LAC पर तनाव के बीच चीन की पैंतरेबाजी, गोगरा-हॉट स्प्रिंग डिस्‍एंगेजमेंट को लेकर रखी ये शर्त

India China Border news: पूर्वी लद्दाख में LAC पर भारत-चीन तनाव के बीच चीनी सेना गोगरा-हॉट स्प्रिंग से सैन्‍य वापसी को लेकर अब पैंतरेबाजी अपना रही है।

LAC पर तनाव के बीच चीन की पैंतरेबाजी, गोगरा-हॉट स्प्रिंग डिस्‍एंगेजमेंट को लेकर रखी ये शर्त
LAC पर तनाव के बीच चीन की पैंतरेबाजी, गोगरा-हॉट स्प्रिंग डिस्‍एंगेजमेंट को लेकर रखी ये शर्त  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच LAC पर तनाव की स्थिति अब भी बरकरार है
  • विवाद के कुछ बिंदुओं से सैन्‍य वापसी नहीं हुई है, जिसे लेकर PLA पैंतरेबाजी कर रही है
  • पीएलए गोगरा-हॉट स्प्रिंग इलाके में विवाद का समाधान स्थानीय कमांडर्स के स्‍तर पर चाहती है

नई दिल्‍ली : पूर्वी लद्दाख में वास्‍तव‍िक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीन के साथ तनाव के बीच बीते सप्‍ताह विदेश मंत्रालय ने कहा था कि क्षेत्र में सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है। भारत ने सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया जल्द पूरा करने पर जोर दिया है, लेकिन चीन इस मसले को लेकर पैंतरबाजी पर उतर आया है।

दोनों देशों के बीच सैन्य एवं राजनयिक स्तर की वार्ता के बाद दोनों पक्षों ने इस वर्ष फरवरी में पैंगोंग सो के उत्तरी और दक्षिणी किनारे से सैनिकों एवं हथियारों को पीछे हटा लिया था। लेकिन गोगरा-हॉट स्प्रिंग इलाके में अब भी गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। भारत और चीन के बीच 11 दौर की कॉर्प्स कमांडर स्तर की वार्ता हो चुकी है। दोनों पक्षों के बीच 12वें दौर की वार्ता की तारीखों पर फैसला किया जाना है, लेकिन चीन इसे लेकर उदासीन रवैया अपनाए हुए है।

PLA की अड़चन

बताया जा रहा है कि उसने पहले तो गोगरा-हॉट स्प्रिंग इलाके से सेना हटाने से इनकार कर दिया और अब चाहता है कि विवाद का समाधान कॉर्प्स कमांडर स्तर की बातचीत से नहीं, बल्कि स्थानीय कमांडर्स के स्‍तर पर हो। हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट में मामले की जानकारी रखने वाले एक अधिकारी के हवाले से कहा गया है, 'ऐसे में जबकि 12वें दौर की वार्ता को लेकर तारीखें अभी तय नहीं हुई हैं, PLA कह रही है कि LAC पर पैंगोंग सो झील में डिस्‍एंगेजमेंट की प्रक्रिया दोनों देशों के नेतृत्‍व के लक्ष्यों के हिसाब से पूरी हुई है। वे चाहते हैं कि गोगरा-हॉट स्प्रिंग इलाके से सैनिकों के पीछे हटने के प्रक्रिया स्थानीय कमांडर स्तर पर हो, न कि इसके लिए कोई खास वार्ता न बुलाई जाए।'

चीनी सेना का यह रुख दर्शाता है कि वे इलाके में विवाद के जल्‍दी समाधान के मूड में नहीं हैं, जबकि भारत ने पहले ही स्‍पष्‍ट कर दिया है कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय रिश्ते सामान्य करने के लिए पूर्वी लद्दाख में विवाद के क्षेत्रों से सैन्‍य वापसी पहली शर्त है। क्षेत्र में तनाव की शुरुआत बीते साल अप्रैल-मई में हुई थी, चीनी सेना ने पैंगोंग सो झील और गोगरा-हॉट स्प्रिंग इलाके में आक्रामकता दिखाई थी। दोनों देशों में संबंध तभी से तनावपूर्ण बने हुए हैं, जो मई 2020 में गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद चरम पर पहुंच गया था।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर