Varanasi Mental Hospital: वाराणसी के मानसिक अस्पताल में अब रोगियों के लिए बनेगा अलग वार्ड, मिलेंगी सुविधाएं

Varanasi Mental Hospital: वाराणसी के मानसिक अस्पताल में रोगियों के लिए अब अलग से क्रिटिकल केयर वार्ड बनेगा। पांच मौत होने के बाद सुझाव कमेटी की ओर से यह सुझाव दिया गया है।

separate critical care ward for patients in mental hospital of Varanasi
वाराणसी के मानसिक अस्पताल में बनेगा अलग वार्ड  |  तस्वीर साभार: BCCL
मुख्य बातें
  • वाराणसी के मानसिक अस्पताल में मरीजों के लिए बनेगा क्रिटिकल केयर वार्ड
  • शुगर, बीपी, किडनी आदि से पीड़ित मरीजों का होगा इलाज
  • महिलाओं के लिए अलग और पुरुषों के लिए अलग होगा अस्पताल में वार्ड

Varanasi Mental Hospital: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में मानसिक अस्पताल से जुड़ी एक अच्छी खबर है। अब अस्पताल में रोगियों के लिए अलग से क्रिटिकल केयर वार्ड बनेगा, जिसमें कई जरूरी सुविधाएं भी मिलेंगी। अभी तक अगर कोई मरीज गंभीर हालत में होता था तो उसे अस्पताल में ही एक सेक्शन में रखा जाता था। लेकिन अब इसी को क्रिटिकल केयर में तब्दील किया जाएगा। जांच कमेटी की ओर से इसका सुझाव भी दिया गया है।  

मिली जानकारी के अनुसार, वाराणसी के पांडेयपुर इलाके में स्थित मानसिक अस्पताल में  शुगर, बीपी, किडनी आदि से पीड़ित मरीजों के लिए अलग क्रिटिकल केयर वार्ड होगा। 
महिला और पुरुष, दोनों के लिए अलग सेक्शन बनाए जाएंगे। 

जिला अधिकारी ने बनाई थी कमेटी

दरअसल, हाल ही में मानसिक अस्पताल में पांच मरीजों की मौत हो गई थी, जिसके बाद हड़ंकप मच गया। मौतों के बाद अस्पताल में क्या-क्या जरूरी व्यवस्थाएं होनी चाहिए, इसे लेकर जिला अधिकारी ने एडीएम प्रोटोकॉल और सीएमओ के नेतृत्व में कमेटी का भी गठन किया था। 

क्रिटिकल केयर वार्ड बनाने की खास जरूरत

कमेटी की ओर से सुझाव दिया गया कि अस्पताल में गंभीर मरीजों के लिए क्रिटिकल केयर वार्ड बनाने की खास जरूरत है। अगर मानसिक रोग के साथ मरीज शुगर, बीपी, किडनी या दूसरी किसी बीमारी से पीड़ित है तो उसे रखा जाएगा। सीएमओ डॉक्टर संदीप चौधरी ने इस संबंध में कहा कि धीरे-धीरे सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी, जिससे गंभीर मरीजों की आसानी से निगरानी की जाएगी। 

मुख्य कोषगार अधिकारी एसके गौतम ने किया दौरा

बता दें कि शुक्रवार को मुख्य कोषगार अधिकारी एसके गौतम और उनकी टीम मेंटल अस्पताल पहुंची। जहां उन्होंने रजिस्टर मंगवाकर अस्पताल में आने वाली दवाओं का रिकॉर्ड खंगाला। साथ ही अस्पताल में होने वाली खेती से क्या-क्या उपज हो रही है, इस संबंध में भी जानकारी ली। वहीं अस्पताल में मरीजों के लिए जो दूध आ रहा है, उसकी भी जानकारी ली है। जानकारी लेने के बाद अधिकारी वापस लौट गए।

Varanasi News in Hindi (वाराणसी समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर