मुरादनगर की घटना से CM योगी नाराज, 50 लाख से अधिक लागत वाले निर्माण की होगी जांच 

मुख्‍यमंत्री ने चेतावनी के लहजे में कहा है कि इस तरह की घटनाओं के लिए जिम्‍मेदार अफसरों के लिए शासन में कोई जगह नहीं है। इस तरह की लापरवाही अक्षम्‍य है।

CM Yogi is angry over Muradnagar accident, action likely on officers
50 लाख से अधिक लागत वाले निर्माण की होगी जांच।  |  तस्वीर साभार: PTI

लखनऊ : गाजियाबाद के मुरादनगर में श्‍मशान घाट की छत गिरने से 24 लोगों की मौत की घटना से मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ अफसरों से बेहद नाराज हैं। मुख्‍यमंत्री ने मामले में जिम्‍मेदार अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के संकेत दिए हैं। कमिश्‍नर और गाजियाबाद के डीएम समेत कई बड़े अधिकारियों पर कार्रवाई की गाज गिर सकती है। मुरादनगर की घटना से नाराज मुख्‍यमंत्री सोमवार को अधिकारियों पर जम कर बरसे। घटना को अफसरों की गंभीर लापरवाही करार देते हुए सीएम योगी ने कहा कि इस तरह की लापरवाही अक्षम्‍य है। ऐसे अपराध करने वाले अफसरों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। 

50 लाख से अधिक की लागत वाले निर्माण की होगी जांच
मुख्‍यमंत्री ने कहा कि हर मंडलीय समीक्षा बैठकों में अफसरों को साफ तौर पर यह निर्देश दिया गया था कि जिलों में हो रहे 50 लाख से अधिक की लागत के निर्माण कार्यों की गुणवत्‍ता की जांच टास्‍क फोर्स गठित कर हर हाल में करवा ली जाए। मुरादनगर की घटना अफसरों की लापरवाही का परिणाम है। उन्‍होंने कहा कि प्रदेश भर में जहां भी निर्माण कार्य हो रहे हैं या हो चुके हैं उनकी गुणवत्‍ता की जांच कर अधिकारी  रिपोर्ट भेजें। एक भी निर्माण कार्य की गुणवत्‍ता में कमीं मिली तो इसकी पूरी जिम्‍मेदारी जिले के आला अधिकारियों की होगी।

अधिकारियों की भूमिका की हो सकती है जांच
मुरादनगर की घटना को लेकर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने प्रदेश के अधिकारियों को सख्‍त लहजे में दो टूक संदेश दे दिया है। मुख्‍यमंत्री ने चेतावनी के लहजे में कहा है कि इस तरह की घटनाओं के लिए जिम्‍मेदार अफसरों के लिए शासन में कोई जगह नहीं है। मुख्‍यमंत्री ने घटना को लेकर गाजियाबाद के जिलाधिकारी और मेरठ की मंडलायुक्‍त समेत अन्‍य जिम्‍मेदार अधिकारियों की भूमिका की जांच के संकेत भी दिए हैं।

छत गिरने से 24 लोगों की हुई मौत, 15 घायल 
गौरतलब है कि गाजियाबाद के मुरादनगर में रविवार दोपहर श्मशान घाट के प्रवेश द्वार के साथ बने गलियारे की छत गिरने से मलबे में दबकर 24 लोगों की मौत हो गई और 15 घायल हो गए । मामले में पुलिस ने ईओ निहारिका सिंह, जेई सीपी सिंह, सुपरवाइजर आशीष को गिरफ्तार कर लिया है । ठेकेदार अजय त्यागी समेत कुछ अन्‍य लोग फरार हैं। आरोपियों पर आईपीसी की धारा 304 (गैर इरादतन हत्या), धारा 337 (किसी व्यक्ति को खतरा पहुंचाना), धारा 338 (व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरा पैदा करने वाली चोट), धारा 409 - (धन का गबन, सरकारी कर्मचारी द्वारा विश्वास का आपराधिक हनन), धारा 427 (बुरी नीयत से कार्य) के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है।

Lucknow News in Hindi (लखनऊ समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर