Coronavirus Delta: भारत में तबाही मचाने वाले कोरोना वायरस को WHO ने नाम दिया डेल्टा

दुनिया
ललित राय
Updated Jun 01, 2021 | 06:58 IST

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत में तबाही मचाने वाले कोरोना वायरस को डेल्टा नाम दिया है। WHO ने अलग अलग देशों में तबाही मचाने वाले वैरिएंट को अलग अलग नाम पहले ही दिए हैं।

Indian Variant Delta: तबाही वाले कोरोना वायरस के इंडियन वैरिएंट को नाम मिला डेल्टा, WHO ने किया नामकरण
विश्व स्वास्थ्य संगठन कोरोना वायरस के इंडियन वैरिएंट तो डेल्टा नाम दिया 

मुख्य बातें

  • भारत में तबाही मचाने वाले कोरोना वायरस को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने डेल्टा नाम दिया।
  • अलग अलग वैरिएंट को अलग अलग नाम दिए गए हैं।
  • इस समय भारत में कोरोना के मामलों में कमी आ रही है।

दुनिया के ज्यादातर मुल्क कोरोना के कहर का सामना कर रहे हैं। अप्रैल और मई में भारत में कोरोनी की दूसरी लहर ने जो तबाही मचाई थी वैसे तो अब उसमें कमी आ रही है। लेकिन उसके असर से जिस तरह की तस्वीरें दिखाई देती हैं वो दिल को झकझोर देती हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस चालाक है और वो तेजी से अपने रूप बदलता है। कोरोना वायरस के रूप बदलने की वजह से उसे कई तरह के नाम मिले हैं। उदाहरण के लिए यूके वैरिएंट, इंडियन वैरिएंट, अफ्रीकी वैरिएंट इत्यादि। इस संबंध में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इंडियन वैरिएंट का नाम डेल्टा दिया है। 

इंडियन वैरिएंट पर भारत सरकार का था कड़ा रुख
इस महीने की शुरुआत में, भारत सरकार ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को एक एडवाइजरी जारी की थी, जिसमें उन्होंने बी.1.617.2 स्ट्रेन को 'भारतीय संस्करण' के रूप में संदर्भित करने वाली सभी सामग्री को हटाने के लिए कहा था। इसी तरह के निर्देश सिंगापुर में अधिकारियों द्वारा सोशल मीडिया पर वायरस के 'सिंगापुर संस्करण' के संदर्भ में जारी किए गए थे।

WHO के संस्करण में इंडियन वैरिएंट का नाम नहीं
इस संबंध में जारी एक बयान में, सरकार ने इस महीने की शुरुआत में कहा, "यह स्पष्ट करना है कि डब्ल्यूएचओ (विषय/कौन) ने भारतीय संस्करण शब्द को बी.1.617 संस्करण (विषय/बी1617-वेरिएंट) के साथ नहीं जोड़ा है। कोरोनवायरस के अपने 32-पृष्ठ के दस्तावेज में इस मामले पर अपनी रिपोर्ट में 'इंडियन' शब्द का इस्तेमाल नहीं किया गया है।

इस तरह होता है नामकरण
डब्ल्यूएचओ द्वारा व्यापक परामर्श और विभिन्न संभावित नामकरण प्रणालियों की समीक्षा के बाद लेबल का चयन किया गया था। WHO ने इस उद्देश्य के लिए दुनिया भर के भागीदारों के एक विशेषज्ञ समूह को बुलाया। इस समूह में मौजूदा नामकरण प्रणालियों, नामकरण और वायरस टैक्सोनॉमिक विशेषज्ञों, शोधकर्ताओं और राष्ट्रीय अधिकारियों में विशेषज्ञता वाले व्यक्ति शामिल थे। पिछले साल अक्टूबर में भारत में पहली बार पाए जाने वाले स्ट्रेन को 'डेल्टा' का लेबल दिया गया है, ब्रिटेन में सितंबर 2020 में खोजे गए स्ट्रेन को 'अल्फा' और पिछले साल मई में दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले स्ट्रेन को 'बीटा' कहा गया है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर