Coronavirus in China: 'पाबंदियां हटीं तो चीन में भयंकर कहर बरपा सकता है कोरोना, मेडिकल सिस्‍टम भी हो जाएगा फेल'

दुनियाभर में कोरोना वायरस के ओमीक्रोन वैरिएंट को लेकर चिंताओं के बीच विशेषज्ञों ने आगाह किया है कि यहां पाबंदियों में अगर ढील दी गई तो कोविड फिर से कहर बरपा सकता है और यह पहले से कहीं अधिक भीषण स्थिति होगी, जिसका बोझ यहां की स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍थाएं नहीं सहन कर पाएंगी।

'पाबंदियां हटीं तो चीन में भयंकर कहर बरपा सकता है कोरोना, मेडिकल सिस्‍टम भी हो जाएगा फेल'
'पाबंदियां हटीं तो चीन में भयंकर कहर बरपा सकता है कोरोना, मेडिकल सिस्‍टम भी हो जाएगा फेल'  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

बीजिंग : दुनिया के कई हिस्‍सों में कोविड के कहर और कोरोना वायरस के नए वैरिएंट Omicron की चिंताओं के बीच चीन को लेकर एक चेताने वाली र‍िपोर्ट सामने आई है, जिसमें कहा गया है कि इस एशियाई मुल्‍क में अगर पाबंदियों में ढील दी गई तो यहां कोरोना वायरस एक बार फिर से भीषण कहर बरपा सकता है। यह अब तक यहां कोरोना वायरस से पैदा हुए हालात से भी अधिक गंभीर व घातक स्थिति होगी, जिसका बोझ देश का मेडिकल सिस्‍टम नहीं सहन कर पाएगा।

यह रिपोर्ट पेकिंग यूनिवर्सिटी के गणितज्ञों ने तैयार की है, जिसमें चीन को यात्रा प्रतिबंधों में छूट को लेकर आगाह किया गया है और कहा गया है कि चीन, जिसने अभी अपने अधिकतर हिस्‍सों को दुनिया के लिए बंद कर रखा है, अगर यहां यात्रा पाबंदियों में ढील दी जाती है तो यहां स्थिति विकराल हो सकती है और कोरोना वायरस संक्रमण के रोजाना तकरीबन 6.30 लाख केस सामने आ सकते हैं। चीन ने अभी कोविड केस को लेकर 'जीरो टॉलरेंस' की नीति अपना रखी है, जिससे जारी रखने की अनुशंसा रिपोर्ट में की गई है और ब्रिटेन तथा फ्रांस का अनुसरण नहीं करने की सलाह दी गई है, जहां पाबंदियों में कई छूट बीते कुछ दिनों में दी गई है।

ओमीक्रोन वैरिएंट को  लेकर बढ़ी चिंता

यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है, जबकि दुनियाभर में कोरोना वायरस के ओमीक्रोन वैरिएंट को लेकर च‍िंता की लहर है। 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में इस वैरिएंट के पहले मामले की पुष्टि के बाद से यह अब तक बोत्‍सवाना, ब्रिटेन, इजरायल, हॉन्‍गकॉन्‍ग, नीदरलैंड में इसके मामले सामने आ चुके हैं, जिसके मद्देनजर अमेरिका, रूस, ब्रिटेन सहित कई देशों ने अफ्रीकी देशों से आने वाली फ्लाइट्स रोक दी है। WHO ने इसे 'चिंताजनक' और तेजी से फैलने वाला वैरिएंट बताया है। साथ ही दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र के देशों को इसे लेकर खास तौर पर आगाह किया है और टीकाकरण सहित कोविड से बचाव के लिए अन्‍य एहतियाती उपायों को अपनाने की अपील की।

यहां उल्‍लेखनीय है कि कोरोना वायरस का सबसे पहला मामला नवंबर 2019 में चीन के वुहान में सामने आया था। कोविड के मामलों में बढ़ोतरी के बीच चीन ने वुहान में लॉकडाउन लगा दिया था। हालांकि इसके बाद भी चीन के कई हिस्‍सों में कोविड का संक्रमण फैल चुका था। चीन ने इसके बाद सख्‍त पाबंदियां लगाईं, जो कई क्षेत्रों में अब भी जारी है। इन सबके बीच चीन में राजधानी बीजिंग सहित कई अन्‍य शहरों में भी कोविड के मामलों में एक बार फिर बढ़ोतरी देखी जा रही है। शनिवार को यहां कोविड के 23 नए मामले सामने आए, जिनमें 20 मामले अन्य देशों से आए। चीन में अबतक कोविड से 4,636 मरीजों की मौत हुई है, जबकि कुल कोविड केस यहां 98,631 हैं।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर