वाराणसी: लॉकडाउन से ठप पड़ा साड़ी का बिजनेस, 'आत्मनिर्भर भारत' से प्रेरित होकर PPE किट बनाने लगी कंपनी

Varanasi: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में साड़ियों के व्यापार में घाटे के चलते एक साड़ी बनाने वाली कंपनी ने PPE किट्स बनाने का काम शुरू किया है।

ppe kit varanasi
साड़ी वाली कंपनी बना रही PPE किट  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन से कई बिजनेस पर असर पड़ा
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस आपदा के समय में आत्मनिर्भर भारत की बात की
  • पीएम मोदी ने लोकल उत्पादों का गर्व से प्रचार करने करने के लिए कहा

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में साड़ी बनाने वाली कंपनी ने व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (PPE) का निर्माण शुरू कर दिया है। साड़ी निर्माण कंपनी के मालिक गोविंद अग्रवाल का कहना है कि हमारा व्यवसाय लॉकडाउन के बाद घाटे में आ गया था। मैं आत्मनिर्भर भारत के विचार से प्रेरित हुआ और पीपीई का निर्माण शुरू कर दिया। हम एक किट 500 रुपए में बेच रहे हैं।

गोविंद अग्रवाल ने कहा, 'जब लॉकडाउन की वजह से दो महीने बाद हमने व्यापार शुरू किया तो देखा कि व्यापार बंद सा पड़ गया है। मोदी जी का आत्मनिर्भर भारत का भाषण सुना फिर हमने PPE किट्स का काम शुरू किया।' 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 मई को देश को संबोधित करते हुए आत्मनिर्भर भारत बनाने का आह्वान किया था। प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए पांच स्तंभों का उल्‍लेख किया। उन्होंने कहा कि सभी सेक्‍टरों में साहसिक सुधार देश को आत्मनिर्भरता की ओर ले जाएंगे। यह हमारे 'लोकल उत्पादों' का गर्व से प्रचार करने और उन्हें 'वैश्विक' बनाने का समय है। 

कोविड काल से पहले और बाद की दुनिया का उल्‍लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 21वीं सदी को भारत की सदी बनाने के सपने को पूरा करने के लिए यह सुनिश्चित करते हुए आगे बढ़ना है कि देश आत्मनिर्भर हो जाए। संकट को एक अवसर में बदलने की बात कहते हुए उन्होंने पीपीई किट और एन-95 मास्क का उदाहरण दिया, जिनका भारत में उत्पादन लगभग नगण्य से बढ़कर 2-2 लाख पीस प्रतिदिन के उच्‍च स्‍तर पर पहुंच गया है।

Varanasi News in Hindi (वाराणसी समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर