SCO Summit: एससीओ सम्मेलन में PM ने किया कट्टरता का जिक्र, अफगानिस्तान का दिया उदाहरण

देश
किशोर जोशी
Updated Sep 17, 2021 | 12:36 IST

PM Modi SCO Summit Speech: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एससीओ सम्मेलन को संबोधित किया और अफगानिस्तान के वर्तमान हालात पर सदस्य देशों से ध्यान देने का आग्रह किया।

PM Modi addresses SCO Summit, says Recent developments in Afghanistan have made this challenge clear
एससीओ सम्मेलन में PM ने किया धार्मिक कट्टरता का जिक्र 

मुख्य बातें

  • पीएम नरेंद्र मोदी ने एससीओ शिखर सम्मेलन को किया ऑनलाइन संबोधित
  • पीएम मोदी ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के नए सदस्य के तौर पर ईरान का किया स्वागत
  • इस क्षेत्र में सबसे बड़ी चुनौतियां शांति, सुरक्षा और ट्रस्‍ट-डेफिसिट से संबंधित है - पीएम

नई दिल्ली:  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ताजिकिस्तान की राजधानी दुशांबे में शुक्रवार को आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की वार्षिक शिखर बैठक को डिजिटल माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि कट्टरपंथी ताकतों को जवाब देने की बात कही और कहा कि इसके खिलाफ सबको एकजुट होना होना। उन्होंने कहा कि हमारे क्षेत्र के लिए कट्टरता बड़ी चुनौती है। पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद और कट्टरपंथ के खिलाफ लोगों को एकसाथ आगे आना होगा तभी हम इसी समस्या से निजात पा सकते हैं। खास बात ये है कि जब पीएम मोदी भाषण दे रहे थे तो पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान भी उनकी स्पीच सुन रहे थे।

कट्टरता का किया जिक्र

प्रधानमंत्री ने कहा, 'इरान का नए एससीओ के सदस्य के रूप में स्वागत करता हूं। सऊदी अरब, इजिप्ट और कतर का स्वागत करता हूं। एससीओ का बढ़ता विस्तार हमारी संस्था के प्रभुत्व को दिखाता है। SCO की 20वीं वर्षगांठ इसके भविष्य को लेकर सोचने की है। मेरा मानना है कि इस क्षेत्र में सबसे बड़ी चुनौतियां शांति, सुरक्षा और विश्वास की कमी से संबंधित है और क्षेत्र की समस्याओं का मूल कारण बढ़ती कट्टरता है। अफगानिस्तान में हाल के घटनाक्रम ने इस चुनौती को और स्पष्ट कर दिया है। एससीओ को इस्लाम से जुड़े उदारवादी, सहिष्णु तथा एवं समावेशी संस्थानों और परम्पराओं के बीच मजबूत सम्पर्क विकसित करने के लिए काम करना चाहिए।' 

सूफीवाद का किया जिक्र

यदि हम इतिहास पर नज़र डालें, तो पाएंगे कि मध्य एशिया का क्षेत्र moderate और progressive cultures और values का गढ़ रहा है। सूफीवाद जैसी परम्पराएं यहां सदियों से पनपी और पूरे क्षेत्र और विश्व में फैलीं।  इनकी छवि हम आज भी इस क्षेत्र की सांस्कृतिक विरासत में देख सकते हैं। मध्य एशिया की रेडिक्लाइडेशन और एक्टईमीस्ट के खिलाफ लड़ने का मैकेनिज्म तैयार करना चाहिए।'

भारत में और SCO के लगभग सभी देशों में, इस्लाम से जुड़ी संयमित, सहिष्णु और समावेशी संस्थाएं और परम्पराएं हैं। SCO को इनके बीच एक मजबूत नेटवर्क विकसित करने के लिए काम करना चाहिए।  कट्टरता से ल़़ड़ाई क्षेत्रीय सुऱक्षा के लिए आवश्यक है साथ में ही युवा पीढ़ी के उज्जवल भविष्य के लिए भी जरूरी है। हमें अपने प्रतिभाशाली युवाओं को विज्ञान की तरफ प्रोत्साहित करना होगा। 


 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर