Title Deeds:अब नहीं कोई कर पाएगा संपत्ति पर अवैध कब्जा, पीएम नरेंद्र मोदी सौंपेंगे आधार जैसे महत्वपूर्ण कागजात

देश
ललित राय
Updated Oct 11, 2020 | 06:00 IST

physical copies of properties: ग्रामीण इलाके या शहरी संपत्तियों पर कब्जे की शिकायत आम बात है। लेकिन अब विवादों पर लगाम लगाने के लिए पीएम मोदी ड्रोन द्वारा मैपिंग की हुई संपत्तियों की फिजिकल कॉपी सौपेंगे।

Title Deeds:अब नहीं कोई कर पाएगा संपत्ति पर अवैध कब्जा, पीएम नरेंद्र मोदी सौंपेंगे आधार जैसे महत्वपूर्ण कागजात
पीएम नरेंद्र सौंपेंगे संपत्तियों के लिए आधार की तरह कार्ड 

मुख्य बातें

  • संपत्ति के शीर्षकों की भौतिक प्रतियों को पीएम नरेंद्र मोदी सौंपेंगे
  • इन सभी संपत्तियों की मैपिंग ड्रोन से की गई है, आधार की तरह सौंपे जाएंगे जमीन की मालिकाना हक वाले कार्ड
  • गांव हो या शहर संपत्तियों पर अवैध कब्जे की शिकायत आम बात, अभी तक केंद्रीकृत व्यवस्था की थी कमी

नई दिल्ली।  प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी अपने घरों और आसपास के क्षेत्रों की संपत्ति के शीर्षकों की भौतिक प्रतियों को सौंपेंगे ( खेती की जमीन के विपरीत) 763 गांवों के 132,000 भूमि मालिकों के लिए एक महत्वपूर्ण भूमि स्वामित्व सुधार में सुधार कर सकते हैं ग्रामीण संपत्ति-स्वामियों के वित्त और कभी-कभी दशकों से चले आ रहे संपत्ति विवादों को भी समाप्त करते हैं। इसे सुधार की दिशा में बड़ा कदम बताया जा रहा है। हरियाणा के 221, कर्नाटक के दो, महाराष्ट्र के 100, मध्य प्रदेश के 44, उत्तर प्रदेश के 346 और उत्तराखंड के 50 सहित 763 गाँवों के हाउस मालिक, टाइटल डीड के साथ-साथ डिजिटल प्रॉपर्टी कार्ड की भौतिक प्रतियां प्राप्त करेंगे। 

ड्रोन के जरिए की गई है संपत्तियों की मैपिंग
एक सर्वे के मुताबिक भारत में विवाद की वजह में से एक संपत्तियों पर कब्जा रहा है। खास बात यह है कि जिन संप्पतियों की टाइटल सौंपी जाएगी उनकी मैपिंग ड्रोन के जरिए की गई है। इस व्यवस्था के हत कोई भी शख्स दूसरे की जमीन पर अवैध कब्जा नहीं कर सकेगा। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में संपत्तियों के रिकॉर्ड को रखने में मदद मिलेगी। वर्तमान में इतना फूलप्रूफ इंतजाम नहीं है। इन टाइटल कार्ड्स को 24 अप्रैल को पीएम द्वारा शुरू की गई "स्वमित्व" परियोजना के तहत सौंपे जाएंगे। बड़ी बात यह है कि  2024 तक 6.40 लाख गांवों के सभी शहरी या अबादी (आबादी वाले) क्षेत्रों का नक्शा भी तैयार किया जाएगा। 

संपत्ति पर मालिकाना विवाद को खत्म करने की कवायद
इस योजना का उद्देश्य ग्रामीण भारत के लिए एक एकीकृत संपत्ति सत्यापन समाधान मुहैया कराना है। ग्रामीण आबदी क्षेत्रों में निवासियों की भूमि का उपयोग ड्रोन का उपयोग करके नवीनतम सर्वेक्षण विधियों का उपयोग करके किया जाएगा और पंचायती राज मंत्रालय, राज्य राजस्व विभागों और भारतीय सर्वेक्षण मंत्रालय की मदद से किया जाएगा।

संपत्ति धारक आसानी से कर्ज भी ले सकेंगे
यह न केवल ग्रामीण घरेलू मालिकों को अपने घरों को ऋण के लिए जमानत के रूप में उपयोग करने में सक्षम करेगा, बल्कि महंगा ग्रामीण मुकदमेबाजी में भी कटौती करेगा।राजस्व विभाग के स्थानीय प्रतिनिधि और अन्य संबद्ध विभागों के प्रतिनिधि निवासियों की उपस्थिति में लोगों के स्वामित्व का रिकॉर्ड तैयार करेंगे। इसके साथ ही, विवादों के मौके पर निपटान के लिए एक विस्तृत व्यवस्था की गई है, लोगों ने समझाया।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर