असम में 5 महीने में 5 जेहादी मॉड्यूल का खुलासा, जानें क्या था इरादा

Jehadi Modules busted in Assam: सरकार के दावों से साफ है कि राज्य में जेहादी मॉड्यूल का जाल फैला हुआ है। और यह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकते थे। इन मॉड्यूल का खुलासा असम पुलिस और एनआईए के साथ मिल कर किया गया है।

assam jehadi module exposed
असम में जेहादी मॉड्यूल पर सख्ती 
मुख्य बातें
  • जेहादी मॉड्यूल का बंग्लादेश से कनेक्शन है।
  • छोटे बच्चों को मदरसे में पढ़ाने के बहाने ट्रेनिंग दी जा रही थी।
  • सभी मॉड्यूल से जेहादी साहित्या मिलने का दावा किया गया है।

Jehadi Modules busted in Assam: असम सरकार का दावा है कि उसने पिछले 5 महीने में 5 जेहादी मॉड्यूल का खुलासा किया है। इसमें बरपेटा मॉड्यूल, एबीटी मॉड्यूल-2,एबीटी मॉड्यूल-3,एबीटी मॉड्यूल-4 और एबीटी मॉड्यूल शामिल हैं। सरकार के अनुसार यह खुलासे पिछले 5 महीने में किए गए हैं। सरकार के इन दावों से साफ है कि राज्य में जेहादी मॉड्यूल तेजी से पैर पसार रहे हैं। और यह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकते थे। इन मॉड्यूल का खुलासा असम पुलिस और एनआईए के साथ मिल किया है।

कौन से हैं जेहादी मॉड्यूल

बरपेटा मॉड्यूल- अंसार अल बंग्ला टीम के 6 व्यक्तियों की गिरफ्तारी  4 मार्च को की गई थी। इसका अहम व्यक्ति मोहम्मद सुमन उर्फ सोफि उल इस्लाम है। जो कि एक मस्जिद में इमाम और मदरसे में शिक्षक है। आम तौर पर यह मॉड्यूल बंग्लादेश के आए लोगों को अपने प्रभाव में लेता है। पुलिस को उसके पास से जेहादी साहित्य मिला है। और इसका केस एनआईए के पास है।

एबीटी मॉड्यूल-2: 14 अप्रैल को अन्य मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया। जिसमें मुसरफ हुसैन, मॉकीबुल हुसैन और अन्य शामिल थे। इनके पास से  जेहादी साहित्य जेहादिर लाख्या (जेहाद का लक्ष्य) प्राप्त हुए

एबीटी मॉड्यूल-3: त्रिपुरा से 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया।

Assam: यूपी की तर्ज पर असम में बुलडोजर का एक्शन, जानें क्यों हुई कार्रवाई

एबीटी मॉड्यूल-4: मोरीगांव मदरसा केस- इस मामले में मुस्तफा को गिरफ्तार किया गया है। मुस्तफा ने 2017 में भोपाल से इस्लामिक कानून में पीएचडी की है ।उसने जमीउल हुडा मदरसा खोला जिसमें 43 छात्र थे। मुस्तफा छोटे बच्चों को पढ़ा रहे थे। वह बांग्लादेशी नागरिकों को अवैध रूप से रखता था और कथित तौर पर जेहादी साहित्य पढ़ा रहा था। उन सभी छात्रों को सामान्य विद्यालयों में भेज दिया गया है। मुस्तफा ने अंसार अल बांग्ला के शीर्ष नेताओं से मुलाकात की और आलम गिर को पनाह दी, जो मोइराबारी में एक मस्जिद में ईमान के रूप में काम कर रहा था।उसके पास इलेक्ट्रॉनिक एन्क्रिप्शन संवेदनशील डेटा बरामद किया गया था। मदरसे के सभी छात्रों को सामान्य विद्यालयों में भेज दिया गया है।

एबीटी मॉड्यूल-5: 27 जुलाई को बारपेटा पुलिस ने 9 संदिग्ध एब सदस्यों का फिर से खुलासा किया। गिरफ्तार दीवान हाजीबुल बांग्लादेश के संपर्क में था। 


 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर