यूपी में नेताओं के चुनावी टोटके, अखिलेश-मायावती के लिए जानें क्या है Lucky

देश
प्रशांत श्रीवास्तव
Updated Oct 14, 2021 | 14:34 IST

UP Election 2022: उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव अब नजदीक है। ऐसे में नेताओं ने चुनावी बिगुल भी बजा दिया है। इस दौरान कई नेताओं के टोटके भी मजेदार हैं।

Akhilesh yadav Vijay Yatra
अखिलेश यादव रथ यात्रा को शुभ मानते हैं।  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • समाजवादी पार्टी के लिए कानपुर भाग्यशाली रहा है। अखिलेश यादव का मानना है कि रथ यात्रा निकालने से राज्य में सत्ता परिवर्तन होता है।
  • नोएडा को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों में अंधविश्वास रहा है। कई मुख्यमंत्री सत्ता में रहते हुए नोएडा आने से परहेज करते रहे हैं।
  • प्रदेश कांग्रेस कार्यालय की चुनावों के समय पेटिंग कराने को लेकर भी नेताओं में अंध विश्वास रहा है।

नई दिल्ली:  उत्तर प्रदेश में राजनीतिक दलों ने अपने चुनावी अभियान का आगाज कर दिया है। सत्ता पाने के लिए, राजनीतिक दल हर वह काम करने की कोशिश करते हैं। जिससे उन्हें कुर्सी मिल जाय। इसके लिए वह कई बार टोटके और अंधविश्वास भी अपनाते हैं। उत्तर प्रदेश के नेता भी इसमें पीछे नहीं है। कोई खास जगह से चुनावी रैली शुरू करता है, तो कोई खास रंग के कपड़े पहनता है। आइए जानते हैं, कि नेताओं के खास टोटके..

विजय यात्रा से होता है सत्ता परिवर्तन

इस बार 12 अक्टूबर को अखिलेश यादव ने कानपुर से विजय यात्रा शुरू की है। इस मौके पर उन्होंने कहा कि जब-जब  समाजवादी पार्टी रथ यात्रा निकालती है। तो राज्य में सत्ता परिवर्तन होता है। समाजवादी पार्टी का कानपुर से अलग ही नाता है। मुलायम सिंह यादव 1989 में पहली बार मुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने भी उत्तर प्रदेश में चौधरी देवी लाल द्वारा शुरू की गई क्रांति रथ की कमान कानपुर में ही संभाली थी। इसके अलावा साल 2012 में भी कानपुर से कनेक्शन अखिलेश यादव के लिए खास रहा था। उस बार भी अखिलेश ने वहां से चुनाव अभियान का बिगुल बजाया था।

नोएडा जाने से बचते हैं मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से पहले तक, मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव से लेकर मायावती तक अपने कार्यकाल में नोएडा जाने से बचते रहे हैं। ऐसे माना जाता है कि मुख्यमंत्री रहते कोई अगर नोएडा जाता है, तो उसकी सत्ता में वापसी नहीं होती है। हालांकि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने इस टोटके को नही माना है और वह अपने कार्यकाल के दौरान  कई बार नोएडा आ चुके हैं। अस्सी के दशक में  नारायण दत्त तिवारी और वीर बहादुर सिंह जब नोएडा गए थे तो उसके कुछ समय बाद ही वह चुनाव हार गए थे। इसी वजह से मुलायम सिंह यादव नोएडा जाने से बचते थे। हालांकि 2011 में मायावती नोएडा गई और उन्हें अगले वर्ष चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा था।

मायावती का गुलाबी रंग कनेक्शन

मुख्यमंत्री को अकसर गुलाबी और सफेद कपड़े पहनती हैं। उन्हें अपने जन्मदिन पर अकसर गुलाबी कपड़े पहने हुए देखा गया है।  मायावती खुशी के मौके जैसे उनका जन्मदिन पर गुलाबी कपड़े पहनती हैं। पार्टी के नेता भी कनेक्शन से इत्तेफाक रखते हैं।

Mayawati Birthday

कांग्रेस का पेटिंग से परहेज

विधानसभा चुनाव को लेकर उत्तर  प्रदेश के कांग्रेस कार्यालय को लेकर भी एक टोटका लोकप्रिय है। नेताओं का मानना है कि अगर प्रदेश अध्यक्ष कार्यालय में पेंट कराते हैं तो उनके लिए अगले चुनावों में खेल खत्म हो जाता है। मसलन महावीर प्रसाद, एनडी तिवारी, सलमान खुर्शीद  और रीता बहुगुणा जोशी के साथ ऐसा हो चुका है। साफ है कि चुनावी माहौल में जीत के लिए कुछ भी करेगा, जैसी सोच के साथ राजनेता आगे बढ़ते हैं।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर