Bird Flu: देश में हजारों पक्षियों की मौत, क्या फैल रहा है बर्ड फ्लू? क्या आपको चिंतित होना चाहिए?

देश
लव रघुवंशी
Updated Jan 05, 2021 | 16:13 IST

Bird flu: देश के कई हिस्सों में बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ रहा है। हजारों पक्षियों की जान जा रही है। कई राज्य अलर्ट हो रहे हैं। ऐसे में लोगों के लिए जरूरी है कि वो सतर्कता बरतें।

bird flu
देश में बढ़ा बर्ड फ्लू का खतरा 

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस महामारी के बीच बढ़ा बर्ड फ्लू का खतरा
  • राजस्थान में पिछले दिनों सैंकड़ों पक्षियों की मृत्यु की जांच में बर्ड फ्लू के नमूने मिले
  • मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में कौओं की मौत हुई है, पूरे राज्य में अलर्ट जारी किया गया

कोरोना वायरस महामारी के संकट के बीच में बर्ड फ्लू का खतरा मंडराने लगा है। भारत के कई हिस्सों में हजारों पक्षियों की रहस्यमयी मौतों ने बर्ड फ्लू को लेकर चिंताएं बढ़ा दी हैं। कई राज्यों में इसे लेकर अलर्ट जारी किया गया है। हिमाचल प्रदेश के पोंग बांध झील में मृत पाए गए प्रवासी पक्षियों के नमूनों से बर्ड फ्लू मिला है। बर्ड फ्लू के मामलों की पुष्टि करने वाले अन्य राज्यों में हरियाणा, राजस्थान, केरल और मध्य प्रदेश शामिल हैं।

राजस्थान में सोमवार को पक्षियों की 170 से अधिक नई मौतें हुईं, कुल 400 से अधिक पक्षियों की मौत हो गई है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि बर्ड फ्लू की पुष्टि अभी तक राज्य के झालावाड़ जिले में ही हुई है। केरल में कोट्टायम और अलाप्पुझा जिलों में प्रभावित क्षेत्रों के 1 किमी के दायरे में बत्तख और मुर्गियों जैसे पक्षियों को मारा जा रहा है। केरल में बर्ड फ्लू को राज्य-विशिष्ट आपदा घोषित किया गया है। कोट्टायम की नेन्दूर पंचायत में इस बात की पुष्टि की गई कि खेत में लगभग 1,650 बत्तखों की बीमारी से मृत्यु हो गई।

मंदसौर में चिकन-अंडे की दुकानें बंद

इस बीच, हिमाचल के कांगड़ा जिले में जहां कुछ 2,300 प्रवासी पक्षी हैं, पोंग डैम झील में मृत पाए गए हैं। अधिकारियों ने पर्यटन पर रोक लगा दी है; और जिले के कुछ क्षेत्रों में मुर्गी, मांस और मांस उत्पादों की बिक्री और खरीद पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके अलावा मध्य प्रदेश के मंदसौर में बर्ड फ्लू के कारण चिकन और अंडे बेचने वाली दुकानों को 15 दिनों तक बंद रखने का आदेश दिया गया है। अब तक मंदसौर में 100 कौओं की मौत की खबर है।

क्या है बर्ड फ्लू

बर्ड फ्लू या पक्षी इन्फ्लूएंजा या पक्षी फ्लू (एवियन इन्फ्लूएंजा) एक विषाणु जनित रोग है। यह विषाणु जिसे इन्फ्लूएंजा ए या टाइप ए विषाणु कहते हैं, आम तौर मे पक्षियों में पाया जाता है, लेकिन कभी कभी यह मानव सहित अन्य कई स्तनधारिओं को भी संक्रमित कर सकता है, जब यह मानव को संक्रमित करता है तो इसे इन्फ्लूएंजा (श्लेष्मिक ज्वर) कहा जाता है। 

इंसानों में बर्ड फ्लू का खतरा

संक्रमित पक्षी अपने लार, मल और श्लेष्म में वायरस बहाते हैं। हालांकि मानव संक्रमण आम नहीं है। मानव संक्रमण तब होता है जब पर्याप्त मात्रा में बर्ड फ्लू वायरस किसी व्यक्ति की नाक, आंख या मुंह में या सांस के माध्यम से प्रवेश करता है। मौजूदा वैज्ञानिक जानकारी के अनुसार, बर्ड फ्लू का मानव में प्रसार बहुत कम होता है। हालांकि, विशेषज्ञ सावधानी बरतते हैं कि बर्ड फ्लू का म्यूटेट स्ट्रेन आसानी से फैलने योग्य साबित हो सकता है। यही कारण है कि मनुष्यों में किसी भी प्रकार के संक्रमण की सावधानीपूर्वक निगरानी और हैंडलिंग महत्वपूर्ण है। मुर्गियों से इंसानों में वायरस फैलने की अधिक संभावना रहती है। कोरोना वायरस महामारी के बाद किसी भी वायरस को हल्के में नहीं लिया जा सकता, इसके लिए लोगों के लिए जरूरी है कि वे सावधानी बरतें। ऐसे में जरूरी है कि संक्रमित पक्षियों से दूर रहें। नॉनवेज खाने से परहेज करें या नॉनवेज खरीदते समय सफाई का विशेष ध्यान रखें।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर