दलगत राजनीति से हटकर विधानसभा सत्र चलने दें सत्ता और विपक्ष के विधायक- मायावती

उत्तर प्रदेश विधानसभा के चालू मानसून सत्र के बीच बसपा प्रमुख मायावती ने शुक्रवार को विधायकों से अपील की कि वे क्षुद्र राजनीति से ऊपर उठकर सदन में जनहित से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करें।

Mayawati appeals to UP MLAs Rise above party politics, discuss issues pertaining to public interest
दलगत राजनीति से हटकर विधानसभा सत्र चलने दें विधायक- मायावती 

मुख्य बातें

  • यूपी विधानसभा सत्र के बीच मायावती ने विधायकों से की खास अपील
  • कहा- विधानसभा की कार्यवाही के सुचारू रूप से चलने दें विधायक
  • यूपी में बिगड़ी कानून-व्यवस्था को लेकर आवाज जरूर उठायें- मायावती

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र गुरुवार से शुरू हो गया है। कोविड-19 महामारी के चलते सदस्यों ने एकदूसरे से दूरी बनाये रखने के नियम का पूरी तरह पालन किया और दर्शक दीर्घा में भी उनके बैठने का इंतजाम किया गया। इस दौरान मीडियाकर्मियों को दूर रखा गया था। विधानसभा अध्यक्ष के कार्यालय के अनुसार सदन में 290 विधायक मौजूद थे जबकि 23 विधायकों की उपस्थिति ‘वर्चुअल’ थी। इस बीच विधानसभा सत्र शुरू होते ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने सत्ता और विपक्ष के विधायकों से अपील है कि वे विधानसभा के चल रहे वर्तमान सत्र में दलगत राजनीति से उपर उठकर जनहित के विशेष मुद्दों को प्रभावी ढंग से सदन में उठाएं।

विधायकों से पुरजोर अपील

बसपा सुप्रीमो ने ट्वीट करते हुए कहा, 'उत्तर प्रदेश में सत्ता व विपक्ष के विधायकों से मेरी पुरजोर अपील है कि वे विधानसभा के चल रहे वर्तमान सत्र में दलगत राजनीति से उपर उठकर जनहित के विशेष मुद्दों को जरूर प्रभावी ढंग से सदन में उठाकर शासन/ प्रशासन को जिम्मेदार व जवाबदेह बनायें। व्यापक जनहित की यही माँग है। वैसे तो विकास का मुद्दा सरकार के एजेण्डे से काफी हद तक गायब है, किन्तु महिला उत्पीड़न तथा दलितों, मुस्लिमों व ब्राह्मण समाज आदि की द्वेष की भावना से हो रही हत्यायें व अन्य अत्याचार आदि की अर्थात यूपी में बिगड़ी कानून-व्यवस्था को लेकर आवाज जरूर उठायें, समय की यह माँग है।'

पहले साधा था यूपी सरकार पर निशाना
इससे पहले मायावती ने उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए मंगलवार को कहा था कि उत्पीड़न, बलात्कार, हत्या आदि की घटनायें साबित करती हैं कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति अति-दयनीय है। एक ट्वीट करते हुए उन्होंने कहा कि 'यूपी में सभी वर्गों/धर्मों व खासकर दलितों के साथ आए दिन द्वेष, उत्पीड़न, बलात्कार, हत्या आदि की मानवता को शर्मसार करने वाली घटनायें साबित करती हैं कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति अति-दयनीय है। इन घटनाओं के प्रति सरकारी लीपापोती से हालात में और बिगड़ रहे हैं, सरकार ध्यान दे।'

की गई हैं विशेष तैयारियां

आपको बता दें कि कोरोना वायरस के चलते यूपी विधानसभा सत्र में विशेष तैयारियां की गई हैं। यूपी विधानसभा अध्यक्ष ह्रदयनारायण दीक्षित ने कहा था कि 403 सदस्यीय विधानसभा में आने वाले सभी सदस्यों की थर्मल स्कैनिंग से जांच की जाएगी। इसके अलावा सभी विधायक मास्क भी पहनेंगे । अगर विधायक मास्क नही पहन कर आयेंगे तो उन्हें उपलब्ध कराये जायेंगे । 

Lucknow News in Hindi (लखनऊ समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर