Covaxin: कोवैक्सीन को WHO से मिली इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी

Covaxin: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के तकनीकी सलाहकार समूह ने भारत बायोटेक की कोवैक्सिन को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी देने की सिफारिश की।

Covaxin
कोवैक्सीन 
मुख्य बातें
  • कोवैक्सिन को आपातकालीन उपयोग के लिए WHO की मंजूरी मिली
  • PM मोदी ने WHO के DG डॉ. टेड्रोस के साथ इस संबंध में बात की थी
  • भारत की कंपनी भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन का निर्माण किया है

Covaxin: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोवैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। 18 साल से ऊपर के लोगों को कोवैक्सीन लगाने की मंजूरी दे दी गई है। कोवैक्सीन भारत की स्वदेशी रूप से विकसित टीका है। ये देश में वर्तमान में बड़े पैमाने पर राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के लिए उपयोग किए जा रहे तीन COVID-19 वैक्सीन में से एक है। अन्य दो सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड और रूस के स्पुतनिक वी है।

WHO द्वारा बुलाई गई और दुनिया भर के नियामक विशेषज्ञों से बने तकनीकी सलाहकार समूह ने यह निर्धारित किया है कि Covaxin वैक्सीन कोविड से सुरक्षा के लिए WHO के मानकों को पूरा करती है, वैक्सीन का लाभ जोखिम से कहीं अधिक है और वैक्सीन का उपयोग दुनिया भर में किया जा सकता है। डब्ल्यूएचओ के स्ट्रेटेजिक एडवाइजरी ग्रुप ऑफ एक्सपर्ट्स ऑन इम्यूनाइजेशन (एसएजीई) द्वारा कोवैक्सिन वैक्सीन की भी समीक्षा की गई और 18 और उससे अधिक उम्र के सभी आयु समूहों में चार सप्ताह के अंतराल के साथ दो खुराक में इस टीके के उपयोग की सिफारिश की गई।

सरकारी सूत्रों का कहना है कि पीएम मोदी ने हाल ही में G20 समिट के दौरान WHO के डॉ. टेड्रोस के साथ मुलाकात के दौरान कोवैक्सीन की मंजूरी के लिए जोर लगाया था। रोम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि भारत अगले साल के अंत तक कोविड-19 टीके की पांच अरब खुराक का उत्पादन करने के लिए तैयार है। प्रधानमंत्री ने रेखांकित किया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा भारत में विकसित कोवैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए अधिकृत करने का फैसला लंबित है और सुझाव दिया कि इसे मंजूरी देने से भारत अन्य देशों की मदद कर सकता है। 

WHO ने अब तक 31 दिसंबर 2020 को आपातकालीन उपयोग के लिए फाइजर/बायोएनटेक वैक्सीन को सूचीबद्ध किया है। 15 फरवरी 2021 को दो एस्ट्राजेनेका/ऑक्सफोर्ड कोविड-19 टीके, एस्ट्राजेनेका-एसकेबीओ (कोरिया गणराज्य) और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित; और COVID-19 वैक्सीन Ad26.COV2.S को जैनसेन (जॉनसन एंड जॉनसन) द्वारा 12 मार्च 2021 को तैयार किया गया। इसने आपातकालीन उपयोग के लिए चीन के सिनोफार्म COVID-19 वैक्सीन को भी अपनी मंजूरी दे दी है।

गौर हो कि भारत ने जनवरी 2021 में कोवैक्सिन और कोविशील्ड को मंजूरी दी थी। भारत बायोटेक के Covaxin को हाल ही में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीए) से 2 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए आपातकालीन उपयोग की मंजूरी मिली है। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर