उत्‍तर कोरिया के नेता का तुगलकी फरमान, कोरोना से बचाव के लिए होगा बिल्लियों, कबूतरों का खात्‍मा

खुद को अब तक 'कोरोना मुक्‍त' बताने वाले उत्‍तर कोरिया ने अब कबूतरों और बिल्लियों को मारने का आदेश दिया है, ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

उत्‍तर कोरिया के नेता का तुगलकी फरमान, कोरोना से बचाव के लिए होगा बिल्लियों, कबूतरों का खात्‍मा
उत्‍तर कोरिया के नेता का तुगलकी फरमान, कोरोना से बचाव के लिए होगा बिल्लियों, कबूतरों का खात्‍मा  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

मुख्य बातें

  • उत्‍तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग उन ने बिल्‍ल‍ियों, कबूतरों के खात्‍मे का आदेश दिया है
  • रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की सीमा पर उत्‍तर कोरिया के अधिकारियों को कबूतरों को शूट करते देखा गया
  • बताया जा रहा है कि किम इस बात को लेकर डरे हुए हैं कि जानवरों के जरिये वायरस देश में फैल सकता है

प्‍योंगयांग : दुनियाभर में कोरोना के कहर के बीच उत्‍तर कोरिया लगातार दावा करता रहा है कि उसने इस महामारी पर विजय पा रखी है और उसके यहां संक्रमण के मामले नहीं हैं। अप्रैल में उसने इस संबंध में एक रिपोर्ट भी विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन को सौंपी थी, जिसमें कहा गया कि वह अब तक इस महामारी से मुक्‍त है। अब सामने आया है कि कोविड प्रसार को रोकने के लिए उत्‍तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग-उन ने बिल्‍ल‍ियों और कबूतरों के सफाये का आदेश दिया है।

'एक्‍सप्रेस यूके' की एक रिपोर्ट के मुताबिक, उत्‍तर कोरिया में चीन की सीमा से लगते इलाकों में कई अधिकारियों को कबूतरों को शूट करते देखा गया है। इतना ही नहीं यहां बिल्‍ल‍ियों के खात्‍मे का आदेश भी अधिकारियों को दिया गया है, ताकि कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

चीन से सहमा उत्‍तर कोरिया!

इसकी एक प्रमुख वजह उत्‍तर कोरिया के शीर्ष नेता की यह धारणा बताई जा रही है कि पक्षी व अन्‍य किस्‍म के जानवर चीन की सीमा की तरफ से यहां प्रवेश कर सकते हैं, जिनके जरिये वायरस यहां पहुंच सकता है। ऐसे में बेहतरी यही है कि सीमा पार से आने वाले पक्षियों के साथ-साथ बिल्लियों का भी खात्‍मा कर दिया, जो अमूमन घरों में घूमती रहती हैं।

उत्‍तर कोरिया के शीर्ष नेता का यह आदेश ऐसे समय में आया है, जबकि कुछ दिनों पहले ही राजधानी प्‍योंगयांग के कुछ बड़े अस्‍पतालों में चीनी दवाओं पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की गई थी। इस आदेश के जारी होने के बाद प्‍योंगयांग के अस्‍पतालों में मौजूद चीनी दवाओं को नष्‍ट कर दिया गया था।

उत्‍तर कोरिया के शीर्ष नेता ने देश में शोधकर्ताओं को कोविड-19 रोधी चीनी वैक्‍सीन के परीक्षण से भी रोक दिया था और अपना स्‍वदेशी वैक्‍सीन विकसित करने के लिए कहा था।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर