अमरिंदर सिंह की किसानों को दो टूक- पंजाब में व्यवधान पैदा करने की बजाय अपनी ऊर्जा केंद्र के खिलाफ लगाएं

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आश्चर्यजनक रूप से यू-टर्न लेते हुए आंदोलनकारी किसान यूनियनों पर निशाना साधा और उन पर राज्य को आर्थिक नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया।

Amarinder Singh
कैप्टन अमरिंदर सिंह 

नई दिल्ली: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोमवार को आंदोलन कर रहे किसान यूनियनों पर निशाना साधा और उन पर राज्य को आर्थिक नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया। सिंह ने केंद्र के तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को याद दिलाया कि यह पंजाब सरकार के समर्थन के कारण है कि वे दिल्ली में हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में व्यवधान पैदा करने के बजाय किसानों को अपनी ऊर्जा केंद्र सरकार को चुनौती देने पर केंद्रित करनी चाहिए।

अमरिंदर सिंह ने होशियारपुर में सरकारी कॉलेज मुखिलाना की आधारशिला रखने के बाद कहा कि अगर पंजाब में किसानों को रोका जाता, तो वे सिंघू और टिकरी सीमाओं पर नहीं पहुंच पाते। आप हरियाणा और दिल्ली में जो चाहते हैं वह करते हैं लेकिन आप पंजाब को नुकसान क्यों पहुंचा रहे हैं? मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली और हरियाणा के अलावा किसान संघ पंजाब में 113 स्थानों पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि यह राज्य के विकास को गंभीर रूप से प्रभावित कर रहा है।

अमरिंदर सिंह की टिप्पणी हैरान करने वाली है क्योंकि उन्होंने पिछले साल आंदोलन शुरू करने के बाद से किसानों के मुद्दे का समर्थन किया है। किसानों के विरोध पर पंजाब के मुख्यमंत्री का यू-टर्न अगले साल होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव से पहले महत्वपूर्ण है।

पंजाब में कई किसान संघों के नेताओं ने राजनीतिक दलों से राज्य विधानसभा चुनाव की औपचारिक घोषणा होने तक प्रचार करने से परहेज करने का आग्रह किया है। किसान नेताओं का मानना है कि चुनावी रैलियों से उनके आंदोलन से ध्यान हटेगा। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर