Hathras Case: पीड़िता की MLC रिपोर्ट आई सामने, यूपी पुलिस के दावों पर खड़े हुए सवाल

Hatras Case:एएमयू के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज (JNMC) द्वारा सौंपी गई एक रिपोर्ट में हाथरस सामूहिक बलात्कार के आरोपियों पर "बल के उपयोग और प्रवेश के संकेत" का उल्लेख किया गया है।

Hathras Case Updated News
पीड़िता ने डॉक्टरों को यह भी बताया कि आरोपियों ने मौखिक रूप से उसे जान से मारने की धमकी दी थी (प्रतीकात्मक फोटो) 

AMU के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज (JNMC) द्वारा तैयार 19 वर्षीय हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मेडिको-लीगल रिपोर्ट में कहा गया है कि लड़की पर बल प्रयोग किया गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि "बल और प्रवेश के उपयोग के संकेत" थे। पीड़िता की जांच के बाद फॉरेंसिक विशेषज्ञों द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि डॉक्टरों द्वारा वीर्य नहीं पाया गया। डॉक्टरों में से एक ने बल के उपयोग की पुष्टि की और कहा, "प्रवेश और संभोग के बारे में राय एफएस रिपोर्ट की लंबित उपलब्धता के अधीन है।"

रिपोर्ट के पेज 23 के अनुसार, योनि की पूरी पैठ थी, मृतक के शरीर में वीर्य भी नहीं पाया गया था। डॉक्टरों ने देखा कि घटना के समय लड़की बेहोश थी।"घटना के दौरान या बाद में दर्द", उक्त रिपोर्ट में भी उल्लेख किया गया था। फोरेंसिक विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ. फैज अहमद द्वारा हस्ताक्षरित रिपोर्ट में कहा गया है कि लड़की ने अपने बयान में चार पुरुषों द्वारा यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था।

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक पीड़िता ने डॉक्टरों को यह भी बताया कि आरोपियों ने मौखिक रूप से उसे जान से मारने की धमकी दी थी, लड़की ने चार लोगों- संदीप, रामू, लव कुश और रवि को आरोपी बनाया था।

मृतका ने "dying declaration के लिए मजिस्ट्रेट" की व्यवस्था करने का अनुरोध किया था

न्यूरोसर्जरी विभाग के अध्यक्ष एमएफ हुदा ने आकस्मिक चिकित्सा अधिकारी (casualty medical officer) को पत्र लिखकर सूचित किया था कि लड़की गंभीर हालत में है और उसने "dying declaration के लिए मजिस्ट्रेट" की व्यवस्था करने का अनुरोध किया था।लड़की ने 22 सितंबर को एक मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज किया, जिसके बाद, उसके नमूनों को जांच के लिए फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला भेजा गया। आगरा की एफएसएल रिपोर्ट का तर्क है कि लड़की के साथ बलात्कार नहीं हुआ था। एडीजी (कानून और व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने एफएसएल रिपोर्ट के हवाले से कहा था, "रिपोर्ट के अनुसार, नमूने में कोई वीर्य नहीं पाया गया था।" सफदरजंग अस्पताल द्वारा प्रस्तुत मृतक की ऑटोप्सी रिपोर्ट में कहा गया है कि लड़की के हाइमन में "multiple old healed tears" और "anal orifice showed old healed tear" थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार, लड़की की मौत मारपीट के कारण हुई।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर