बंगाल में 'दीदी' को एक और झटका, सौमेन्‍दु अधिकारी सहित TMC के कई नेताओं ने छोड़ी पार्टी, थामा BJP का दामन

देश
Updated Jan 02, 2021 | 09:33 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

पश्चिम बंगाल में मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी की अगुवाई वाली सत्‍तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को एक और झटका लगा है, जब पार्टी के 23वें स्‍थापना दिवस पर ही कई नेताओं ने पार्टी छोड़ दी।

बंगाल में 'दीदी' को एक और झटका, सौमेन्‍दु अधिकारी सहित TMC के कई नेताओं ने छोड़ी पार्टी, थामा BJP का दामन
बंगाल में 'दीदी' को एक और झटका, सौमेन्‍दु अधिकारी सहित TMC के कई नेताओं ने छोड़ी पार्टी, थामा BJP का दामन  |  तस्वीर साभार: ANI

कोलकाता : पश्‍च‍िम बंगाल में सत्‍तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (TMC) के कई दिग्‍गज नेता बीते कुछ दिनों में पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए हैं, जिसे राज्‍य में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी के लिए बड़े झटके के तौर पर देखा जा रहा है। अब पार्टी के 23वें स्‍थापना दिवस पर 15 टीएमसी पार्षदों ने पार्टी छोड़ बीजेपी का दामन थाम लिया। इनमें कोंटाई नगरपालिका के पूर्व प्रशासक सौमेन्दु अधिकारी भी शामिल हैं।

नेताओं की रूखसती पर टीएमसी ने क्या कहा?

सौमेन्‍दु अधिकारी ममता सरकार में वरिष्‍ठ मंत्री रहे शुभेन्दु अधिकारी के भाई हैं। शुभेंदु अधिकारी पिछले महीने बीजेपी में शामिल हो गए थे। सौमेन्दु को हाल ही में नगर निकाय के प्रशासक पद से हटाया गया था। शुभेन्दु अधिकारी ने इसे 'बदले की भावना' से उठाया गया कदम करार दिया था। पार्टी से बड़े पैमाने पर नेताओं की रूखसती के बीच टीएमसी के वरिष्‍ठ नेता मदन मित्रा ने कहा कि जो भी टीएमसी से जाना चाहता है, वह जा सकता है। इससे पार्टी पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

उन्‍होंने यह भी कहा कि इन घटनाओं के बीच टीएमसी के कार्यकर्ता अधिक समर्पित होकर काम कर रहे हैं। उनका यह बयान शुक्रवार को पार्टी के 23वें स्‍थापना दिवस पर टीएमसी के 15 पार्षदों के पार्टी छोड़ने के बाद आया है। टीएमसी ने पार्टी के स्‍थापना दिवस पर कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की संस्कृति और मूल्यों की 'सच्ची संरक्षक' हैं। वहीं, पार्टी के स्‍थापना दिवस पर ममता बनर्जी ने ट्वीट कर कहा कि वह आने वाले दिनों में राज्य के लोगों के लिए संघर्ष करती रहेंगी।

लगातार उठ रही हैं विरोध की आवाजें

इस बीच, पार्टी में विरोध के सुर लगातार उठ रहे हैं। सिंगूर से टीएमसी के विधायक और वरिष्ठ नेता रबिंद्रनाथ भट्टाचार्य ने टीएमसी में पुराने नेताओं को किनारे किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि 'भ्रष्ट और बेईमान' तत्वों को पार्टी में शामिल करने का रास्ता बनाया गया। वह हुगली में पार्टी के स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए।

वहीं, टीएमसी पर तंज करते हुए बीजेपी के प्रदेश अध्‍यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि बंगाल में तृणमूल कांग्रेस सरकार के गिनती के दिन रह गए हैं। यह आखिरी बार है जब टीएमसी सत्ता में रहते हुए स्थापना दिवस मना रही है। अगले विधानसभा चुनाव में उसे सत्ता से उखाड़ फेंका जाएगा।

यहां उल्‍लेखनीय है कि बंगाल में विधानसभा चुनाव इस साल अप्रैल-मई में होने वाले हैं।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर