लद्दाख के डेमचोक में भारतीय मना रहे थे दलाई लामा के जन्मदिन का जश्न, चीनी सैनिकों ने किया विरोध, दिखाए बैनर

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच तनाव बना हुआ है। अब 6 जुलाई को जब लद्दाख के डेमचोक इलाके में भारतीयों द्वारा तिब्बती बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा के जन्मदिन का जश्न मनाया जा रहा था, तो चीनी सेना ने विरोध किया।

chinese army
चीनियों ने फिर की हरकत 

मुख्य बातें

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी थी दलाई लामा को जन्मदिन की बधाई
  • दलाई लामा को चीन 'अलगाववादी' मानता है
  • उनके जन्मदिन का जश्न मनाने पर जताया विरोध

नई दिल्ली: चीनी सैनिकों ने लद्दाख के डेमचोक इलाके में भारतीय ग्रामीणों द्वारा तिब्बती बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा के जन्मदिन समारोह का विरोध किया। सेना के सूत्रों ने कहा कि चीनी सैनिकों ने भारतीय ग्रामीणों को बैनर और पोस्टर दिखाए, जो दलाई लामा का जन्मदिन मना रहे थे। उन्होंने कहा कि चीनी सैनिकों द्वारा लगाए गए बैनर और पोस्टर जाहिर तौर पर भारतीय ग्रामीणों द्वारा समारोह का विरोध करने के बारे में थे। इस मुद्दे को ग्रामीणों और स्थानीय लोगों द्वारा भारतीय सुरक्षा बलों के संज्ञान में लाया गया था।

सूत्रों ने कहा कि चीनी सैनिक सिंधु नदी के पास चीनी क्षेत्र की ओर तैनात थे, जबकि समारोह दूसरी तरफ था। पहले भी कई मौकों पर चीनी लद्दाख में दलाई लामा के जन्मदिन समारोह का विरोध करते रहे हैं। 

1959 से भारत में रह रहे दलाई लामा

ताजा घटना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 6 जुलाई को तिब्बती धर्मगुरु को उनके जन्मदिन पर बधाई देने के तुरंत बाद हुई। दलाई लामा तिब्बत के आध्यात्मिक गुरु हैं। उनका जन्म 6 जुलाई 1935 को उत्तरपूर्वी तिब्बत के आमदो के तक्सेर में स्थित एक छोटे से गांव में एक किसान परिवार में हुआ था। दो साल की उम्र में ल्हामो धोंडुप नाम के बच्चे को पिछले 13वें दलाई लामा थुबटेन ग्यात्सो के पुनर्जन्म के रूप में मान्यता दी गई थी। 1950 में तिब्बत पर चीन के आक्रमण के बाद उन्हें पूर्ण राजनीतिक सत्ता संभालने के लिए बुलाया गया था। 1959 में उन्हें भागने के लिए मजबूर किया गया था। तब से वह धर्मशाला में रह रहे हैं।

PM मोदी ने दिया चीन को संदेश

विदेश मंत्रालय ने हाल में कहा था कि दलाई लामा को एक सम्मानित धार्मिक नेता के नाते राजकीय मेहमान का सम्मान देने की भारत की एक समान नीति रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर बताया कि उन्होंने दलाई लामा से बात की और उन्हें जन्मदिन की बधाई दी। कई धड़ों का मानना है कि पूर्वी लद्दाख में सीमा पर चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच प्रधानमंत्री ने बीजिंग को परोक्ष संदेश दिया है। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर