पूर्वी लद्दाख में LAC पर तनाव, अब तक पीछे नहीं हटे हैं सैनिक, MEA ने दी अहम जानकारी

देश
भाषा
Updated Jun 03, 2021 | 21:14 IST

पूर्वी लद्दाख में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के साथ गतिरोध की स्थिति अब भी बनी हुई है। भारत ने सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया जल्द पूरा करने पर जोर दिया है।

पूर्वी लद्दाख में LAC पर तनाव, अब तक पीछे नहीं हटे हैं सैनिक, MEA ने दी अहम जानकारी
पूर्वी लद्दाख में LAC पर तनाव, अब तक पीछे नहीं हटे हैं सैनिक, MEA ने दी अहम जानकारी  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • पूर्वी लद्दाख में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के साथ गतिरोध अब तक दूर नहीं हुआ है
  • विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है
  • समझा जाता है कि कुछ स्थानों पर सैनिकों के पीछे हटने को लेकर अब भी गतिरोध है

नई दिल्ली : पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध पर भारत ने गुरुवार को कहा कि क्षेत्र में सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है तथा सैनिकों के जल्द पीछे हटने से ही सीमावर्ती इलाकों में पूर्ण रूप से शांति बहाली एवं द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति सुनिश्चित की जा सकती है।

'सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई'

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने डिजिटल माध्यम से आयोजित साप्ताहिक प्रेस वार्ता में यह बात कही। उन्होंने कहा, 'मैं इस बात पर जोर देता हूं कि सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है। दोनों पक्षों के बीच इस बात पर अंतरिम सहमति बनी कि वे जमीनी स्तर पर स्थिरता बनाये रखेंगे और किसी नयी घटना से बचेंगे।'

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, 'हमें उम्मीद है कि कोई भी पक्ष ऐसा कोई कदम नहीं उठायेगा, जो इस समझ के अनुरूप नहीं हो।' उन्होंने कहा कि पूर्वी लद्दाख के इन क्षेत्रों से सैनिकों के जल्द पीछे हटने से ही सीमावर्ती इलाकों में पूर्ण रूप से शांति बहाली एवं द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति सुनिश्चित की जा सकती है। उनसे पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध से जुड़ी ताजा स्थिति के बारे में पूछा गया था।

विदेश मंत्री ने भारत-चीन संबंधों को लेकर कही थी ये बात

गौरतलब है कि विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पूर्वी लद्दाख गतिरोध के संदर्भ में हाल ही में कहा था कि भारत और चीन के संबंध ऐसे चौराहे पर है जिसकी दिशा इस बात पर निर्भर करती है कि क्या पड़ोसी देश सीमा पर शांति बनाये रखने के लिये विभिन्न समझौतों को पालन करता है।

वहीं, विदेश मंत्री जयशंकर ने इस वर्ष शुरू की गयी सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया के बारे में 30 अप्रैल को अपने चीनी समकक्ष के साथ चर्चा की थी । इस बारे में मंत्रालय ने कहा था कि सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है और इसे जल्द पूरा किया जाना चाहिए।

कुछ स्थानों पर अब भी बरकरार है गतिरोध

भारत और चीन की सेनाओं के बीच पैंगोंग सो इलाके में पिछले वर्ष हिंसक संघर्ष के बाद सीमा गतिरोध उत्पन्न हो गया था। इसके बाद दोनों पक्षों ने हजारों सैनिकों एवं भारी हथियारों की तैनाती की थी।

सैन्य एवं राजनयिक स्तर की वार्ता के बाद दोनों पक्षों ने इस वर्ष फरवरी में पैंगोंग सो के उत्तरी और दक्षिणी किनारे से सैनिकों एवं हथियारों को पीछे हटा लिया था। हालांकि, समझा जाता है कि कुछ स्थानों पर सैनिकों के पीछे हटने को लेकर अभी भी गतिरोध बरकरार है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर