यूपी में बीजेपी के घटक दल की पैंतरेबाजी, निषाद पार्टी के मुखिया डॉ संजय निषाद की डिप्टी सीएम पद पर नजर

क्या यूपी के डिप्टी सीएम पर निषाद पार्टी की भी नजर है। दरअसल निषाद पार्टी के अध्यक्ष डॉ संजय निषाद आंकड़ों के जरिए यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि राज्य में मछुआरों को विकास नहीं हुआ है।

BJP, UP, Assembly Elections 2022, Nishad Party, Sanjay Nishad, Deputy CM, Yogi Adityanath, Keshav Prasad Maurya, Dinesh Sharma,
निषाद पार्टी के मुखिया डॉ संजय निषाद की डिप्टी सीएम पद की मांग 
मुख्य बातें
  • संजय निषाद के प्रेस कॉन्फ्रेंस करने की उम्मीद
  • मछुआरे समुदाय की विभिन्न जातियों में 18 प्रतिशत हिस्सा- संजय निषाद
  • यूपी में बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने की बैठक, जहां गठबंधन की बातचीत पर चर्चा हो सकती है

देश के सबसे बड़े सूबे में से एक यूपी को 2022 में विधानसभा चुनाव के लिए जाना है। चुनाव के मद्देनजर नए नए सियासी समीकरण सामने आ रहे हैं। इस समय बीजेपी प्रचंड बहुमत के साथ सरकार में है और एक बार फिर 300 पार का नारा दिया है। सवाल यही है कि क्या 300 पार को 2022 में बीजेपी हकीकत में बदल पाएगी जब उसे आंतरिक और बाहरी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है हालांकि बीजेपी के कद्दावर नेताओं के मुताबिक खतरा नहीं है। लेकिन बीजेपी की सहयोगी दल निषाद पार्टी के अध्यक्ष डॉ संजय निषाद की नजर यूपी के डिप्टी सीएम पद पर है।

अलग अलग जातियों के सीएम हुए, मछुआरा समाज को नहीं मिला सम्मान
70 वर्षों से, विभिन्न समुदायों के सदस्यों को सीएम पद पर नियुक्त किया गया है। अब यूपी की करीब 18 फीसदी आबादी निषाद समुदाय की है। इसलिए 18 फीसदी वोट तभी मिल सकते हैं, जब किसी मछुआरे का बेटा उनका नेता हो। भाजपा 2022 के यूपी चुनावों से पहले अधिक से अधिक गठबंधन सहयोगी बनाने की कोशिश कर रही है। गोरखपुर और पूर्वांचल क्षेत्र में निषाद पार्टी का पर्याप्त वोट बैंक है।हालांकि बीजेपी इस मांग पर ध्यान नहीं दे रही है. सूत्रों ने कहा कि किसी एक दल की शर्तों के आधार पर नहीं बल्कि गहन चर्चा के बाद किसी भी गठबंधन पर काम किया जाएगा।

चुनाव से पहले मंथन तेज

संजय निषाद के आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करने की उम्मीद है, जहां उनकी पार्टी की संभावित रणनीति का खुलासा करने की संभावना है। कल, यूपी में भाजपा के शीर्ष नेताओं ने चार घंटे से अधिक समय तक बैठक की, जहां गठबंधन की बातचीत पर चर्चा होने की संभावना है। .शुक्रवार को, संजय निषाद ने कहा कि अगर भाजपा निषाद समुदाय को आरक्षण देने के वादों को पूरा करने में विफल रही तो भाजपा फिर से सत्ता में नहीं आएगी।

बीजेपी की घटक दल है निषाद पार्टी
निषाद, जिनकी पार्टी सत्तारूढ़ भाजपा की सहयोगी है, ने कहा कि यह उनके प्रयासों के कारण था कि भाजपा ने 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज के बावजूद राज्य में सबसे अधिक सीटें हासिल कीं। पार्टी (बसपा) ने गठबंधन किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस, बसपा और सपा ने निषाद पार्टी को धोखा दिया और अब वे हाशिए पर हैं।

Lucknow News in Hindi (लखनऊ समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर