corona wave explainer: कोरोना महामारी की लहरों के जन्मने की क्या है पुख्ता वजह

हेल्थ
ललित राय
Updated Jun 23, 2021 | 14:53 IST

covid waves explained: कोरोना महामारी की दूसरी लहर का भारत सामना कर रहा है और तीसरी लहर की आशंका है। इन सबके बीच हर कोई जानना चाहता है कि आखिर महामारी की लहरें क्यों जन्म लेती हैं।

corona pandemic wave,Second wave of corona epidemic, fear of third wave of corona epidemic, Dr. Randeep Guleria, Dr. VK Paul, cause of corona epidemic due to corona wave
कोरोना महामारी की लहरों के जन्म लेने के पीछे क्या है पुख्ता वजह 

मुख्य बातें

  • भारत मे कोरोना महामारी की तीसरी लहर की चेतावनी है
  • दूसरी लहर में अह कोरोना के मामलों में कमी आ रही है
  • कोरोना महामारी की लहरों के लिए मुख्य रूप से चार कारक जिम्मेदार

देश इस समय कोरोना महामारी ( what are the waves of covid) की दूसरी लहर का सामना कर रहा है हालांकि अब केस में कमी आ रही है। दूसरी लहर के लिए डेल्टा वैरिएंट( Delta Variant) को जिम्मेदार बताया गया और अब तीसरी लहर की भी आशंका सितंबर और अक्टूबर में जताई जा रही है जिसके लिए डेल्टा प्लस वैरिएंट (Delta Plus Variant)की प्रभावी भूमिका होगी। अब सवाल यह है कि आखिर किस आधार पर हम इसे लहर की संज्ञा देते हैं और कैसे महामारी पर लगाम लगाई जा सकती है।

इस संबंध में नीति आयोग के सदस्य स्वास्थ्य डॉ वी के पॉल का कहना है कि वैक्सीन ही एक मात्र बचाव का हथियार है। इसका अर्थ यह है कि महामारी की किसी भी लहर से बचने के लिए हमें वैक्सीन, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। इन सबके बीच हम बताएंगे कि महामारी की अलग अलग लहर क्यों आती हैं।

नई लहरें क्यों आती हैं?

डॉ पॉल ने कहा कि चार तत्व हैं जो एक नई लहर के निर्माण की ओर ले जाते हैं। यदि हम वायरस को रोकना चाहते हैं और इसके आगे बढ़ने को रोकना चाहते हैं, तो हमें सभी चार बिंदुओं पर इसका मुकाबला करने का प्रयास करना चाहिए।

  1. वायरस का व्यवहार: वायरस में फैलने की क्षमता और क्षमता होती है
  2. अतिसंवेदनशील मेजबान: वायरस जीवित रहने के लिए अतिसंवेदनशील मेजबानों की तलाश में रहता है। इसलिए, यदि हम या तो टीकाकरण या पिछले संक्रमण से सुरक्षित नहीं हैं, तो हम एक अतिसंवेदनशील मेजबान हैं।
  3. ट्रांसमिसिबिलिटी: वायरस काफी स्मार्ट हो सकता है जहां यह उत्परिवर्तित होता है और अधिक ट्रांसमिसिबल हो जाता है। वही वायरस जो तीन मेजबानों को संक्रमित करता था, 13 को संक्रमित करने में सक्षम! यह कारक अप्रत्याशित है। इस तरह के म्यूटेशन से लड़ने की कोई पूर्व योजना नहीं बना सकता। वायरस की प्रकृति में परिवर्तन और इसकी संचरण क्षमता एक एक्स फैक्टर है और कोई भी भविष्यवाणी नहीं कर सकता कि यह कब और कहां हो सकता है।
  4. अवसर: 'अवसर', जो हम वायरस को संक्रमित करने के लिए देते हैं। अगर हम एक साथ बैठकर खाते हैं, भीड़ लगाते हैं, बिना मास्क के बंद क्षेत्रों में बैठते हैं, तो वायरस को फैलने के अधिक अवसर मिलते हैं।



महामारी की लहरों से निपटने के तरीके

अब सवाल यह है कि जब ये चार कारण नई लहरों को जन्म देने के लिए जिम्मेदार हैं तो उनसे निपटने का उपाय क्या है। इस बारे में डॉ वी के पॉल क्या कहते हैं उसे समझना भी जरूरी है। उनका कहना है कि  हम वायरस के व्यवहार को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं लेकिन हम निश्चित रूप से इसके अवसरवादी व्यवहार के लिए तोप का चारा बनना बंद कर सकते हैं।

चार वजहों में से दो दो तत्व- संक्रमण के लिए संवेदनशीलता और अवसर पूरी तरह से हमारे नियंत्रण में हैं जबकि अन्य दो- वायरस का व्यवहार और संचारण, भविष्यवाणी या नियंत्रित नहीं किया जा सकता है। इसलिए, यदि हम सुरक्षित हैं और सुनिश्चित करते हैं कि हम अतिसंवेदनशील नहीं हैं, तो वायरस जीवित नहीं रह पाएगा। हम मास्क पहनकर या टीका लगवाकर संवेदनशीलता को नियंत्रित कर सकते हैं। इसलिए यदि हम कोविड के उचित व्यवहार का पालन करके अवसरों को कम करते हैं और संक्रमण के प्रति संवेदनशीलता को कम करते हैं, तो तीसरी लहर नहीं आएगी।”

डॉ पॉल ने एक और लहर को रोकने के लिए नागरिकों के साथ-साथ व्यवस्था के सामूहिक प्रयासों का भी आह्वान किया। “इनमें से कुछ के लिए व्यक्तिगत प्रयासों की आवश्यकता होती है, जबकि कुछ अन्य जैसे समूहों का अलगाव, संपर्क अनुरेखण, परीक्षण क्षमता सुनिश्चित करना और जागरूकता निर्माण के लिए सिस्टम को कार्य करने की आवश्यकता होती है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर