फिर खुली इमरान की पोल, अफगानिस्तान में घायल तालिबान आतंकियों का पाक अस्पतालों में हो रहा है इलाज

दुनिया
आईएएनएस
Updated Jul 16, 2021 | 20:12 IST

आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान की हकीकत किसी से छिपी नहीं है। अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति ने पाकिस्तान पर तालिबान की मदद करने के जो आरोप लगाए थे वो सही साबित हो रहे हैं।

Taliban terrorists, who injured in Afghanistan are being treated in Pakistani hospitals
घायल तालिबान आतंकियों का पाक अस्पतालों में हो रहा है इलाज  |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • पाकिस्तान में भी सक्रिय तालिबान, अल कायदा से हैं संबंध
  • अफगानिस्तान में घायल तालिबान आतंकियों का इलाज पाक अपने अस्पतालों में कर रहा है

नई दिल्ली: अफगान तालिबान और उनके स्थानीय सहयोगी पाकिस्तान के सीमावर्ती क्षेत्रों में सक्रिय हैं। सूत्रों ने वीओए को बताया कि पाकिस्तान ने स्वीकार किया है कि अफगानिस्तान में मारे गए आतंकवादियों के शव पाकिस्तान पहुंचे और घायल तालिबान का इलाज स्थानीय अस्पतालों में किया जा रहा है।एक स्थानीय पाकिस्तानी चैनल, जिओ न्यूज के साथ 27 जून को एक साक्षात्कार में, पाकिस्तानी आंतरिक मंत्री शेख राशिद अहमद ने स्वीकार किया कि अफगान तालिबान के परिवार पाकिस्तान में रहते हैं। उन्होंने स्वीकार किया कि कभी-कभी उनके शव आते हैं और कभी-कभी वे यहां चिकित्सा उपचार के लिए अस्पतालों में आते हैं।

तालिबान के आतंकी पाकिस्तान में रहते हैं सक्रिय

 पाकिस्तान में तालिबान की गतिविधियों की जानकारी रखने वाले स्थानीय लोगों और प्रत्यक्षदर्शियों ने वीओए को पुष्टि की है कि बलूचिस्तान प्रांत के पश्तून इलाकों में आतंकवादियों के पनाहगाह हैं। बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा के दक्षिण-पश्चिमी शहर से 25 किमी दूर कुचलक के एक निवासी ने वीओए को बताया कि तालिबान के न केवल पाकिस्तानी प्रांत के मदरसों में ठिकाने हैं, बल्कि वे मस्जिदों में चंदा भी इकट्ठा करते हैं।

कई मदरसों में मिलती है पनाह

ये निवासी, जो नाम नहीं बताना चाहता था क्योंकि उसे आतंकवादियों द्वारा प्रतिशोध का डर था, उसने कहा कि कुचलक शहर के कुछ निवासी तालिबान के रैंक में हैं। उन्होंने कहा, 'सभी कबीलों (शहर में रहने वाले) के स्थानीय लोग उनके साथ हैं और कह रहे हैं कि वे अफगानिस्तान के इस्लामी अमीरात को स्थापित करने के लिए जेहाद कर रहे हैं।' कुचलक तालिबान से जुड़े कई मदरसों और मदरसों का घर है। अगस्त 2019 में, तालिबान नेता हिबतुल्लाह अखुंदजादा का छोटा भाई, कस्बे की एक मदरसा मस्जिद में हुए बम विस्फोट में मारे गए चार लोगों में शामिल था।

कुरैशी ने कही थी ये बात

 अफगान सरकार और अमेरिका लंबे समय से पाकिस्तान पर अफगान तालिबान के पनाहगाहों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते रहे हैं।पाकिस्तानी अधिकारियों ने पाकिस्तान में तालिबान के पनाहगाहों की मौजूदगी से बार-बार इनकार किया था। हालांकि, पिछले महीने स्थानीय अफगान टीवी, टोलो न्यूज के साथ एक साक्षात्कार में, पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने देश में तालिबान की उपस्थिति के लिए छिद्रपूर्ण सीमा और पाकिस्तान में रहने वाले लाखों अफगानों को दोषी ठहराया। कुरैशी ने कहा, 'एक बार जब वे वापस चले जाते हैं और फिर सीमा पार आवाजाही होती है, तो हमें इसके लिए और अधिक जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।'

मारे गए आतंकियों का पाकिस्तान में अंतिम संस्कार

पाकिस्तानी अखबार डॉन ने रविवार को खबर दी कि पेशावर शहर की पुलिस सोशल मीडिया पर साझा किए गए वीडियो की जांच कर रही है, जिसमें मोटरसाइकिल पर तालिबान के झंडे लिए लोगों के एक समूह को दिखाया गया है और अंतिम संस्कार के दौरान आतंकवादियों के लिए नारे लगाए जा रहे हैं। क्वेटा से 85 किमी पश्चिम में अफगानिस्तान के पास एक गांव पंजपई के निवासी ने वीओए को बताया कि अफगानिस्तान में लड़ाई में मारे गए लोगों के लिए अंतिम संस्कार और प्रार्थना शहर में नियमित रूप से होती है। उन्होंने कहा, 'अंतिम संस्कार होते हैं। (तालिबान) अंतिम संस्कार में भाषण देते हैं और शहीदों के परिवारों को बधाई देते हैं।'

उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान के साथ लड़ते हुए मारे गए एक कबायली नेता के बेटे के लिए अंतिम संस्कार और प्रार्थना की गई। निवासी ने कहा, 'वह और उसके पिता दोनों तालिबान के साथ थे। उनके पिता ईद के लिए घर लौट आए, लेकिन उनका बेटा अफगानिस्तान में रहा और मारा गया। स्थानीय लोगों ने दावा किया (बेटा) एक ड्रोन हमले में मारा गया था।' सोशल मीडिया पर साझा किए गए और वीओए द्वारा प्राप्त वीडियो में, सैकड़ों लोगों ने अंतिम संस्कार में भाग लिया, जहां तालिबान के सफेद झंडे लहराये गए थे।

क्वेटा और आसपास के इलाके बने गढ़

वीओए स्वतंत्र रूप से पोस्ट किए गए वीडियो की प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं कर सका। नाम ना छापने का अनुरोध करने वाले एक स्थानीय पत्रकार ने कहा कि मारे गए तालिबान को क्वेटा और आसपास के इलाकों में कब्रिस्तानों में दफनाया जाता है, जिसमें कुचलक, डुकी और पिशिन शामिल हैं। पत्रकार ने कहा, 'मस्जिदों में नमाज अदा की जाती है। इलाके में हर कोई इसे जानता है।' रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तानी सेना के एक सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर सैयद नजीर ने कहा कि पाकिस्तान ने पाकिस्तान में तालिबान की मौजूदगी को स्वीकार कर लिया है।

नजीर ने कहा, 'उनके घर, उनके परिवार या उनके बच्चे (पाकिस्तान में हैं)। उनकी शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच है। समूह पर पाकिस्तान का प्रभुत्व है।'  पिछले महीने जारी संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि अफगान तालिबान ने अल कायदा के साथ संबंध तोड़ने के अपने वादे पूरे नहीं किए हैं। रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि अल कायदा अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच सीमावर्ती इलाकों में सक्रिय है और अफगानिस्तान में तालिबान के तहत काम करता है। रिपोर्ट में कहा गया है, "इस समूह के उग्रवाद का एक ऐसा 'जैविक' या अनिवार्य हिस्सा बताया गया है कि इसे अपने तालिबान सहयोगियों से अलग करना असंभव नहीं तो मुश्किल होगा।"

अलकायदा से है ताल्लुक

 रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय उपमहाद्वीप में अल कायदा के ज्यादातर सदस्य अफगान और पाकिस्तानी हैं। सौफन सेंटर के सीनियर फेलो कॉलिन क्लार्क ने कहा कि अगर अल-कायदा "मुख्य रूप से (ए) अफगान-पाकिस्तानी घटना" बन जाता है, तो उसे "हराना मुश्किल" होगा। क्लार्क ने कहा, 'यह खासकर दक्षिण एशिया में अल कायदा जैसे स्थायित्व और दीघार्यु समूहों के लिए बेहद चिंताजनक है। जमीन पर सैनिकों के बिना, अमेरिका के पास समान उत्तोलन नहीं होगा। अगर अफगानिस्तान एक गृहयुद्ध में वापस उतरता है, तो तालिबान को अल कायदा की जरूरत है। उन्हें टीम की जरूरत है।'

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर