मानव स्वभाव है कि चरम स्थितियों में अति प्रतिक्रिया करता है जिससे आवेगपूर्ण स्टॉक खरीदने / बेचने के फैसले होते हैं। इस वजह से बाजार के जोखिमों को वहन करते हुए मजबूत निवेश पोर्टफोलियो बनाने के लिए पर्याप्त अनुशासित होना आवश्यक है।

रियल एस्टेट को भी बाजार के उतार-चढ़ाव से दूर नहीं रखा जाता है। आप भारी मात्रा में मुनाफा हासिल कर सकते हैं, यहां बड़ा नुकसान उठा सकते हैं या यदि बाजार धीमा है तो अपना पैसा फंसा सकते हैं।

निवेश का विविधीकरण- शेयरों में निवेश करने से आपको कम मात्रा में भी अपने निवेश में विविधता लाने का मौका मिलता है। आप विभिन्न कंपनियों और इक्विटी साधनों के शेयरों में निवेश कर सकते हैं।

जबकि रियल एस्टेट निवेश में, विविधीकरण की कोई गुंजाइश नहीं है और इसके लिए पर्याप्त मात्रा में धन की आवश्यकता होती है, वह भी एकमुश्त।

स्टॉक बनाम रियल एस्टेट में निवेश: एक अंतिम फैसला
स्टॉक और रियल एस्टेट में निवेश के अपने फायदे और नुकसान हैं। दोनों में से किसी एक के साथ पैसा बनाने के लिए, इसके लिए योजनाबद्ध और व्यवस्थित रणनीति की आवश्यकता होती है। शेयरों और रियल एस्टेट, दोनों ही निवेश में आप अपने-अपने तरीके से यूनिक साबित हो सकते हैं।

हालांकि, जब हम सक्रिय रूप से ओवरऑल लाभ और आय सृजन क्षमता की तुलना करते हैं, तो शेयरों में निवेश निश्चित तौर पर बेहतर है।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि हाल तक रियल एस्टेट भारी पैसा कमाने का एक आकर्षक संस्करण हुआ करता था। लेकिन, इसकी चमक और आकर्षण बाजार में भारी गिरावट के कारण खोता जा रहा है।

मनोवैज्ञानिक रूप से लोग अपने हितों के आधार पर स्टॉक या रियल एस्टेट की ओर आकर्षित होते हैं। लेकिन, व्यावहारिक रूप से आपको अपने लॉन्ग टर्म वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए रणनीति बनाने की आवश्यकता है। इसके अलावा, संपत्ति के मालिक होने से व्यक्तिगत संतुष्टि मिलती है। लेकिन, अगर आपके पास पहले से ही एक है, तो आप निश्चित रूप से शेयरों में निवेश करके अपने पैसे को और बढ़ाने की उम्मीद कर सकते हैं।

(इस लेख के लेखक, TradeSmart के सीईओ विकास सिंघानिया हैं)
(डिस्क्लेमर:  ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर