बायर्न म्‍यूनिख ने छठी बार जीता यूएफा चैंपियंस लीग खिताब, पीएसजी को रौंदकर लगाया रिकॉर्ड्स का अंबार

Bay vs PSG: बायर्न म्‍यूनिख ने पीएसजी को मात देकर छठी बार यूएफा चैंपियंस लीग खिताब अपने नाम किया। बायर्न ने 100 प्रतिशत जीत का रिकॉर्ड रखा। उसने 30 मैच खेले, जिसमें 29 जीते जबकि एक ड्रॉ रहा।

bayern munich squad with uefa champions league trophy
यूएफा चैंपियंस लीग ट्रॉफी के साथ बायर्न म्‍यूनिख 

मुख्य बातें

  • बायर्न म्‍यूनिख ने छठी बार चैंपियंस लीग खिताब जीतकर इतिहास रचा
  • बायर्न म्‍यूनिख ने 100 प्रतिशत जीत का रिकॉर्ड रखते हुए खिताब अपने नाम किया
  • बायर्न म्‍यूनिख चैंपियंस लीग इतिहास की पहली टीम बनी, जिसने 100 प्रतिशत जीत के साथ खिताब जीता

लिस्‍बन: जैसे ही फाइनल व्‍हिसल बजी, बेयर्न म्‍यूनिख टीम, स्‍क्‍वाड, स्‍टाफ और छोटी यात्रा करने वाली टीमों को एस्‍टाडियो डा लुज में आने की अनुमति मिली। सभी जश्‍न मनाने लगे और मैदान में खुशी के साथ झूमने लगे। मगर एक व्‍यक्ति इसमें अलग खड़ा रहा। बायर्न म्‍यूनिख के डेविड अल्‍बा जश्‍न में शामिल नहीं हुए। इससे विपरीत वह पेरिस सेंट जर्मेन के स्‍ट्राइकर नेमार के आंसूओं को पोछने में लग गए। उन्‍होंने नेमार को अपने से दूर जाने नहीं दिया। वह अपने टीम के साथियों के साथ जश्‍न मनाने नहीं गए। जब भी दिखे कि नेमार की आंखों से आंसू आने वाले हैं, अल्‍बा उन्‍हें अपने पास खींच लेते। अल्‍बा पीएसजी के नेमार के कान में कुछ फुसफुसा भी रहे थे। शायद मैच हारने पर संवेदना प्रकट करके उन्‍हें शक्ति देना चाह रहे हो।

इस मुकाबले में किसी की मौत नहीं हुई, बस पेरिस सेंट जर्मेन के खिताब जीतने के सपने और अरमान अगले साल तक के लिए स्‍थगित हो गए। बायर्न म्‍यूनिख ने छठी बार यूएफा चैंपियंस लीग का खिताब जीता। बायर्न म्‍यूनिख ने लिवरपूल की बराबरी की, जिसने भी 6 बार यह खिताब जीता है। सिर्फ एसी मिलान और रियल मैड्रिड ने ज्‍यादा बार यह खिताब जीते हैं। वहीं पीएसजी की खिताबी खोज जारी रही। नेमार से उम्‍मीद थी कि वो कुछ कमाल करेंगे। मगर यह पर्याप्‍त नहीं था। अल्‍बा ही अपने विरोधी नेमार को रोने से रोक रहे थे। आखिरकार, नेमार के टीम साथियों ने उन्‍हें संभालना शुरू किया।

पीएसजी को अपने से ही मिला धोखा

यूएफा चैंपियंस लीग के फाइनल मुकाबले में बायर्न म्‍यूनिख की खिताबी जीत का हीरो किंग्‍स्‍ले कोमैन बने, जिन्‍होंने 59वें मिनट में हेडर के जरिये गोल दागा और यह निर्णायक साबित हुआ। बायर्न म्‍यूनिख ने चैंपियंस लीग के फाइनल मैच में पेरिस सेंट जर्मेन को 1-0 से मात देकर छठी बार खिताब जीता। कोमैन जब 8 साल के थे तब से फ्रांसीसी क्‍लब पीएसजी में ट्रेनिंग कर रहे थे। वह इस क्‍लब के सबसे युवा स्‍टार थे, जिन्‍होंने केवल 16 साल 8 महीने और चार दिन की उम्र में डेब्‍यू किया था। 2014 में कोमैन ने पीएसजी छोड़कर यूवेंटस का साथ अपनाया और फिर बाद में वह बायर्न म्‍यूनिख आ गए। फिर पीएसजी को अपने किंग्‍स्‍ले कोमैन से ही धक्‍का लगा, जिन्‍होंने फाइनल में एकमात्र गोल दागा।

इस मुकाबले में रॉबर्ट लेवानडोस्‍की, कायलिन मबापे, नेमार, एंजेल डी मारिया, थॉमस मुलर, सर्जे गैनाब्री, इवान परिसिच जैसे दिग्‍गज अपनी छाप नहीं छोड़ सके। दोनों टीमों के बीच रोमांचक मुकाबला हुआ, जहां गेंद को जाली में भेदने के लिए कड़ा संघर्ष देखने को मिला। लेवानडोस्‍की ने कुछ मौके गंवाए। नेमार ने भी बहुत प्रयास किए, लेकिन अपना जादू बिखेरने में कामयाब नहीं हुए। कोमैन को बस एक मौका मिला। उन्‍होंने इसे दोनों हाथों से भुनाया और बायर्न म्‍यूनिख की झोली में इस साल के तीनों खिताब बुंदेसलीगा, जर्मन कप और चैंपियंस लीग डाल दिए। इससे पहले 2012-13 में बेयर्न म्‍यूनिख ने तीनों खिताब एक साल में जीते थे।

फाइनल में लगा रिकॉर्ड्स का अंबार

  1. बायर्न म्‍यूनिख ने छठी बार चैंपियंस लीग का खिताब जीता और लिवरपूल की बराबरी की। बायर्न ने 2012-13 के बाद पहली बार चैंपियंस लीग फाइनल जीता। सिर्फ रियल मैड्रिड (13) और एसी मिलान (7) इस मामले में आगे हैं।
  2. रॉबर्ट लेवानडोस्‍की ने 2019-20 सीजन में बायर्न म्‍यूनिख के लिए सभी स्‍पर्धाओं में कुल मिलाकर 55 गोल दागे। उन्‍होंने सबसे ज्‍यादा गोल का रिकॉर्ड अपने नाम किया।
  3. बायर्न म्‍यूनिख ने 2019-20 सीजन का समापन पिछले 30 मैचों में अजेय रहते हुए किया। 29 जीत और एक ड्रॉ। सभी स्‍पर्धाओं के 21 मैचों में बायर्न म्‍यूनिख ने जीत दर्ज की।
  4. बायर्न म्‍यूनिख चैंपियंस लीग इतिहास में पहली टीम है, जिसने 100 प्रतिशत जीत का अभियान रखते हुए खिताब पर कब्‍जा किया। 11 जीत के साथ बायर्न म्‍यूनिख ने खिताब अपने नाम किया।
  5. किंग्‍स्‍ले कोमैन यूएफा चैंपियंस लीग फाइनल में गोल दागने वाले फ्रांस के पांचवें खिलाड़ी हैं। इससे पहले करीम बेंजेमा (2018), जिनेदिन जिदाने (2002), मार्सेल डैसेली (1994) और बासिले बोली (1993) ने यह कमाल किया था।
  6. बायर्न म्‍यूनिख यूएफा चैंपियंस लीग में 500 गोल करने वाली तीसरी टीम बनी। इस प्रतियोगिता में सबसे ज्‍यादा गोल का रिकॉर्ड रियल मैड्रिड (567) के नाम दर्ज है। बार्सिलोना (517) दूसरे स्‍थान पर काबिज है।
  7. कोरोना वायरस महामारी के बाद जब से फुटबॉल दोबारा शुरू हुआ, यह पहला मौका रहा जब बायर्न म्‍यूनिख की टीम पहले हाफ में गोल करने से चूकी।
  8. बायर्न म्‍यूनिख ने यूएफा चैंपियंस लीग के इस सीजन में 10 मैचों में 42 गोल दागे। सिर्फ बार्सिलोना ने 1999/2000 सीजन में 16 मैचों में सबसे ज्‍यादा 45 गोल दागे थे।
  9. बायर्न म्‍यूनिख ने 11वीं बार चैंपियंस लीग फाइनल खेला। रियल मैड्रिड (16) ही इसमें आगे है। 
  10. यह पीएसजी का पहला चैंपियंस लीग फाइनल था। वह 41वीं विभिन्‍न टीम रही, जो फाइनल में पहुंची। पिछले छह टीमें जो पहली बार फाइनल में पहुंची, सभी हारी थी। पीएसजी अब सातवीं टीम बनकर इस लिस्‍ट में शामिल हुई।
Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर