Dry Needle therapy details: वरुण धवन ने कराई ड्राई नीडल थेरेपी, जानें मसल्स पेन में कैसे देती है आराम

Dry Needle Therapy benefits : ड्राई नीडल थेरेपी का प्रयोग मुख्य रूप से मांसपेशियों में दर्द और क्रैम्पिंग को ठीक करने के लिए किया जाता है। यदि इस थेरेपी को सही तरीके से किया जाए तो फर्क तुरंत दिख जाता है।

What Is Dry Needle Therapy, How Dry Needle Therapy  Effective In Muscles Pain, Dry Needle Therapy, Dry Needle Therapy benefits, Dry Needle Therapy side effects, Dry Needle Therapy cost, ड्राई नीडल थेरेपी क्या है, ड्राई नीडल थेरेपी दर्द दूर करने में कैसे ह
ड्राई नीडल थेरेपी क्या है (Pic : Istock) 

मुख्य बातें

  • ड्राई नीडल एक आधुनिक इनवेसिव थेरेपी है, इससे आप झटपट मांसपेशियों में दर्द से राहत पा सकते हैं।
  • ड्राई नीडल थेरेपी करवाने से पहले डॉक्टर से अवश्य लें सलाह, सभी व्यक्तियों के लिए नहीं होती उपयुक्त।
  • वरुण धवन ने भी ड्राई नीडल थेरपी को आजमाया है

Dry Needle Therapy: हाल ही में वरुण धवन ने ड्राई नीडल थेरेपी कराते हुए इंस्‍टाग्राम पर एक स्‍टोरी शेयर की थी। ड्राई नीडल थेरपी को दर्द दूर करने के लिए कारगर माना गया है। इस थेरेपी का प्रयोग ज्यादातार खिलाड़ी या एथलीट मसल्स का दर्द दूर करने के लिए करते हैं। इस थेरेपी में प्रभावी जगह पर छोटी सुइयों को ट्रिगर पॉइंट पर चुभाकर इलाज किया जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं क्या होता है ड्राई नीडल थेरेपी और मसल्स पेन दूर करने में कैसे होता है यह कारगार।

क्या है ड्राई नीडल थेरेपी, What is dry needle therapy in hindi 

ड्राई नीडल एक आधुनिक इनवेसिव थेरेपी है, जो मुख्य रूप से फाइब्रोमायोल्गिया को ध्यान में रखकर मांसपेशियों में खिंचाव का इलाज किया जाता है। यह प्रक्रिया शरीर के प्रभावित क्षेत्र या शरीर के ट्रिगर प्वाइंट पर कई सुइयों को चुभाकर की जाती है। इंजेक्ट की गई ये सुइयां तेज प्रतिक्रिया पैदा करती हैं और इससे धीरे धीरे दर्द से राहत मिलना शुरू हो जाती है। इससे आप झटपट मसल्स पेन से राहत पा सकते हैं।
ड्राई नीडल थेरेपी काफी हद तक एक्यूपंचर के समान होती है, लेकिन दोनों विधियों में काफी अंतर है। दोनों विधियों में प्रभावित जगह पर सुइयों को चुभाया जाता है। ड्राई नीडल थेरेपी का प्रयोग मुख्य रूप से मांसपेशियों में दर्द और क्रैम्पिंग को ठीक करने के लिए किया जाता है। यदि इस थेरेपी को सही तरीके से किया जाए तो तुरंत ही फर्क दिख जाता है, लेकिन यदि इसमें जरा सी भी लापरवाही हो जाए तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है।

बता दें भारत में ड्राई नीडल से संबंधित सरकार द्वारा अभी कोई दिशा-निर्देश या लाइसेंसिंग प्रक्रिया जारी नहीं की गई है। ऐसे में जब भी आपको ड्राई नीडल थेरेपी से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

ध्यान दें

ड्राई नीडल थेरेपी से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें। इससे पहले व्यक्ति को यह सुनिश्चित करना होता है कि थेरेपी में उपयोग की जाने वाली सुइयां ठीक हैं या नहीं और यह प्रक्रिया उसके लिए उपयुक्त है। यह थेरेपी सभी व्यक्तियों के लिए उपयुक्त नहीं होती।

(डिस्क्लेमर: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जा सकता। )

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर