UP के विकास को पंख लगाएंगे एक्‍सप्रेस-वे, सीएम योगी की मेहनत लाई रंग

देश
कुलदीप राघव
Updated Sep 01, 2020 | 08:54 IST

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के नेतृत्‍व में उत्‍तर प्रदेश विकास की नई रफ्तार पकड़ने को तैयार है। प्रदेश में निर्माणाधीन एवं प्रस्‍तावित 4 एक्‍सप्रेस-वे आर्थ‍िक और औद्योगिक विकास को पंख लगाने का काम करेंगे।

Yogi Adityanath CM Uttar Pradesh
Yogi Adityanath CM Uttar Pradesh 

मुख्य बातें

  • मार्च 2021 में शुरू कर द‍िया जाएगा पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे
  • यूपीडा के सीईओ अवनीश अवस्‍थी कर चुके हैं भौतिक निरीक्षण
  • गोरखपुर के विकास के लिए लिंक एक्‍सप्रेस वे पर काम तेज

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के नेतृत्‍व में उत्‍तर प्रदेश विकास की नई रफ्तार पकड़ने को तैयार है। योगी आदित्‍यनाथ के संकल्‍प से उत्‍तर प्रदेश का नवनिर्माण हो रहा है और यह नए भारत के निर्माण में योगदान दे रहा है। यूपी के विकास और निवेश पर सीएम योगी का विशेष फोकस है और उसी कल्‍पना को साकार करने जा रहे हैं निमार्णाधीन एक्‍सप्रेस वे। पूर्वांचल एक्‍सप्रेस-वे, गोरखपुर लिंक एक्‍सप्रेस-वे, बुंदेलखंड एक्‍सप्रेस-वे पर तेजी से काम चालू है और गंगा एक्‍सप्रेस-वे पर जल्‍द कार्य शुरू करने के निर्देश सीएम योगी ने दे दिए हैं। यह एक्‍सप्रेस वे प्रदेश के आर्थ‍िक और औद्योगिक विकास को पंख लगाने का काम करेंगे। 

सभी एक्सप्रेस-वे, प्रदेश के इंफ्रास्ट्रक्चर में मील के पत्थर साबित होंगे। लंबे समय से प्रदेश को जिस आर्थिक विकास की तमन्ना थी, उसे आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की सोच है कि एक तीर से कई निशाने किए जाएं। एक्‍सप्रेव वे और औद्योगिक गलियारों के निर्माण से प्रदेश की अर्थव्‍यवस्‍था को जहां बल मिलेगा, वहीं लाखों की संख्‍या में रोजगार के अवसर पैदा होंगे। उत्‍तर प्रदेश वासियों को उनके घर में ही रोजगार मिलेगा। सरकार ने उद्योगों के लिए बनी नीतियों की समीक्षा करते हुए उसे सरल बनाने का फैसला किया है। इसका लाभ ये होगा कि बाहर से आकर कंपनियां यहां स्‍थापित होंगे और यहां के निवासियों को रोजगार प्रदान करने का काम करेंगी। 

एक तरफ यह सभी एक्‍सप्रेस-वे प्रदेश में आवागमन को सुगम करेंगे, वहीं दूसरी तरफ उपेक्षित स्‍थानों की प्रगति का मार्ग भी प्रशस्‍त करेंगे। इन सभी एक्‍सप्रेस-वे के आसपास के क्षेत्र को औद्योगिक विकास के नजरिए से विकसित किया जाएगा और इनके दोनों तरफ औद्योगिक गलियारा बनाया जाएगा। इन गलियारों में खाद्य प्रसंस्‍करण, एमएसएमई इकाइयां, वेयरहाउस और लॉजिस्टिक पार्क बनाने की योजना पर काम हो रहा है। बेहतर कनेक्टिविटी से उद्योगों से सामान प्रदेश से एक्‍सपोर्ट हो सकेगा। निवेश को लेकर शुरू हुई प्रतिस्पर्धा में कनेक्टिविटी और सिक्योरिटी का अपना महत्व है। 

चमक उठेगा पूर्वांचल

उत्‍तर प्रदेश के पूर्वांचल को प्रदेश की राजधानी से जोड़ने के लिए बनाए जा रहे पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे का निर्माण कार्य बहुत तेजी से किया जा रहा है। गाजीपुर के हैदरिया गांव से शुरू होने वाला यह एक्‍सप्रेस लखनऊ में चांद सराय गांव पर जाकर खत्‍म होगा। 340 किलोमीटर लंबा यह एक्‍सप्रेस वे छह लेन का होगा, जिस पर दूरी लगभग तीन घंटे में पूरी की जा सकेगी। उत्‍तर प्रदेश एक्‍सप्रेस वे औ‍द्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA) की देखरेख में 22,494 करोड़ की लागत से बनने वाला यह एक्‍सप्रेस वे पूर्वांचल के विकास में नई इबारत लिखने जा रहा है। यह एक्‍सप्रेस वे गाजीपुर के बाद मऊ, आजमगढ़, अंबेडकर नगर, अयोध्‍या, सुल्‍तानपुर, अमेठी, बाराबंकी से होकर गुजरेगा। यूपीडा के सीईओ अवनीश अवस्‍थी पूर्वांचल एक्‍सप्रेस का भौतिक निरीक्षण भी कर चुके हैं।

UPEIDA के मीडिया सलाहकार दुर्गेश उपाध्‍याय बताते हैं कि पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे को इस तरह से तैयार किया जा रहा है कि किसी भी तरह की आपातकालीन स्थिति में उस पर भारतीय वायुसेना के फाइटर प्‍लेन उतारे जा सकें। इस एक्‍सप्रेस वे पर अयोध्‍या जनपद में 3.20 किलोमीटर लंबी हवाई पट्टी लड़ाकू विमानों के टेक ऑफ और लैंडिंग के लिए बनाई जा रही है। इस एक्‍सप्रेस वे का 54 प्रतिशत भौतिक काम पूरा हो चुका है। 

गोरखपुर के विकास के लिए लिंक एक्‍सप्रेस वे

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍याथ पांच बार गोरखपुर से सांसद रहे और यहां के लोगों से भावनात्‍मक जुड़ाव रखते हैं। यही वजह है मुख्‍यमंत्री का विशेष स्‍नेह यहां के लोगों पर और विकास की दृष्टि इस क्षेत्र पर रहता है। 5 करोड़ आबादी वाले गोरखपुर क्षेत्र के विकास के लिए गोरखपुर लिंक एक्‍सप्रेस वे की नींच रख योगी आदित्‍यनाथ इस क्षेत्र को सीधे राजधानी से जोड़ना चाहते हैं। 91 किलोमीटर लंबा यह एक्‍सप्रेस वे गोरखपुर को पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे से जोड़ेगा। 5,876 करोड़ की लागत से बन रहे इस मार्ग पर सड़क निर्माण का कार्य जारी है। 

बुंदेलखंड का होगा चहुंमुखी विकास

कई वर्षों से विकास की राह देख रहा बुलंदेखंड क्षेत्र मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की प्राथमिकता में शामिल है। यही वजह है कि फार्मा उद्योग लगाने से लेकर अन्‍य योजनाओं में मुख्‍यमंत्री बुंदेलखंड पर विशेष ध्‍यान देने का जिक्र कर चुके हैं। इसी क्रम में बुंदेलखंड एक्‍सप्रेस वे का निर्माण किया जा रहा है जिससे अलग थलग रहा यह क्षेत्र मुख्‍य धारा में आएगा। 14,716 करोड़ की लागत से बनने वाले इस एक्‍सप्रेस वे की घोषणा योगी ने अप्रैल 2017 में की थी। चित्रकूट से शुरू होने वाला यह एक्‍सप्रेस बांदा, राठ, उरई, जालौन, औरैया होता हुआ इटावा पहुंचने पर आगरा-लखनऊ एक्‍सप्रेस से जुड़ेगा। 296 किलोमीटर की जिस दूरी को तय करने में अभी पांच से छह घंटे लगते हैं, वह इस एक्‍सप्रेस के निर्माण के बाद आधा रह जाएगा। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर