ISKCON Temple Attack:बांग्लादेश में अब 'इस्कॉन मंदिर' पर भीड़ का हमला, श्रद्धालुओं से मारपीट भी की गई

Bangladesh ISKCON temple attack:बांग्लादेश में दुर्गा पंडालों पर हमले के बाद शुक्रवार को एक बार फिर अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय और उनके प्रमुख धार्मिक स्थल को निशाना बनाया गया। 

ISKCON TEMPLE BNGLADESH ATTACK
इस्कॉन ने बांग्लादेश सरकार से सुरक्षा की मांग की है  |  तस्वीर साभार: Twitter

नई दिल्ली: बांग्लादेश में एक बार फिर उपद्रवियों ने हिंदुओं के मंदिर को निशाना बनाया है,नोआखाली में भीड़ ने इस्कॉन मंदिर पर हमला कर दिया और जमकर तोड़फोड़ की, इस्कॉन ने बांग्लादेश सरकार से सुरक्षा की मांग की है।इस्कॉन की ओर से एक ट्वीट में हमले की जानकारी देते हुए भयावह तस्वीरें जारी की गई हैं, बताया जा रहा है कि भीड़ ने पार्थ दास नाम के इस्कॉन के एक सदस्य की हत्या भी कर दी, उनका शव मंदिर के बगल से मिला है।

ट्वीट में कहा गया है, 'बांग्लादेश के नोआखाली में आज इस्कॉन मंदिर और श्रद्धालुओं पर भीड़ ने हिंसक हमला किया। मंदिर को काफी नुकसान पहुंचा है और कई श्रद्धालुओं की हालत गंभीर बनी हुई है। हम  बांग्लादेश सरकार से हिंदुओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने और दोषियों को न्याय के दायरे में लाने की मांग करते हैं।'

वहीं इससे पहले बांग्लादेश के चांदपुर के हाजीगंज उपजिला में बुधवार रात दुर्गा पूजा मंडपों पर हमले और पुलिस-भीड़ के बीच हुई झड़प के मामले में चांदपुर और चटगांव में कुल 16 लोगों को हिरासत में लिया गया है, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई। पुलिसकर्मियों पर हमले के बाद स्थानीय प्रशासन ने हाजीगंज बाजार इलाके में धारा 144 लागू कर दी है।

सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर पोस्ट की गई तस्वीरों ने पूरे देश में अशांति फैला दी

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने यहां हिंदुओं के सबसे बड़े त्योहार दुर्गा पूजा के दौरान कोमिला मंदिर में एक हिंदू देवता के चरणों में कुरान की नकली तस्वीरें फैलाकर सांप्रदायिक अशांति फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का वादा किया है। चांदपुर में पुलिस की गोलीबारी में चार दंगाइयों की मौत हो गई, जब वे मंदिरों पर हमला करने और दुर्गा पूजा पंडालों में तोड़फोड़ करने गए थे, और कट्टरपंथी इस्लामवादियों ने दुर्गा पूजा उत्सव को रोकने की मांग करते हुए 'इस्लाम का अपमान' करने का आरोप लगाते हुए एक बड़ा शोर मचाया।

कॉक्स बाजार में पूजा स्थलों और हिंदू घरों पर हमलों पर नौ लोग हिरासत में

दो अलग-अलग जांच निकायों का गठन किया गया है, जबकि पुलिस ने चांदपुर में हुई घटना के संबंध में सात लोगों को हिरासत में लिया है, इसके अलावा कॉक्स बाजार में पूजा स्थलों और हिंदू घरों पर हमलों पर नौ लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस ने बताया कि उन्होंने आयोजन स्थल के मुख्यद्वार को तोड़ा था, लेकिन कॉक्स बाजार के मुख्य पूजा स्थल को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा सके। पुलिस ने बताया कि हमलावरों ने कॉक्स बाजार के कुछ अन्य हिस्सों में भी मार्च किया।

 'कुछ लोग धार्मिक रूप से अंधे होते हैं'

हसीना ने कहा, 'कुछ लोग धार्मिक रूप से अंधे होते हैं और वे हमेशा सांप्रदायिक संघर्ष पैदा करना चाहते हैं। ये लोग न केवल मुस्लिम समुदाय के हैं, बल्कि अन्य सभी धर्मों के भी हैं। अगर हम सभी मिलकर काम करते हैं, तो वे कोई नुकसान नहीं कर सकते।' बांग्लादेश के गृहमंत्री असदुज्जमां खान कमाल ने गुरुवार को बताया कि इस घटना की जांच के लिए दो अलग-अलग जांच निकायों का गठन किया गया है, एक स्थानीय प्रशासन द्वारा और दूसरी जिला पुलिस द्वारा।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर