New Rail Minister:अश्विनी वैष्णव होंगे अब नए रेल मंत्री, IAS से 'अहम मंत्रालय' संभालने का सफर

देश
रवि वैश्य
Updated Jul 07, 2021 | 23:02 IST

Ashwini Vaishnav News:रेल मंत्री पीयूष गोयल से रेल मंत्रालय का चार्ज लेकर अश्विनी वैष्णव को दिया गया है यानी वैष्णव अब नए रेल मंत्री (New Rail Minister) होंगे।

Ashwini Vaishnav New Rail Minister
अश्विनी वैष्णव एक पूर्व आईएएस अधिकारी हैं  |  तस्वीर साभार: YouTube

मुख्य बातें

  • उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय यानी PMO में भी काम किया
  • वैष्णव ओडिशा के बालासोर और कटक जिलों में कलेक्टर के रूप में भी रहे हैं
  • 2010 में उन्होंने आईएएस का रास्ता छोड़ दिया

 Ashwini Vaishnav Become New Railway Minister: अश्विनी वैष्णव (Ashwini Vaishnav) भले ही घर-घर में जाना-पहचाना नाम न हों, लेकिन वह मोदी सरकार के उभरते हुए सितारे हैं। वैष्णव, जिन्होंने राज्य मंत्री के रूप में बिना किसी कार्यकाल के केंद्रीय मंत्रिमंडल में सीधे प्रवेश किया है, एक पूर्व आईएएस अधिकारी (IAS Officer) हैं, जिनके पास आईआईटी कानपुर और व्हार्टन बिजनेस स्कूल की डिग्री हैं वह 2019 से ओडिशा से भाजपा के राज्यसभा सांसद हैं।

इसके अलावा, राष्ट्रपति भवन में शपथ ग्रहण समारोह के दौरान, वैष्णव पेकिंग क्रम में काफी ऊपर थे, जो कि कैबिनेट में और नए मंत्रियों के बीच उनकी वरिष्ठता का संकेत दे सकता है।

एक इंजीनियर, सीईओ, आईएएस अधिकारी, उद्यमी और अंत में एक राजनेता के अपने सफर के दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) में भी काम किया, जब दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे।

वैष्णव ने संभाली है कई जिलों की कलेक्टरी

वैष्णव ने ओडिशा के बालासोर और कटक जिलों में कलेक्टर के रूप में कार्य किया है। बालासोर में एक कलेक्टर के रूप में, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने अपने जिले में राहत और पुनर्वास कार्यों के आयोजन और निष्पादन में वैष्णव द्वारा प्रदर्शित ईमानदारी, समर्पण और प्रतिबद्धता की सराहना की थी।

...तो वैष्णव के इस कदम से कई लोगों की जान बची

1999 में ओडिशा एक सुपर साइक्लोन की चपेट में आया था, जिसमें हजारों लोग मारे गए थे। सुपर साइक्लोन हिट होने से पहले वैष्णव ने अपना रास्ता ट्रैक करने के लिए अमेरिकी नौसेना की वेबसाइट पर लॉग इन किया। उन्होंने हर घंटे चक्रवात पर नजर रखी और नियमित अंतराल पर मुख्य सचिव को एक रिपोर्ट भेजी, जो ओडिशा सरकार के लिए चक्रवात के बारे में जानकारी का एक प्रमुख स्रोत बन गया। इस जानकारी ने सरकार को आवश्यक कदम उठाने में मदद की, जिससे कई लोगों की जान बच गई।

अटल बिहारी वाजपेयी के समय में किया है PMO में भी काम

उन्होंने 2003 तक ओडिशा में काम किया, जब उन्हें तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी के कार्यालय में उप सचिव के रूप में नियुक्त किया गया था। पीएमओ में अपने संक्षिप्त कार्यकाल के बाद, जहां उन्होंने बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में सार्वजनिक-निजी-भागीदारी ढांचे को बनाने में योगदान दिया, वैष्णव को वाजपेयी के निजी सचिव के रूप में नियुक्त किया गया था, जब 2004 में भाजपा के नेतृत्व वाला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन चुनाव हार गया था।2006 में वह मोरमुगाओ पोर्ट ट्रस्ट के उपाध्यक्ष बने, जहां उन्होंने अगले 2 वर्षों तक काम किया।

 2010 में उन्होंने छोड़ दिया IAS का रास्ता

अमेरिका में एमबीए पूरा करने के बाद, वैष्णव भारत वापस आ गए और 2010 में उन्होंने आईएएस का रास्ता छोड़ दिया और प्रबंध निदेशक के रूप में जीई ट्रांसपोर्टेशन में शामिल हो गए। फिर वे सीमेंस में वाइस प्रेसिडेंट, लोकोमोटिव्स एंड हेड, अर्बन इंफ्रास्ट्रक्च र स्ट्रैटेजी के रूप में शामिल हुए। 2012 में, उन्होंने कॉपोर्रेट क्षेत्र को भी अलविदा कर दिया और गुजरात में थ्री टी ऑटो लॉजिस्टिक्स प्राइवेट लिमिटेड और वी जी ऑटो कंपोनेंट्स प्राइवेट लिमिटेड, दोनों ऑटोमोटिव कंपोनेंट्स मैन्युफैक्च रिंग यूनिट्स की स्थापना की।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़, Facebook, Twitter और Instagram पर फॉलो करें.

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर