Indonesia के पहले राष्ट्रपति की बेटी सुकमावती सुकर्णोपुत्री ने 'इस्लाम' छोड़ अपनाया 'हिंदू धर्म'

Sukmawati Soekarnoputri News: इंडोनेशिया (Indonesia) में भी अलग-अलग धर्म को मानने वाले लोग रहते हैं इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी सुकमावती सुकर्णोपुत्री ने अपने धर्म परिवर्त को लेकर एक बहुत ही अहम निर्णय लिया है।

Sukmawati Sukarnoputri Religion
इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति की बेटी सुकमावती सुकर्णोपुत्री (फाइल फोटो)  |  तस्वीर साभार: YouTube
मुख्य बातें
  • 26 अक्टूबर को बाली अगुंग सिंगराजा में 'शुद्धि वदानी' नाम का कार्यक्रम होगा 
  • जहां सुकमावती सुकर्णोपुत्री इस्लाम छोड़ हिंदू धर्म अपनाएंगी
  • सुकमावती सुकर्णोपुत्री ने हिंदू धर्मशास्त्र को अच्छी तरह से पढ़ा है

नई दिल्ली: सुकमावती सुकर्णोपुत्री (Sukmawati Sukarnoputri) ने इस्लाम से हिंदू धर्म (Islam To Hindu Religion) में कन्वर्जन (conversion) की घोषणा की है, मीडिया रिपोर्टों के आधार पर ऐसा बताया जा रहा है, गौर हो कि सुकमावती इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति (First President of Indonesia) की बेटी हैं।

सुकमावती सुकर्णोपुत्री की दिवंगतदादी, इडा अयू न्योमन राय श्रीमबेन (Ida Ayu Nyoman Rai Srimben) ने उनके हिंदू धर्म को अपनाने के फैसले को प्रभावित किया वहीं जिस दिन धर्मांतरण समारोह होना है सुकमावती का 70वां जन्मदिन उसी दिन पड़ता है, बताते हैं कि सुकमावती ने इसे लेकर काफी स्टडी की है और हिंदू धर्मशास्त्र को अच्छी तरह से पढ़ा है।  

वह बीते कई वर्षों से हिंदू धर्म में शामिल होना चाहती थी

सुकमावती के हिंदू धर्म अपनाने को लेकर मंगलवार 26 अक्टूबर को बाली अगुंग सिंगराजा में 'शुद्धि वदानी' नाम का कार्यक्रम होगा जहां वे हिंदू धर्म अपनाएंगी वहीं सूत्रों के मुताबिक बताया जा रहा है कि इसके लिए उनके परिजन भी मान गए हैं, बताते हैं कि वह बीते कई वर्षों से हिंदू धर्म में शामिल होना चाहती थी।

सुकमावती ने हिंदू धर्मशास्त्र को अच्छी तरह से पढ़ा है

सुकमावती के वकील विटारियोनो रेजसोप्रोजो ने बताया कि इसका कारण उनकी दादी का धर्म है, उन्होंने यह भी कहा कि सुकमावती ने इसे लेकर काफी स्टडी की है और हिंदू धर्मशास्त्र को अच्छी तरह से पढ़ा है। बाली की यात्राओं के दौरान सुकमावती अक्सर हिंदू धार्मिक समारोहों में शामिल होती थीं और हिंदू धार्मिक हस्तियों के साथ बातचीत करती थीं। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर