Kafeel Khan की रिहाई से अखिलेश यादव खुश, 'उम्मीद है कि आजम खान को मिलेगा न्याय'

Akhilesh yadav on Azam khan: कफील खान आजाद हो चुके हैं और उनकी रिहाई से अखिलेश यादव को उम्मीद बंधी है कि देर सबेर आजम खान को न्याय मिलेगा।

Kafeel Khan की रिहाई से अखिलेश यादव खुश, उम्मीद है कि आजम खान को मिलेगा न्याय
अखिलेश यादव, सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष 

मुख्य बातें

  • भ्रष्टाचार के केस में आजम खान जेल में बंद है।
  • समाजवादी पार्टी, बीजेपी पर राजनीतिक रंजिश का आरोप लगाती है
  • अखिलेश यादव ने कफील खान का हवाला देते हुए आजम खान को इंसाफ मिलने की जताई उम्मीद

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत जेल में बंद डॉक्टर कफील खान की रिहाई पर खुशी जाहिर करते हुए उम्मीद जताई कि उन्हीं की तरह झूठे मुकदमों में फंसाए गए वरिष्ठ सपा नेता आजम खां को भी जल्द इंसाफ मिलेगा।अखिलेश यादव ने कहा कि दुनिया जानती है कि आजम खान के साथ क्या हो रहा है। 

आजम खान के लिए ट्वीट
अखिलेश यादव ने बुधवार को एक ट्वीट में कहा, " उच्च न्यायालय द्वारा डॉक्टर कफ़ील की रिहाई के आदेश का देश-प्रदेश के हम सभी इंसाफ़ पसंद लोगों ने सहर्ष स्वागत किया है। उम्मीद है झूठे मुक़दमों में फंसाये गये आज़म खान जी को भी शीघ्र ही न्याय मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की अब मासिकता बन चुकी है जो उनके मुताबिक बात नहीं करेगा वो देश के खिलाफ काम कर रहा है। क्या यह सही है विपक्षी दल अपनी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ लें। 

योगी सरकार पर कफील ने साधा निशाना
कफील खान ने प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सत्ताधारियों का अन्याय तथा अत्याचार हमेशा नहीं चलता।इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश के बाद डॉक्टर कफील खान को मंगलवार मध्य रात्रि मथुरा जेल से रिहा कर दिया गया।जेल से रिहाई के बाद कफील ने 'भाषा' से बातचीत में अदालत का शुक्रिया अदा किया।

वह उन तमाम शुभचिंतकों के भी हमेशा आभारी रहेंगे जिन्होंने उनकी रिहाई के लिए आवाज उठाई।उन्होंने कहा कि प्रशासन उन्हें अब भी रिहा करने को तैयार नहीं था लेकिन लोगों की दुआ की वजह से वह रिहा हुए हैं, मगर आशंका है कि सरकार उन्हें फिर किसी मामले में फंसा सकती है।कफील संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ पिछले साल अलीगढ़ में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत करीब साढ़े सात महीने से मथुरा जेल में बंद थे।

Lucknow News in Hindi (लखनऊ समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर