Constipation Special Yoga: कब्ज की समस्या दूर करने के साथ-साथ पेट की परेशानियों को दूर करता है यह खास योगासन

कब्ज की शिकायत होना एक साधारण सी समस्या है। यहां बताएं गए योगा के जरिए आप अपने कब्ज की शिकायत को आसानी से दूर कर सकते है।

Yoga
Yoga 

मुख्य बातें

  • कब्ज की शिकायत दूर करने के लिए योगासन बेहद फायदेमंद होता है
  • पवनमुक्तासन योगा को करने से कब्ज की शिकायत आसानी से दूर हो सकती है
  • यदि आपको शारीरिक समस्या हो, तो इस योगासन को करने से पहले एक्सपर्ट की राय जरूर लें

Constipation Special Yoga: अधिकांश लोगों में कब्ज की शिकायत अक्सर सुनने को मिलती है। कब्ज होने की वजह से हमारे शरीर में तरह-तरह की बीमारियां उत्पन्न हो जाती है। कभी-कभी यह गंभीर बीमारी का रूप भी ले लेता है। ऐसी स्थिति में यदि आप योगा करें, तो यह इस बीमारी को दूर करने का सबसे बेस्ट तरीका होगा। योगा के जरिए आप कब्ज की शिकायत को आसानी से दूर कर सकते है। तो आइए जाने वह कौन-कौन से प्रकार की योगा है, जिनके जरिए हम कब्ज की शिकायत को आसानी से दूर कर सकते है।

कब्ज की समस्या को दूर करने वाला योगा-

1. पवनमुक्तासन योगा

कब्ज की शिकायत को दूर करने के लिए पवनमुक्तासन योगा बेहद फायदेमंद योगा है।

इसके जरिए आप कब्ज की समस्या को आसानी से दूर कर सकते है। पवनमुक्तासन योगा को करने से स्ट्रेस की समस्या दूर होने के साथ-साथ मलत्याग की समस्या भी दूर होती हैं।

इस योगा को करने के लिए सबसे पहले आप मैट को समतल स्थान पर बिठाकर पीठ के बल लेट जाए।

आप अपने हाथों को शरीर के साथ सटाकर रखें।

अब गहरी सांस लेते हुए दाएं पैर को घुटने को मोडें।

अब अपने दोनों हाथों से घुटनों को पकड़कर छाती के पास लाने की कोशिश करें।

अब सांस छोड़ते हुए सिर को उठाएं और नाक को घुटने से स्पर्श करने की कोशिश करें।

कुछ सेकंड इस अवस्था में रहे।

अब सांस लेते हुए अपने पैर और सिर को पहले जैसी अवस्था में ले आए।

दाएं पैर की प्रक्रिया पूरी हो जाए, तो बाएं पैर की प्रक्रिया को पुन: दोहराएं।

बाद में दोनों पैरों को एक साथ लेकर यह प्रक्रिया करें।

इस योगासन को चार से पांच बार करें।

2. सुप्त बुद्धकोणासन योगा

यह योगासन कब्ज की समस्या को दूर करने के लिए बेहद लाभकारी है।

इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले आप योगा मैट पर शवासन की मुद्रा में लेट जाएं और पीठ के हिस्से को हल्का सा ऊपर की ओर उठाएं।

यदि आपको पीठ की समस्या हो, तो आप पीठ के नीचे तकिया या पतला कंबल भी रख सकते हैं।

अब अपने दोनों पैरों को घुटनों से मोड़ें और दोनों तलवों को एक दूसरे के साथ जोड़ते हुए एड़ियों को पास लाने की कोशिश करें।

ध्यान रखें, कि आपका तलवा जमीन से सेटल होना चाहिए।

अब दोनों हाथों को सिर के पीछे सीधा फैला लें।

जितना हो सके एरियों को दोनों कूल्हों वाले भाग में सटाने की कोशिश करें।

कुछ सेकंड इसी मुद्रा में रहे।

अब धीरे-धीरे पहले वाले अवस्था में आने की कोशिश करें।

इस योगा को 3 से 5 बार जरूर करें।

3. हलासन योगा

यह योगासन पेट और पाचन तंत्र की समस्या को दूर करने में बेहद लाभकारी हैं।

इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले आप मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।

अब हाथों को शरीर के साथ शरीर के साथ सटाने की कोशिश करें।

अब सांस लेते हुए धीरे-धीरे अपने पैरों को ऊपर की ओर यानी 90 डिग्री के कोण तक उठाएं।

अब सांस छोड़ते हुए पैरों को सिर की तरफ लाते हुए पैरों की उंगलियां को जमीन से स्पर्श कराने की कोशिश करें।

कुछ सेकंड इसी अवस्था में रहे।

इस योगासन 4 से 5 चक्र में करें।

4. अर्धमत्स्येंद्रासन योगासन

यह योगासन कब्ज की समस्या को दूर करने के लिए बेहद लाभकारी है।

इस योगा को करने के लिए सबसे पहले मैट पर दंडासन की मुद्रा में बैठ जाएं।

अब गर्दन और रीढ़ की हड्डी को सीधा करने की कोशिश करें।

अब दाएं पैर को घुटने से मोड़ते हुए बाएं पैर के ऊपर से ले जाएं और बाएं पैर के उपर ले जाएं और  बाएं पैर को घुटने के बगल में रखें।

बाएं पैर को घुटने से मोडे और दाएं  एड़ी को दाएं कोल्हे के नीचे रख रखें।

अब बाएं हाथ को दाएं हाथ के ऊपर से ले जाए और जांघ के पास रखें और बाएं हाथ से दाएं पैर के टखने को पकड़ने की कोशिश करें।

अपना सिर को दाएं ओर घूमते हुए पीछे की ओर देखें।

इस दौरान रीड की हड्डी को सीधे अवस्था में रखें।

इस अवस्था में अपने आप को कुछ सेकंड के लिए रहे।

यही प्रक्रिया दूसरी तरफ भी करें

यह योगा को 3 से 5 बार जरूर करें।

5.  मयूरासन योगा

यह योगासन मोर की शारीरिक बनावट जैसा होता है।

इस योगा को करने के लिए सबसे पहले आप घुटनों के बल बज्रासान की मुद्रा में बैठ जाएं।

अब अपनी हथेली को जमीन पर रख दें।

ध्यान रखें कि हथेली की अंगुलियों की दिशा आपके पैरों की ओर होनी चाहिए।

अब दोनों घुटनों के बीच में जगह बनाते हुए एड़ियों को एक साथ जुड़े।

अब सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुके और अपने दोनों कोहनियों से मोड़ते हुए पेट को कोहनी पर टिकाने की कोशिश करें।

दोनों कोहनी को नाभि के पास ले जाने की कोशिश करें।

अब शरीर को आगे की ओर झुका झुका है और धीरे-धीरे अपने दोनों हाथों पर शरीर का पूरा वजन देने की कोशिश करें।

अब अपने पैरों को पीछे की ओर सीधा कर दें।

इस मुद्रा में अपने आप को कुछ सेकंड तक रखें।

अब अपने घुटनों को जमीन सटाकर वापस सामान मुद्रा में आने की कोशिश करें।

यह योगासन करीब 3 से 4 बार जरूर करें।



6. बालासन योगा

यह योगासन पाचन तंत्र की समस्या दूर करने के साथ-साथ गैस और कब्ज की शिकायत को भी दूर करता हैं।

इसे करने के लिए सबसे पहले आप समतल जगह पर वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाए।

अब अपने हाथों को ऊपर की ओर उठाएं। बाद में सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुके और सिर को जमीन से सटाने की कोशिश करें।

अब दोनों हाथों को जमीन पर आराम से रखें।

कुछ सेकंड तक इसी मुद्रा में रहे।

बाद में धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आने की कोशिश करें।

योगासन को 3 से 5 बार जरूर करें।

7. सुप्त मत्स्येन्द्रासन योगा

यह योगासन कब्ज की शिकायत को दूर करने के साथ-साथ तनाव की समस्या भी दूर करता हैं।

इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले अपने पैरों को सीधा फैलाकर पीठ के बल लेट जाएं।

अब दोनों हाथों को कंधे की सीध में शरीर से दूर फैला लें।

अब दाएं पैर को घुटने से  मोडते हुए ऊपर उठाएं और बाएं पैर के घुटने के पास ले जाएं।

अब बाएं हाथ को दाएं हाथ के घुटनों पर दवाब देकर जमीन से स्पर्श करने की कोशिश करें।

अपने सिर को दाई ओर घुमाएं और दाएं हाथ की उंगलियों को देखें।

कुछ सेकंड इसी मुद्रा में रहे।

इस योगासन को करीब 3 से 5 बार जरूर करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर