'इससे ज्यादा मार्मिक क्षण नहीं हो सकता'- इरफान के बाद ऋषि कपूर को राज ठाकरे की भावुक श्रद्धांजलि

Raj Thackeray reaction on Rishi Kapoor demise: 30 अप्रैल को बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर का भी निधन हो गया है। मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने इस पर एक विस्तृत पत्र लिखा है।

Rishi Kapoor
नहीं रहे अभिनेता ऋषि कपूर  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुंबई: महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने गुरुवार को बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर के निधन पर भावुक अंदाज शोक जाहिर किया है। अभिनेता ऋषि कपूर का ल्यूकेमिया से दो साल पीड़ित रहने के बाद निधन हो गया। दिवंगत अभिनेता को बुधवार को एचएन रिलायंस अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने आज सुबह 8:45 बजे अंतिम सांस ली। उनका देहांत बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान के निधन के एक दिन बाद हुआ है। इन दोनों ही अभिनेताओं नेडी-डे फिल्म में एक साथ काम किया था जो साल 2013 में रिलीज़ हुई थी।

दिग्गज अभिनेता पर अपने विचार जाहिर करते हुए राज ठाकरे ने कहा, फिल्म उद्योग में प्रवेश करने के समय जब बॉलीवुड के अमिताभ बच्चन, राजेश खन्ना, शत्रुघ्न सिन्हा जैसे महानायक शासन कर रहे थे, तब ऋषि कपूर- कपूर वंश की तीसरी पीढ़ी से एक अलग ही आवाज बन गए और लगातार इसी रूप में बने रहे।

ठाकरे ने सामाजिक कारणों और राजनीतिक घटनाओं से संबंधित मुद्दों पर अपने दिल की बात कहने के लिए दिवंगत अभिनेता की सराहना की। साथ ही मनसे प्रमुख ने किसी विचार पर भारी हंगामे के बावजूद अपने रुख पर टिके रहने के लिए भी ऋषि कपूर को याद किया।

राज ठाकरे ने अपने ट्वीट में क्या कहा:

'ऋषि कपूर (1952-2020)! सफलता, असफलता जैसी चीजें ध्यान में नहीं रखते हुए, प्रदर्शन के लिए निर्धारित स्टीरियोटाइप ढांचा को नजरअंदाज करके अपनी कला और सिनेमा के लिए समर्पित जुनून के साथ इन सब चीजों से ऊपर उठना। हमने ऐसे दो अनुकरणीय कलाकारों को एक के बाद एक खो दिया। इससे अधिक मार्मिक क्षण नहीं हो सकता।

कई बड़े कलाकारों के समय में एंट्री: ऋषि कपूर, हमारी हिंदी फिल्म उद्योग के पहले 'चॉकलेट बॉय' हैं। उन्होंने 1973 में फिल्म बॉबी से फिल्म उद्योग में प्रवेश किया। उस युग में वह अपने तरह के पहले कलाकार बने और अपनी खास पहचान बनाई। उस दौर में एंग्री यंग मैन अमिताभ बच्चन, विनोद खन्ना के हैंडसम व्यक्तित्व, राजेश खन्ना का दिल पिघलाने वाले करिश्मा, शानदार डायलॉग डिलीवरी वाले शत्रुघ्न सिन्हा, माचो मैन- धर्मेन्द्र और सदाबहार संजीव कुमार मौजूद थे। इन बड़े कलाकारों की मौजूदगी में ऋषि कपूर ने फिल्म उद्योग में पदार्पण किया। वह युवाओं की आवाज बन गए और आगे भी उनकी यह पहचान कायम रही।

हालांकि उन्होंने उस समय के सभी दुर्जेय अभिनेताओं के साथ काम किया, लेकिन उनमें से कई उनके वरिष्ठ होने के बावजूद, ऋषि कपूर ने अपने सहज प्रदर्शन के साथ मजबूती से मैदान में पकड़ जमा ली। कपूर खानदान की विरासत उनके हाथ में थी और उन्होंने इसके साथ पूरा न्याय किया। उनका प्रदर्शन इतना सहज था कि किसी को लग सकता है कि उनके सामने कोई कैमरा नहीं है। किसी भी कलाकार के लिए एक सहज अभिनय बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसलिए अपने समकालीन दिग्गजों के बीच उन्हें पांव जमाने में सफलता मिली।

डटे रहे ऋषि कपूर: 2000 के युग में, उनके कुछ समकालीन लोग पिछड़ने लगे, लेकिन ऋषि कपूर ने अपना किला मजबूत रखा। यदि आप किसी भी हास्य भूमिका में उनके अभिनय को देखते हैं, तो कहीं भी नौटंकी या सस्तेपन की झलक नहीं दिखती है और जब आप उन्हें किरदारों में देखते हैं, तो वह मेलोड्रामा के साथ कभी भी धूमिल नहीं होते। सिनेमा के लिए उनका प्यार और जुनून बरकरार रहा, भले ही उन्होंने जो भी भूमिकाएं निभाईं। यही कारण है, वह 2020 के नए लेखक ब्रिगेड के लिए भी वह प्रेरणा बने रहे।

मेरा खास लगाव: मेरा और मेरे परिवार का ऋषि कपूर के प्रति गहरा लगाव है। उनका प्रदर्शन और उनका सटीक आचरण कुछ ऐसा था, जिसकी मैं तहे दिल से सराहना करता हूं। सामाजिक कारण हो, राजनीतिक बहस या कोई भी वर्तमान घटना, वह अपने विचारों और शब्दों में बहुत स्पष्ट रहते थे। उनके ट्वीट्स में आप उनकी इस स्पष्टता को देख सकते हैं। यहां तक ​​कि अगर उनके किसी भी ट्वीट पर भारी हंगामा हुआ, तो भी उन्होंने अपना पक्ष रखा और कभी भी स्टैंड लेने से परहेज नहीं किया।

एक गहरा भावुक व्यक्ति जो अपनी कला से प्यार करता था। मैं इस असाधारण कलाकार को अपनी विनम्र और हार्दिक श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। वह एक ऐसी विरासत को पीछे छोड़ रहे हैं, जो अनंत काल तक हमारे भारतीय फिल्म जगत में योगदान देती रहेगी।'

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर