Cruise Drugs Case Investigation: 'क्रूज ड्रग्स केस जांच को भटकाने की कोशिश, लगाए जा रहे हैं अनर्गल आरोप'

एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े ने विजिलेंस टीम को जवाब दाखिल करते हुए कहा कि जांच को भटकाने के लिए अनर्गल आरोप लगाये जा रहे हैं।

Sameer Wankhede, Cruise Drugs Case, Nawab Malik, KP Gosavi, Prabhakar Shail Aryan Khan
'क्रूज ड्रग्स केस जांच को भटकाने की कोशिश, लगाए जा रहे हैं अनर्गल आरोप' 
मुख्य बातें
  • क्रूज ड्रग्स केस को भटकाने की कोशिश- समीर वानखेड़े
  • जांच प्रक्रिया पटरी से उतर जाए उसके लिए लगाए जा रहे हैं बेबुनियाद आरोप
  • क्रूज ड्रग्स केस में एक गवाह प्रभाकर शैल घूसखोरी का लगा चुका है आरोप

क्रूज ड्रग्स केस में एनसीबीके जोनल डॉयरेक्टर समीर वानखेड़े विवादों में है। उनके खिलाफ प्रभाकर शैल नाम के एक गवाह से घूस लेने का आरोप लगाया तो महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक निशाना साधते रहते हैं। समीर वानखेड़े की बर्थ सर्टिफिकेट, कास्ट सर्टिफिकेट से लेकर शादी तक सवाल उठा चुके हैं। बता दें कि वानखेड़े के खिलाफ एनसीबी की विजिलेंस टीम जांच कर रही है। इन सबके बीच उन्होंने विजिलेंस टीम से कहा कि जांच को भटकाने के लिए अनर्गल आरोप लगाए जा रहे हैं। 

'मेरे खिलाफ लगाए गए आरोप झूठे'
पूछताछ के दौरान, समीर वानखेड़े ने दावा किया कि उनके खिलाफ आरोप झूठे थे और सूत्रों के अनुसार वह एक "ईमानदार अधिकारी" हैं। सूत्रों ने बताया कि उन्होंने क्रूज ड्रग्स मामले से जुड़ी सारी जानकारी अधिकारियों से साझा की।मामले के एक स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सेल ने आरोप लगाया था कि मामले में शाहरुख खान के बेटे आर्यन की रिहाई के लिए समीर वानखेड़े की ओर से 25 करोड़ रुपये की मांग की गई थी।“सीमा शुल्क में रहते हुए, मैंने 727 करोड़ रुपये से अधिक की जब्ती को अंजाम दिया। जब मैं एनआईए के साथ था तो मैंने अंडरवर्ल्ड से जुड़े कई बड़े मामलों पर काम किया और बड़े अपराधियों की गिरफ्तारी को अंजाम दिया। डीआरआई में रहते हुए, मैंने ड्रग्स की भारी बरामदगी की, जो एनसीबी में आने के बाद भी जारी रही, ”उन्होंने एनसीबी की सतर्कता टीम को बताया।

'झूठ बोल रहा है प्रभाकर शैल'
इस आरोप पर समीर वानखेड़े ने विजिलेंस टीम को बताया कि प्रभाकर सेल "पूरी तरह से झूठ बोल रहा है" और सूत्रों के अनुसार "मनगढ़ंत कहानियां" बनाई हैं।इसके अलावा, समीर वानखेड़े ने टीम को प्रभाकर सेल से भी पूछताछ करने के लिए कहा। समीर वानखेड़े ने कहा कि अगर विजिलेंस टीम को कुछ मिलता है तो केंद्रीय एजेंसी से जांच कराई जा सकती है।

छापेमारी पूरी तरह पारदर्शी
एनसीबी की सतर्कता टीम के साथ मुंबई क्रूज ड्रग्स मामले के हर विवरण को साझा करने के बाद, समीर वानखेड़े ने कथित तौर पर कहा कि अब तक कानूनी रूप से जांच की गई है।उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने एनसीबी में अपने वरिष्ठों के साथ मामले के बारे में सब कुछ साझा किया था और उन्हें इसकी जानकारी थी।सूत्रों के अनुसार, "मैंने लगातार उच्च अधिकारियों को मामले की प्रगति के बारे में सूचित किया, जिसमें छापेमारी, गिरफ्तारी और बरामदगी शामिल है।


 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर