How to buy Mirror: दर्पण खरीदते समय इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान, नकारात्मक ऊर्जा रहेगी दूर

Vastu rules related to mirrors: वास्तु शास्त्र के अनुसार दर्पण से एक प्रकार की ऊर्जा बाहर निकलती है। यह ऊर्जा अच्छी भी होती है और खराब भी। इसलिए दर्पण खरीदते और घर में लगाते समय वास्तु नियमों का ध्यान जरूर दें।

Vastu rules related to mirrors, दर्पण से जुड़े वास्तु नियम
Vastu rules related to mirrors, दर्पण से जुड़े वास्तु नियम 

मुख्य बातें

  • शीशे का फ्रेम कभी बहुत चटकिला या गहरे रंग का न लें
  • जो दर्पण आपके सही स्वरूप को दिखा रहा हो वही लें
  • सूर्यास्त के बाद दर्पण खरीदना सही नहीं होता है

How to buy Mirror: दर्पण वास्तु दोष हरता है और कई बार यदि इसे सही तरीके से न लगाया जाए तो वास्तु दोष का कारण भी बनता है। दर्पण से निकलने वाली ऊर्जा सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह की हो सकती है। यदि आपने वास्तु नियमों की अवहेलना कर दर्पण का चयन किया या ऐसे स्थान पर रखा जहां उसे नहीं रखना चाहिए तो निश्चित तौर पर दर्पण से नकारात्मक ऊर्जा ही बाहर आएगी। इसलिए वास्तु शास्त्र में दर्पण खरीदते समय और लगाते समय कुछ चीजें बताई गई हैं। तो आइए आपको सर्वप्रथम यह बताएं कि दर्पण खरीदते समय किन बातों का ध्यान देना चाहिए और घर में कहां इसे लगाने से बचना चाहिए।

दर्पण खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान

  1. वास्तु के अनुसार ऐसा दर्पण या शीशा न लें जिसका फ्रेम बहुत अधिक भड़कीला या चटकीले रंग का हो। ऐसे दर्पण से नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ावा देता है।

  2. बहुत अधिक गहरे रंगों के फ्रेम के बीच बना शीशा भी लेने से बचें। बल्कि ऐसा फ्रेम चुनें जो हल्के और सौम्य रंगों से बना हो। आप व्हाइट, क्रीम, आसमानी, हल्के नीले, हल्के हरे, ब्राउन आदि रंगों का शीशे के फ्रेम के लिये चुनाव कर सकते हैं।

  3. दर्पण खरीदते समय हमेशा यह ध्यान दें कि दर्पण हमेशा आपके सही स्वरूप को दिखा रहा हो। कुछ दर्पण में शरीर पतला या चौड़ा या कुछ अलग तरह का नजर आता है। ऐसे दर्पण वास्तु दोष का कारण बनते हैं।

  4. वास्तु के अनुसार दर्पण हमेशा दिन में लेना चाहिए और सूर्यास्त के बाद दर्पण खरीदना सही नहीं होता है।

  5. दपर्ण में यदि क्रैक हो या अथवा कोई दाग हो तो उसे बिलकुल न लें।

घर में कहां नहीं रखना चाहिए दर्पण

  1. दर्पण कभी बेडरूम में नहीं लगाना चाहिए। खास कर जिस कमरे में पति-पत्नी रहते हों। यदि लगा है तो उसे ढक कर रखना चाहिए।

  2. दर्पण कभी खिड़की या दरवाजे की ओर फेस करता हुआ नहीं लगाना चाहिए।

  3. कमरे के दीवारों पर आमने-सामने दर्पण लगाने से बचें, क्योंकि इससे घर के सदस्यों में बेचैनी और उलझन की समस्या बढ़ेगी।

  4. दर्पण को बेतरतीब या मनमाने तरीके कटवा कर उसे शो पीस की तरह इस्तेमाल न करें। गोल, लंबा, आयातकार या चौकोर अकार का ही शीशा घर में लगाएं।

  5. किसी भी दीवार पर दर्पण लगाते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि वह न एकदम नीचे हो और न ही अधिक ऊपर क्योंकि ऐसा करने से परिवार के सदस्यों को सिर दर्द की समस्या हो सकती है।

  6. कमरें में दरवाजे के अंदर की ओर दर्पण नहीं लगाना चाहिए।

तो वास्तु के अनुसार शीशे को खरीदते और लगाते समय इन साधारण लेकिन महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स का ध्यान जरूर देना चाहिए।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर