Corona Cases:महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों के लिए म्यूटेंट वैरिएंट नहीं बल्कि लापरवाही है जिम्मेदार

नीति आयोग और आईसीएमआर का कहना है कि महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामले चिंता की विषय हैं। अगर बढ़ते मामलों को देखें तो उसके पीछे म्यूटेंट वैरिएंट नहीं बल्कि लोगों को अनुशासन रहित व्यवहार है।

Corona Cases:महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों के लिए म्यूटेंट वैरिएंट नहीं बल्कि लापरवाही है जिम्मेदार
महाराष्ट्र में तेजी से कोरोना के मामले बढ़े हैं।  

मुख्य बातें

  • महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते केस के लिए लापरवाही जिम्मेदार
  • कोवैक्सीन और कोविशील्ड दोनों समान तौर पर असरकारी
  • दूसरे राज्यों में बढ़ते मामले चिंता का विषय हैं।

नई दिल्ली। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कोविशील्ड और कोवैक्सीन अपनी अपनी भूमिका अदा कर रहे हैं। लेकिन हाल ही में जिस तरह से महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक और तेलंगाना में कोरोना के मामले बढ़े चिंता बढ़ गई। खासतौर से महाराष्ट्र में जितने तेजी से मामले आने लगे उसके बाद तरह तरह के सवाल उठने लगे कि आखिर वजह क्या है। कुछ लोगों को कहना था कि क्या म्यूटेंट वैरिएंट जिम्मेदार है या कोई और वजह है। इस तरह की कशमकश से नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल ने सबको बाहर निकाला है। 

महाराष्ट्र को लेकर चिंता सबसे ज्यादा
हम महाराष्ट्र को लेकर बहुत चिंतित हैं। यह एक गंभीर मामला है। इसके दो सबक हैं- वायरस को न लें और अगर हमें COVID मुक्त रहना है, तो, हमें COVID के उचित व्यवहार का पालन करने की आवश्यकता है। महाराष्ट्र में मामले उत्परिवर्ती संस्करण से संबंधित नहीं हैं। यह मुख्य रूप  वेडिंग सीजन, लोकल ट्रेनें की वजह से बढ़े हैं। लोग कोविड के उचित व्यवहार का पालन नहीं कर रहे हैं

महाराष्ट्र में  पहली फरवरी के आसपास 36,917 मामले थे। अब सक्रिय मामले 1,00,0240 हैं। अगर बात केरल की करें तो पहली फरवरी को 64000 केस थे जबकि अब यह 35,715 पर है

ICMR महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि  महाराष्ट्र ने एक चिंताजनक प्रवृत्ति दिखाई है। मामलों में इस उछाल में उत्परिवर्ती तनाव नहीं पाया गया है। यह सिर्फ कम परीक्षण, ट्रैकिंग और अनुरेखण और COVID अनुचित व्यवहार और बड़ी सभाओं से संबंधित है। उन्होंनेहा कि इस समय जब बड़े पैमाने पर कोविड टीकाकरण का कार्यक्रम चल रहा है तो हमें यह देखना होगा कि किसी तरह की लापरवाही ना हो।

कोवैक्सीन और कोविशील्ड दोनों समान रूप से प्रभावी
दिल्ली भी थोड़ा बढ़ रहा है मैं दिल्ली एनसीआर को सतर्क रहने की अपील करता हूं। महामारी खत्म नहीं हुई है। अपने रक्षक को नीचे मत करो। आपके लिए उपलब्ध वैक्सीन लेंकोवाक्सिन अब नियमित रूप से आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण में है। सार्वजनिक हित में कोवाक्सिन का उपयोग आपातकालीन स्थिति में किया जा सकता है।

अब यह प्राधिकरण के संदर्भ में कोविशिल्ड के बराबर है।दोनों टीकों में समान स्तर और तीव्रता होती हैकोवैक्सिन अब नियमित रूप से आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण में है। सार्वजनिक हित में कोवाक्सिन का उपयोग आपातकालीन स्थिति में किया जा सकता है। अब यह प्राधिकरण के संदर्भ में कोविशिल्ड के बराबर है।

Mumbai News in Hindi (मुंबई समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर