वाराणसी का पद्मभूषण पंडित राजन मिश्रा कोविड अस्पताल 10 मई से होगा शुरू

वाराणसी के बीएचयू के एम्पीथियेटर स्थित पद्मभूषण पंडित राजन मिश्रा कोविड अस्पताल डीआरडीओ और सेना द्वारा बनाया गया है अस्पताल कोरोना मरीजों के लिए शुरू हो जाएगा।

Pandit Rajan Mishra covid Hospital, Pandit Rajan Mishra covid Hospital Varanasi, Padmabhushan Pandit Rajan Mishra covid Hospital, पद्मभूषण पंडित राजन मिश्रा कोविड अस्पताल,वाराणसी,योगी आदित्यनाथ
पद्मभूषण पंडित राजन मिश्रा कोविड अस्पताल  

मुख्य बातें

  • वाराणसी का पद्मभूषण पंडित राजन मिश्रा कोविड अस्पताल 10 मई से होगा शुरू
  • डीआरडीओ और सेना द्वारा बनाया गया अस्पताल कोरोना मरीजों के लिए शुरू हो जाएगा
  • 18 वर्ष से ऊपर के लोगो का सोमवार से 18 जनपदों में वैक्सिनेशन का कार्यक्रम होगा

वाराणसी : वाराणसी के बीएचयू के एम्पीथियेटर स्थित पद्मभूषण पंडित राजन मिश्रा कोविड अस्पताल का निरीक्षण  रविवार  वाराणसी  सीएम योगी आदि‍त्‍यनाथ ने किया। उन्होंने कहा 10 मई से डीआरडीओ और सेना द्वारा बनाया गया अस्पताल कोरोना मरीजों के लिए शुरू हो जाएगा। इसके लिए  युद्ध स्तर पर काम चल रहा है। उन्होंने जानकारी दी की 1 मई से 18 वर्ष के ऊपर के लोगों के टीकाकरण का काम चल रहा है।

18 जनपदों में वैक्सिनेशन का कार्यक्रम

अब  सोमवार से 18 जनपदों में वैक्सिनेशन का कार्यक्रम होगा । इनमें सात जगहों पर पहले  से  ही टीकाकरण का काम चल रहा था। सीएम योगी ने बताया कि  उत्तर प्रदेश में 1 करोड़ 37 लाख से अधिक लोगों को जो 45 वर्ष से ऊपर के है ,उनको अभी तक वैक्सीन लगाई जा चुकी है। 18 वर्ष से अधिक एक लाख लोगो से ज़्यादा  लोगो को टीका अब तक उपलब्ध कराया जा चुका  है।

आठ दिनों  में 77 हज़ार पॉजिटिव केस कम

उन्होंने बताया कि 30 अप्रैल को उत्तर  प्रदेश में कुल एक्टिव केस तीन लाख दस  हज़ार  थे। जो आज घट कर  2 लाख 33  हज़ार तक आगए है। आठ दिनों  में 77 हज़ार पॉजिटिव केस कम हुए है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी के टिकरी गाँव जाकर होम आइसोलेशन के मरीजों का हाल चाल जाना और कोरोना की  दवाओं की किट बाटी।सीएम योगी ने वाराणसी मंडल के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक भी किया।

पहले के मुकाबले कोरोना संक्रमण कम

सीएम योगी ने कहा जो मंत्र सभी राज्यों को दिए गए थे।  टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट को अपनाते हुए उत्तर प्रदेश में कोरोना के दूसरी लहर के रोकथाम में काफी हद तक सफलता प्राप्त हुई है। 30 अप्रैल को उत्तर प्रदेश के  अंदर में 3 लाख दस हजार एक्‍टि‍व केस थे, आज यह घटकर के 2 लाख 33 हजार तक आ गए हैं। यानी आठ दिन के अंदर 77 हजार एक्टिव केस प्रदेश में कम हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सर्वाधिक कोरोना के केस 24 अप्रैल को आए थे, जो 38 हजार केस  थे। धीरे-धीरे करके केस काम होते गए।

प्रदेश में कुल एक्टिव 23000 पॉजिटिव केस आये है। रिकवरी बढ़ी है। पॉजिटिविटी  काफी काम हुई है। सीएम ने कहा वाराणसी जनपद और वाराणसी मंडल की समीक्षा में भी आशातीत परिणाम दिखाई दिए हैं। वाराणसी में पिछले एक सप्ताह में पॉजिटिव केस काफी कम हुए हैं। रिकवरी  बढ़ी है और जो अभियान पूरे प्रदेश के अंदर  चल रहा उसके भी परिणाम अब आते हुए  दिख रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  बताया कि पिछले एक सप्ताह में अकेले वाराणसी मंडल में जो एक्टिव केस कम हुए हैं ,यह लगभग 9285 हैं, जिसमें सर्वाधिक 4500 से अधिक जनपद वाराणसी में  हैं। पहली  वेव की तुलना में दूसरी  वेव काफी तीव्र संक्रामक  रहा है। तेजी से संक्रमण फैलने से  लोगो में भय की आशंका हुई  है, इसमें ऑक्सीजन की डिमांड  बढ़ी। उन्होने कहा हम सभी पीएम मोदी के आभारी हैं जिन्होंने पूरे देश में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने के लिए ऑक्सीजन एक्सप्रेस और इंडियन एयरफोर्स के विमानों का प्रयोग करते हुए  ऑक्सीजन की आपूर्ति को हर एक राज्य तक पहुंचने का काम किया।

सीएम योगी ने बताया कि सामान्य दिनों में उत्तर प्रदेश के अस्पतालों में  300 से 400 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की डिमांड थी. जिससे उनकी आवश्यकता पूरी हो  जाती थी। लेकिन जिस रफ़्तार से संक्रमण फैला ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ी। जिससे ऑक्सीजन एक्सप्रेस ,और इंडियन एयरफोर्स के विमानों से 1000 मीट्रिक  टन की आपूर्ति यूपी में हो रही है. जिसमें वाराणसी समेत आसपास के जिलों में भी ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है। हर एक स्तर पर संसाधन बढ़ाने के प्रयास हो रहे हैं, ये एक महामारी है, सरकार और समाज़ दोनों  मिल कर काम करेंगे  तो सार्थक परिणाम आएगा।

उन्होंने कहा हमारे  कोरोना वॉरियर्स हेल्थ वर्कर्स  बेहतर कार्य कर रहे हैं। कोरोना से बचाव के लिए देश के अंदर दो स्वदेशी वैक्सीन पहले ही लांच की जा चुकी है, जिसेसे टीकाकरण  का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। अब तीसरी वैक्सीन के लिए भी भारत सरकार ने अपनी सहमति दे दी है। उन्होंने बताया कि एक करोड़ 37 लाख से अधिक लोगों को  जो 45 वर्ष से ऊपर है ,उनको अभी तक वैक्सीन लगाई जा चुकी है।और  18 वर्ष से अधिक  एक लाख लोगो से अधिक लोगो को वैक्सीन अब तक उपलब्धकराया जा चुका  है। 45 साल से ऊपर वालो के लिए अभी तक 4500 से अधिक केंद्र हर जनपद में चल रहे है। वैक्सीन की वेस्टेज कि शिक़ायत को दूर करते हुए न्यूनतम स्तर पर लाया गया है ,जो 2 से 3 प्रतिशत रह गई है। सोमवार से 18 जनपदों में वैक्सिनेशन का कार्यक्रम जिसमे 7  जनपद पहले से थे। 11 नए  बढ़ाए गए हैं। जिससे कोरोना चेन  को ब्रेक करना है। इस लिए सबको  वैक्सीन लगाना है.काशी इस समय सबसे बड़ा सेण्टर है। पूर्वी उतार प्रदेश ,बिहार व  अन्य राज्यों  लिए बीएचयू का सुपर स्पेशलिस्ट अस्पताल लेवल 3 स्टार का है जो  कोरोना के मरीजों कि जान बचाने में वरदान साबित हो रहा  है। जो प्रधानमंत्री के अनुकम्पा से बन कर तैयार हुआ।

उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील किया कि केंद्र और प्रदेश सरकार हर स्तर से लोगों के मदद करने की प्रयास कर रही है। निगरानी समितियां गांव-गांव जाकर लोगं को ट्रेस करने का कार्य कर रही है। इसके अलावा हर व्यक्ति कोविड प्रोटोकॉल का पालन जरूर करें और वैक्सीन जरुर लगवाएं, क्योंकि यही हमारा सुरक्षा कवच है।सरकार अपने स्तर पर हर काम कर रही है। हाई रिस्क कैटेगरी के लोग बाहर न आए। वैक्सीन एक सुरक्षा कवच है ,और बचाव ही सबसे बड़ा हथियार है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी के टिकरी गाँव जाकर होम आइसोलेशन के मरीजों का हाल चाल जाना और कोरोना की  दवाओं की किट बाटी।साथ ही साफ़ सफ़ाई का निर्देश भी दिया।


विमान निर्माता कम्पनी बोइंग भी गोरखपुर में बनाएगी 200 बेड का कोविड अस्पताल

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर अंतरराष्ट्रीय विमान निर्माता कंपनी बोइंग गोरखपुर में 200 बेड का डेडिकेटेड कोविड अस्पताल बनाएगी। बोइंग कम्पनी के प्रस्ताव पर जिला प्रशासन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में स्थान मुहैया कराने की तैयारी में जुट गया है। संभावना व्यक्त की जा रही है कि मुख्यमंत्री सोमवार को इस सिलसिले में एम्स के भी दौरा कर सकते हैं बोइंग कम्पनी ने सभी 200 बेड आईसीयू युक्त अस्पताल बनाने का प्रस्ताव दिया है। प्रदेश सरकार द्वारा सरकारी संसाधनों के साथ-साथ विभिन्न कॉर्पोरेट व मल्टी नेशनल कंपनियों के सहयोग से प्रदेश में चिकित्सीय सुविधाओं के विस्तार की दिशा में तेजी से कार्य किया जा रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस संबंध में अधिकारियों को निर्देशित किया है कि कोविड अस्पतालों को क्रियाशील करने की प्रक्रिया में तेजी लाई जाए।

ओवरचार्जिंग पर हो कड़ी कार्रवाई : मुख्यमंत्री योगी
गोरखपुर में इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एन्ड कंट्रोल सेंटर तथा स्पोर्ट्स कॉलेज में प्रस्तावित कोविड अस्पताल के स्थान का निरीक्षण करने के बाद देर शाम गोरखनाथ मंदिर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों के साथ कोरोना नियंत्रण को लेकर संक्षिप्त बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना की जांच व इलाज में सरकार द्वारा तय रकम से अधिक रुपया मिलने की शिकायतों का अधिकारी गम्भीरता से संज्ञान लें। ओवरचार्जिंग करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित होनी चाहिए।

Varanasi News in Hindi (वाराणसी समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर