नौसेना की झांकी में दिखा 1946 का विद्रोह, भारत की आजादी में रहा है जिसका अहम योगदान

देश
भाषा
Updated Jan 26, 2022 | 13:36 IST

गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान राजपथ पर आयोजित परेड के दौरान नौसेना की झांकी भी दिखाई गई, जिसमें 1946 के उस विद्रोह को दर्शाया गया, जिसकी स्‍वतंत्रता आंदोलन में अहम भूमिका रही। एक महिला अधिकारी ने इसका नेतृत्‍व किया।

नौसेना की झांकी में दिखा 1946 का विद्रोह, भारत की आजादी में रहा है जिसका अहम योगदान
नौसेना की झांकी में दिखा 1946 का विद्रोह, भारत की आजादी में रहा है जिसका अहम योगदान 

नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस परेड में भारतीय नौसेना की झांकी में 1946 के नौसैनिक विद्रोह को दर्शाया गया, जिसने देश के स्वतंत्रता आंदोलन में एक महत्वपूर्ण योगदान दिया था। इसकी मार्चिंग टुकड़ी का नेतृत्व एक महिला अधिकारी ने किया।

गौरतलब है कि 18 फरवरी, 1946 को रॉयल इंडियन नेवी के 'तलवार' जहाज पर सवार नौसैनिकों द्वारा विद्रोह शुरू किया गया था और बाद में 78 जहाज इसका हिस्सा बन गए। गणतंत्र दिवस परेड के दौरान झांकी में नौसेना की 'कॉम्बैट रेडी, क्रेडिबल एंड कोहेसिव' (युद्ध के लिए तैयार, विश्वसनीय और एकजुटता) नीति को प्रदर्शित किया गया।

नौसैनिक दल में 96 पुरुष, तीन प्लाटून कमांडर और एक टुकड़ी कमांडर शामिल थे। इसका नेतृत्व लेफ्टिनेंट कमांडर आंचल शर्मा ने किया, जो भारतीय नौसेना वायु स्क्वाड्रन (आईएनएएस) 314 में तैनात एक पर्यवेक्षक अधिकारी हैं।

आंचल शर्मा ने किया नेतृत्‍व

आंचल शर्मा 2016 में नौसेना में शामिल हुईं थी। 22 जनवरी को उन्होंने कहा था कि उनकी टुकड़ी का उत्साह एवं ऊर्जा अद्वितीय है और गणतंत्र दिवस परेड में इसका नेतृत्व करना वास्तव में एक सम्मान की बात है।

देश, स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने को 'आजादी का अमृत महोत्सव' के रूप में मना रहा है और इसके मद्देनजर झांकी में भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में नौसेना के योगदान का विशेष उल्लेख था।

पीएम मोदी ने गणतंत्र दिवस पर जोंटी रोड्स और क्रिस गेल को लिखा पत्र, दोनों की इस बात के लिए की सराहना

झांकी के आगे के हिस्से में नौसैनिक विद्रोह को दर्शाया गया है, जबकि झांकी के पिछले हिस्से में भारतीय नौसेना की 'मेक इन इंडिया' पहलों को दर्शाया गया है। इसमें 1983 से 2021 की अवधि के दौरान के समय को विशेष रूप से दिखाया गया।

'विक्रांत' का मॉडल रहा आकर्षण का केंद्र

हवा में हल्के लड़ाकू विमान के साथ स्वदेशी विमानवाहक पोत विक्रांत का मॉडल झांकी का आकर्षण केंद्र रहा। झांकी में बांयी तरफ स्वदेशी मिसाइल कार्वेट कोरा, विध्वंसक पोत विशाखापत्तनम, फ्रिगेट शिवालिक और दांयी तरफ पी-75 पनडुब्बी कलवरी, फ्रिगेट गोदावरी और विध्वंसक पोत दिल्ली के मॉडल भी दिखाए गए।

डॉर्नियर विमान से राफेल तक की उड़ान, देखिए राजपथ पर 75 विमानों का अद्भुत नजारा

निचले हिस्से पर लगे फ्रेम में नौसेना के विभिन्न मंचों द्वारा किए स्वदेशी निर्माण को दर्शाया गया। परेड में, भारतीय नौसेना के 72-पुरुष बैंड का नेतृत्व मास्टर चीफ पेटी ऑफिसर संगीतकार एवं उप लेफ्टिनेंट विन्सेंट जॉनसन ने किया।

इस दौरान नौसेना के ब्रास बैंड ने भारतीय नौसेना का गीत 'जय भारती' बजाया। जॉनसन ने ड्रम मेजर के रूप में नौसैनिक बैंड का नेतृत्व किया। यह 18वीं बार था, जब वह गणतंत्र दिवस परेड का हिस्सा बने।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर