Corona Third Wave: थर्ड वेव के खतरे के बीच बन सकते हैं 3 तरह के हालात, IIT कानपुर की खास स्टडी

आईआईटी कानपुर के शोधकर्ताओं ने कोरोना महामारी की लहर के संबंध में susceptible-infected-recovered की मदद लेकर आगे की संभावाओं को जताया है।

,Third wave of corona epidemic, research of IIT Kanpur, use of masks, social distancing, corona vaccination, corona infection, corona cases in India
कोरोना की तीसरी लहर के खतरे के बीच आईआईटी कानपुर की खास स्टडी 

मुख्य बातें

  • आईआईटी कानपुर मे कोरोना के थर्ड वेव से संबंधित खास स्टडी
  • वायरस के स्वरूप को देखते हुए तीन लाख के करीब केस, ढिलाई बरतने पर 5 लाख से अधिक केस हर दिन
  • अगर सभी हस्तक्षेपों को अमल में लाया गया तो प्रतिदिन 2 लाख के करीब केस

कई विशेषज्ञों द्वारा सितंबर और अक्टूबर के बीच कोरोनी की तीसरी लहर की भविष्यवाणी की गई है। लेकिन इन सबके बीच आईआईटी कानपुर के शोधकर्ताओं की एक टीम द्वारा डेटा विश्लेषण के बाद कुछ खास संभावनाओं को बताया है। यह बताने की कोशिश की गई है कि ऐसा हो सकता है कि हम थर्ड वेव का सामना करें लेकिन उसका असर दूसरी लहर की तरह घातक नहीं होगा। इसके लिए तीन संभावित परिदृश्य सामने रखे हैं  हालांकि सभी तीन परिदृश्य इस धारणा पर आधारित हैं कि लोगों की आवाजाही पर सभी प्रतिबंध 15 जुलाई तक हटा दिए जाते हैं।

विशेष रूप से,शोधकर्ताओं के मॉडल  में टीकाकरण के प्रभावों का जिक्र नहीं जिसे कोरोना चेन के प्रसार को तोड़ने के लिए बड़ा हथियार बताया जा रहा है। आईआईटी कानपुर की टीम ने अपने अनुमान लगाने के लिए अतिसंवेदनशील-संक्रमित-पुनर्प्राप्त (SIR) मॉडल का उपयोग किया। महामारी विज्ञान मॉडल एक समय श्रृंखला में एक बंद आबादी के भीतर सार्स- कोव-2 से संक्रमित लोगों की संभावित संख्या की गणना करता है। मॉडल के निर्माण के लिए दूसरी लहर के डेटा का उपयोग किया गया था।


तीन तरह का खास संभावना

पहला परिदृश्य

बैक टू नॉर्मल' जहां कोई और प्रतिबंध नहीं लगाया जाता है। अगर इस तरह की स्थिति बनेगी तो तीसरी लहर अक्टूबर के महीने में चरम पर पहुंचने का अनुमान है। हालांकि, यह चोटी दूसरी लहर की तुलना में कम होगी। टीम प्रति दिन लगभग 3.2 लाख मामलों तक जामे का अनुमान है। 

दूसरा परिदृश्य

 शोधकर्ताओं ने  नए और अधिक संक्रामक वायरस उत्परिवर्तन को ध्यान में रखकर जो मुल्यांकन किया है वो बेहद डरावना है। एक बार फिर यह मानते हुए कि कोई प्रतिबंध लागू नहीं होता है, यह शिखर सितंबर में काफी पहले पहुंच सकता है। यह ध्यान देने योग्य है, सबसे खराब स्थिति भी है, और शोधकर्ता इस हालात में  प्रति दिन 5 लाख मामलों की संभावना देख रहे हैं जो दूसरी लहर से कहीं ज्यादा है। 

तीसरा परिदृश्य

यह एक ऐसी तस्वीर है जो वायरस के प्रसार को रोकने के उद्देश्य से आगे के हस्तक्षेप को जिम्मेदार माना गया है। इसका अर्थ यह है कि अगर इस इकोसिस्टम में मौजूद सभी लोग कोविड से संबंधित प्रोटोकॉल का पालन करते हैं तो तीसरी लहर की चोटी, पहले परिदृश्य की तरह, दूसरी लहर की तुलना में कम होगी, लेकिन अभी भी प्रति दिन लगभग 2 लाख संक्रमण मौजूद है। तीन परिदृश्यों में से हर एक से एक निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि तीसरी लहर में पीक सितंबर 2020 में पहली लहर के दौरान देखी गई तुलना में अधिक होगी।

मॉडल में इन्हें नहीं शामिल किया गया
भारत ने 16 जनवरी को अपना टीकाकरण अभियान शुरू किया और अब तक अपनी आबादी का केवल 3.8 प्रतिशत (डेटा में हमारी दुनिया के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार) पूरी तरह से टीकाकरण किया है। हालांकि पात्र आबादी के 17.5 प्रतिशत ने कम से कम एक खुराक प्राप्त की है।


केंद्र सरकार ने अपनी वैक्सीन खरीद और वितरण नीति में कई संशोधन किए हैं। हाल ही में सभी को मुफ्त टीकाकरण प्रदान करने का निर्णय लिया है, और अन्य टीकों के लिए भविष्य की मंजूरी के साथ, और फार्मा प्रमुख वैक्सीन उत्पादन में तेजी लाने की योजना बना रहे हैं, आशा है कि टीकाकरण दर आने वाले हफ्तों और महीनों में तेजी आएगी।हालांकि, आईआईटी कानपुर के शोधकर्ताओं द्वारा बनाए गए मॉडल में जनसंख्या पर टीकाकरण के प्रभाव का हिसाब नहीं है यानी आबादी के प्रत्येक सदस्य के संक्रमित होने की समान संभावना है। टीकाकरण संचरण श्रृंखला को तोड़ने के लिए जाना जाता है। वर्तमान मॉडल में टीकाकरण शामिल नहीं है, जिससे पीक में काफी कमी आनी चाहिए। शोधकर्ताओं ने कहा कि टीकाकरण के साथ संशोधित मॉडल और उसी पर हाल के आंकड़ों के साथ काम किया जा रहा है।

दूसरी धारणा
प्रोफेसर राजेश रंजन और महेंद्र वर्मा की अध्यक्षता में शोधकर्ताओं ने देश में प्रकोप की वर्तमान स्थिति के बारे में अन्य टिप्पणियां भी कीं।विशेष रूप से, उन्होंने बताया कि उत्तर-पूर्व के कुछ राज्यों जैसे मिजोरम, मणिपुर और सिक्किम को छोड़कर अधिकांश राज्यों में दूसरी लहर क्षीण हो रही है।उन्होंने यह भी कहा कि अधिकांश राज्य अपनी टेस्ट सकारात्मकता दर (टीपीआर) को डब्ल्यूएचओ-अनुशंसित 5 प्रतिशत के स्तर से नीचे लाने में कामयाब रहे हैं, लेकिन उन्होंने कहा कि केरल, गोवा, सिक्किम और मेघालय में अभी भी उच्च टीपीआर 10 प्रतिशत से अधिक है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर