क्या है आईपीओ और क्यों करें इसमें निवेश? जानिए इसके बारे में सबकुछ

मौजूदा समय में तेजी का दौर चल रहा है और आईपीओ के आने का मौसम है। आईपीओ में उचित रिसर्च के साथ निवेश करना चाहिए।

Initial Public Offering (IPO)
आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) (Pic: iStock) 

IPO: जब हम आईपीओ में निवेश करने के बारे में सोचते हैं तो इंफोसिस, रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा जैसी सभी कंपनियों के सफल आईपीओ के साथ भाग्य बनाने का विचार आता है। लेकिन रिलायंस पावर के दानव अभी भी हमें सताते हैं। तो हम जैसे रिटेल निवेशकों को क्या करना चाहिए? आइए हम आईपीओ (आरंभिक सार्वजनिक पेशकश) और एफपीओ (फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफरिंग) की प्रक्रिया और कारणों को समझते हैं। 

कंपनियां पब्लिक को स्टॉक क्यों जारी करती हैं?

  • विस्तार और विकास के लिए अतिरिक्त पूंजी जुटाना।
  • तरलता के लिए अतिरिक्त पूंजी प्राप्त करना।
  • अनुसंधान और विकास के लिए पूंजी जुटाना।
  • उनके मौजूदा कर्ज का भुगतान करने के लिए।
  • अपने प्रमोटरों की हिस्सेदारी को समाप्त करने के लिए।
  • आईपीओ के माध्यम से कंपनी के बारे में जन जागरूकता बढ़ाना।

सेबी (भारतीय प्रतिभूति विनिमय बोर्ड) पूरे 3 वर्षों के लिए कम से कम 3 करोड़ की नेट टैंजिबल एसेट्स और 3 साल के लिए डिस्ट्रिब्युशन प्रॉफिट जैसे कंपनियों के शेयरों को सूचीबद्ध करने से पहले कुछ मानदंड निर्धारित करता है और इस तरह सूची जारी रहती है।

वास्तविकता
आईपीओ निवेश एक जोखिम भरा दांव है क्योंकि स्टॉक जारी करने वाली कंपनी के बारे में बहुत सीमित ऐतिहासिक डेटा उपलब्ध होता है। इससे निर्णय लेने में कठिनाई होती है। रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस को उस कंपनी के आईपीओ के लिए बाइबिल के रूप में लिया जाना है। वे दिन गए जब सरकारी निकाय 1992 में कंट्रोलर ऑफ कैपिटल इश्यू को खत्म करने के साथ इश्यू प्राइस तय करते थे। इससे निवेशकों को अच्छा इश्यू प्राइस मिलता था। यह देखा गया है कि 70% की सफलता दर के साथ लिस्टिंग के तुरंत बाद शेयर को ऑफलोड करने से अधिक लाभ हुआ है। साल 2013 आईपीओ के लिए 12 साल में सबसे खराब साल रहा है।

तो क्या निवेशकों को आईपीओ में निवेश करने की हिम्मत करनी चाहिए?

आइए स्पष्ट तस्वीर प्राप्त करने के लिए कुछ परिदृश्यों का विश्लेषण करें।

इंफोसिस लिमिटेड - वर्ष 1993 में 95 रुपए की कीमत पर जारी किए गए सर्वश्रेष्ठ आईपीओ में से एक है। इसे अंडरसब्सक्राइब किया गया था लेकिन मॉर्गन स्टेनली ने अपनी 13% हिस्सेदारी खरीदकर इसे सब्सक्राइब होने में मदद किया था। सेबी के नियम के अनुसार सूचीबद्ध होने के लिए आईपीओ कम से कम 90% सब्सक्राइब होना चाहिए अन्यथा सभी सब्सक्रिप्शन मनी वापस करनी होती है। इसकी लिस्टिंग 60 फीसदी प्रीमियम के साथ 145 रुपए पर खुली। शेयर की कीमत 1999 में बढ़कर 8100 रुपए तक पहुंच गई थी और यह बजार में सबसे महंगा शेयर था जो 85 गुना बढ़ा है। और उसके बाद बोनस, लाभांश, विभाजन होता गया। उसके बाद से शेयर ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

रिलायंस पावर - इसके खुलने के पहले ही मिनट में पूरी तरह से सब्सक्राइब कर लिया गया था। लेकिन लिस्टिंग पर कीमत इसके इश्यू प्राइस से लगभग 17% गिर गई। बाकी आप इसके बारे में जानते हैं।

हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड - इसने एक एफपीओ जारी किया था जो 155 रुपए में खुला था, जो इसके बाजार मूल्य 266 रुपए के मुकाबले भारी छूट थी। कुछ ही समय में कीमत 155 रुपए से नीचे चली गई और सीएमपी 52 सप्ताह के उच्च स्तर 125 रुपए के साथ 100 रुपए से नीचे है।

तैयारी
उपरोक्त तीन मामलों को देखकर हम यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि आईपीओ निवेश उचित रिसर्च के साथ होना चाहिए जैसे कि आप सेकेंडरी मार्केट यानी पहले से सूचीबद्ध शेयरों में कैसे निवेश करते हैं।

  • व्यवसाय की प्रकृति को समझने के लिए।
  • कंपनी का राजस्व सृजन।
  • आईपीओ जारी करने के कारण
  • प्रमोटरों की पृष्ठभूमि।
  • निर्गम मूल्य पर छूट।
  • क्यूआईबी (योग्य संस्थागत खरीदार) का सब्सक्रिप्शन
  • इस मुद्दे में शामिल अंडरराइटर
  • आईपीओ कंपनी की पीयर ग्रुप तुलना।
  • अगर आप शॉर्ट टर्म गेन की तलाश में हैं तो सेक्टर एनालिसिस।
  • सेबी के साथ पंजीकृत क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों द्वारा आईपीओ ग्रेड।

इंफोसिस के मामले में इसके पास श्री नारायण मूर्ति और उनके उत्कृष्ट सहयोगियों के नेतृत्व में मजबूत व्यापारिक बुनियादी बातों और अच्छा कॉर्पोरेट प्रशासन था। रिलायंस पावर के शेयरों की लिस्टिंग जनवरी 2008 में हुई थी जब बाजार में मंदी का दौर शुरू हुआ था। यह सब्सक्रिप्शन मनी से पूरे भारत में 6 पावर प्रोजेक्ट विकसित करने जा रहा था। राजस्व सृजन में काफी समय लगेगा। उस समय तक यह सिर्फ एक वर्चुअल इकाई थी। निवेशक को छूट के धोखे में नहीं आना चाहिए जैसा कि हिंदुस्तान कॉपर के मामले में हुआ था और अपने शोध की उपेक्षा करें। चूंकि छूट गुणवत्ता पर है न कि कीमत पर।

तैयार रहें
वर्तमान में तेजी का दौर चल रहा है और आईपीओ के आने का मौसम है। इस जवह से निवेशकों को आईपीओ में निवेश से पहले जमीनी स्तर पर काम करना चाहिए। चूंकि, आईपीओ जारी करने वाली कंपनी के व्यवसाय की प्रकृति और भविष्य की लाभप्रदता को समझना कोई रॉकेट साइंस नहीं है। इससे आपको इंफोसिस जैसे अच्छे शेयरों को खोजने में मदद मिलेगी। लिस्टिंग लाभ प्राप्त करने के लिए आपको तुरंत स्टॉक से बाहर निकलने की चिंता करने की आवश्यकता नहीं होगी।

(इस लेख के लेखक, TradeSmart के सीईओ विकास सिंघानिया हैं)
(डिस्क्लेमर:  ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर