Good news! कोव‍िड-19 का R-value कम हुआ, जानें क्‍या है इसका मतलब

कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका के बीच कोरोना वायरस संक्रमण के R-value में गिरावट दर्ज की गई है। कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान यह सर्वाधि‍क 1.37 था। 

कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान R-value सबसे अधिक था
कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान R-value सबसे अधिक था (फाइल फोटो)   |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • कोविड-19 के R-value में गिरावट दर्ज की गई है, वैज्ञानिकों के मुताबिक पूरे देश में यह 1 अंक से नीचे बना हुआ है
  • यह तथ्‍य ऐसे समय में सामने आया है, जबकि महामारी की तीसरी आशंका को लेकर विशेषज्ञ लगातार चेता रहे हैं
  • वैज्ञानिकों के मुताबिक, अप्रैल-मई में कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान R-value सर्वाधिक 1.37 दर्ज किया गया था

नई दिल्ली : कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका के बीच कोरोना वायरस के र‍िप्रोडक्टिव नंबर (Reproductive number) में कमी आई है। र‍िप्रोडक्टिव नंबर या आर-वैल्‍यू (R-value) कोरोना वायरसर संक्रमण के फैलने की रफ्तार को बताता है, जिसमें वैज्ञानिकों के मुताबिक, इस महीने (सितंबर) के मध्‍य में कमी आई है। हालांकि केरल, महराष्‍ट्र के कई इलाकों में यह अधिक 1 अंक से दर्ज की गई है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक, सितंबर के मध्‍य में कोविड-19 का 'आर-वैल्यू' घटकर 0.92 रह गया है, जो अगस्त के अंत में 1.17 था। 'आर-वैल्यू' वह मानक है, जिससे पता चलता है कि कोरोना वायरस का संक्रमण कितनी तेजी से फैल रहा है। अप्रैल-मई 2021 में कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान 'आर-वैल्‍यू' 1.37 था, जब देश ने इस महामारी के कारण व्‍यापक तबाही देखी।

कोविड का R-value 1 नीचे

अब कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका के बीच वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस के आर-वैल्‍यू में गिरावट आई है और पूरे देश में यह औसतन 1 अंक से नीचे बना हुआ है। हालांकि मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरु जैसे प्रमुख महानगर भी हैं, जहां आर-वैल्यू एक अंक से अधिक है। वहीं, राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली और पुणे में यह 1 अंक से कम बना हुआ है।

पूरे देश में ही नहीं, बल्कि महाराष्ट्र और केरल में भी औसत आर-वैल्यू 1 से कम है, जिसे दोनों राज्‍यों में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए बड़ी राहत के तौर पर देखा जा रहा है। हालांकि दोनों राज्‍यों के कई इलाकों में आर-वैल्‍यू 1 से अधिक है। आंकड़ों के मुताबिक, मुंबई में आर-वैल्यू जहां 1.09 है, वहीं चेन्नई में यह 1.11, कोलकाता में 1.04 और बेंगलुरु में 1.06 है।

क्‍या है कोविड का R-value?

शोधकर्ताओं के मुताबिक, अगस्त के आखिर में आर-वैल्यू 1.17 था, जो 4-7 सितंबर के बीच घटकर 1.11 हुआ। उसके बादसे यह 1 अंक से नीचे बना हुआ है। र‍िप्रोडक्टिव नंबर या आर-वैल्‍यू यह दर्शाता है कि एक संक्रमित व्यक्ति औसतन कितने लोगों को संक्रमित करता है। दूसरे शब्दों में, यह बताता है कि वायरस कितनी तेजी से फैल रहा है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर