उधार के 70 हजार रुपये वापस मांगे तो दोस्त ने कर दिया कत्ल, सीसीटीवी फुटेज से सामने आया चौंकाने वाला सच, जानें

Lucknow Murder Case: लखनऊ में काकोरी पुलिस ने दिलीप यादव (38) की हत्या का पर्दाफाश कर दिया है। पुलिस ने हत्या के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें एक दिलीप का करीबी दोस्त शामिल है।

Lucknow Murder
पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार  |  तस्वीर साभार: Twitter
मुख्य बातें
  • लखनऊ पुलिस ने किया दिलीप यादव हत्याकांड का खुलासा
  • पुलिस ने हत्या के आरोप में दोस्त समेत तीन को किया गिरफ्तार
  • उधार के रुपये मांगने पर दोस्त ने साथियों के संग मिलकर की हत्या

Lucknow Murder Case: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की पुलिस ने दिलीप यादव हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। कातिलों में एक दिलीप यादव का करीबी मित्र नफीस भी शामिल है। 70 हजार रुपये की उधारी मांगने पर इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया है। जानकारी के अनुसार, 17 अगस्त को दिलीप का शव बड़ागांव स्थित नहर के किनारे मिला था। इस मामले में मां शिवकुमारी ने शिनाख्त करने के बाद तीन लोगों पर हत्या का आरोप लगाया था। पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की। 

पुलिस के मुताबिक, नफीस ने दिलीप यादव से एक लाख रुपये उधार लिए थे। नफीस ने 30 हजार रुपये तो वापस कर दिए थे। 70 हजार और देने थे। रुपये वापस करने के लिए दिलीप दबाव बना रहा था। उधार के रुपये वापस न देने पड़े इसके लिए नफीस ने दिलीप की हत्या की साजिश रची।

कार में घूमने के दौरान दिलीप की गला दबाकर हत्या की

नफीस ने दो अन्य दोस्तों के साथ मिलकर दिलीप को 11 अगस्त की रात को बुलाया। चारों साथ में कार से घूमने के लिए निकले। इस बीच रास्ते में सभी लोगों ने शराब पी। कार में घूमने के दौरान तीनों आरोपियों ने दिलीप की गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद दिलीप के शव को बड़ागांव की नहर में फेंक दिया। पुलिस ने तीनों आरोपियों की निशान देही पर कार और मृतक की बाइक, गमछा जिससे गला घोंटा गया, उसे बरामद कर लिया है।

नहर के किनारे मिला था दिलीप का शव

एडीसीपी दक्षिणी मनीषा सिंह ने बताया कि, काकोरी के नकटौरा गांव की शिवकुमारी ने 14 अगस्त को तहरीर दी थी कि उनका बेटा दिलीप यादव 11 अगस्त को अपनी बाइक द्वारा घर से निकला था। लेकिन वापस नहीं आया है। काकोरी पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया था। बुधवार को दिलीप का शव बड़ागांव स्थित नहर के किनारे पड़ा मिला। मां शिवकुमारी ने तीन लोगों पर हत्या का आरोप लगाया। इसमें नकटौरा गांव का ही रहने वाला नफीस हैदर भी शामिल था जो दिलीप का करीबी दोस्त है। इसके अलावा उन्नाव हसनगंज के मटरिया निवासी नियश और असीवन उन्नाव मलहौली का रहने वाला अखिलेश शामिल हैं।

सीसीटीवी फुटेज से हुआ खुलासा

एडीसीपी दक्षिणी मनीषा सिंह ने बताया कि, इलाके के सीसीटीवी खंगाले गए। फुटेज में दिखा कि दिलीप और नफीस, अखिलेश की कार में जा रहे हैं। आमिर नाम का युवक दिलीप की बाइक लेकर पीछे आता दिखा। फुटेज के आधार पर तीनों आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। नफीस ने बताया कि, उधार के रुपये के लिए लगातार दबाव बनाने से वह काफी परेशान था। इसी वजह से उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर दिलीप की हत्या कर दी थी। एडीसीपी दक्षिणी मनीषा ने बताया कि, हत्याकांड में एक और बिंदु सामने आया है। मृतक के परिजनों का आरोप है कि, नफीस का दिलीप की पत्नी से संबंध था। हालांकि पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। 

Lucknow News in Hindi (लखनऊ समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
ET Now
ET Now Swadesh
Mirror Now
Live TV
अगली खबर