Govardhan Puja 2021 Date, Puja Muhurat: जानिए इस साल कब मनाई जाएगी गोवर्धन पूजा, इन बातों का रखें खास ध्यान

Govardhan Puja 2021 Date, Time, Puja Muhurat in India (गोवर्धन पूजा कब है 2021 में): गोवर्धन पूजा दिवाली के अगले दिन मनाई जाती है। विशेष रूप से मथुरा, वृंदावन, नंदगांव, गोकुल में धूमधाम से मनाया जाता है। जानिए इस साल कब है गोवर्धन पूजा...

Govardhan Puja 2021
Govardhan Puja 2021 
मुख्य बातें
  • गोवर्धन पूजा कार्तिक के हिंदू चंद्र महीने के पहले दिन मनाई जानी चाहिए।
  • मथुरा, वृंदावन, नंदगाँव, गोकुल, और बरसाना के व्रज भूमि में धूमधाम से पर्व मनाया जाता है।
  • गोवर्धन पूजा 5 नवंबर 2021, शुक्रवार को है।

Govardhan Puja 2021 Date, Time, Puja Muhurat in India: दिवाली के अगले दिन गोवर्धन पूजा का त्योहार मनाया जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार गोवर्धन पूजा या अन्नकूट कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष के पहले दिन मनाई जाती है। उत्तर भारत में विशेष रूप से मथुरा, वृंदावन, नंदगांव, गोकुल, और बरसाना के व्रज भूमि में इसे बेहद ही हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। 

गोवर्धन पूजा कार्तिक के हिंदू चंद्र महीने के पहले दिन मनाई जानी चाहिए।  इस बार गोवर्धन पूजा 5 नवंबर 2021, शुक्रवार को है हालांकि,इसे कई तरीकों से तय किया जाता हैष पवित्र ग्रंथों के अनुसार, पूजा मुहूर्त की निश्चित समयावधि के भीतर रात में चंद्रमा नहीं उठना चाहिए। यदि सूर्यास्त के समय कार्तिक के हिंदू चंद्र मास के आधे हिस्से के पहले दिन, इस बात की संभावना है कि चंद्रमा उदय होगा तो गोवर्धन पूजा पहले दिन ही कर लेनी चाहिए।

इस दिन मनाएं गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja date 2021) 
सूर्योदय के समय प्रतिपदा तिथि रहती है। वहीं, चंद्रमा के उदय का कोई संकेत नहीं है, तो उसी दिन गोवर्धन पूजा मनाई जानी चाहिए। और अगर ऐसा नहीं है, तो एक दिन पहले ही गोवर्धन पूजा की जानी चाहिए। वहीं, जब प्रतिपदा तिथि सूर्योदय के बाद 9 मुहूर्त तक रहती है, तो कोई बात नहीं, शाम को चंद्रमा उदय होता है, लेकिन पूर्ण चंद्र उदय का कोई अस्तित्व नहीं होता। इस हालत में गोवर्धन पूजा उसी दिन मनाई जानी चाहिए।

Also Read: Govardhan Puja Katha: कैसे शुरू हुई गोवर्धन पूजा की परंपरा, गाय-बैल के पूजन के पीछे है रोचक कथा

गोवर्धन पूजा शुभ मुहूर्त (Govardhan Puja 2021 Timings and Shubh Muhurat)
हिंदू पंचांग के अनुसार गोवर्धन पूजा का इस साल का शुभ मुहूर्त 05:28 AM से 07:55 AM तक है। तथा शाम के समय पूजा का सर्वश्रेष्ठ मुहुर्त 5:16 PM से 05:43 PM तक है।

गोधन और गाय के गोबर का गोवर्धन पर्वत बनाकर पूजा और परिक्रमा किया जाता है। मान्यता है कि इससे पर्यावरण स्वच्छ रहता है और मानवता का कल्याण होता है। हिंदू धर्म में गाय को देवी लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर