12 साल से कम उम्र के बच्चों पर हमला करेगी तीसरी लहर; जल्द से जल्द हो माता-पिता का टीकाकरण: डॉ देवी शेट्टी

हेल्थ
Updated May 17, 2021 | 19:27 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Coronavirus third wave: डॉ. देवी शेट्टी का कहना है कि भारत के सर्वश्रेष्ठ वायरोलॉजिस्टों में से एक निम्हंस बेंगलुरु के डॉ. रवि ने भविष्यवाणी की है कि तीसरी लहर मुख्य रूप से बच्चों पर हमला कर सकती है।

Covid-19
कोरोना वायरस का कहर 

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने देश का काफी नुकसान किया है। इस दौरान मामले भी काफी तेजी से बढ़े और लोगों की मौतें भी खूब हुईं। लेकिन इसी बीच तीसरी लहर की भी चर्चा शुरू हो गई। कहा जा रहा है कि तीसरी लहर में बच्चों को ज्यादा खतरा है। इसने माता-पिताओं के साथ-साथ डॉक्टर्स और सरकारों की भी चिंताएं बढ़ा दी हैं। कार्डिएक सर्जन और नारायण हेल्थ के अध्यक्ष और संस्थापक डॉ. देवी शेट्टी ने निम्हंस बेंगलुरु के भारत के सबसे प्रसिद्ध वायरोलॉजिस्ट डॉ. रवि द्वारा की गई भविष्यवाणी का हवाला दिया है। 

डॉ. रवि ने कथित तौर पर भविष्यवाणी की है कि जब भारत तीसरी लहर (अनुमानित अवधि का उल्लेख नहीं किया गया) का सामना करेगा, तो इसमें कोरोना वायरस वायरस मुख्य रूप से बच्चों पर हमला करेगा, ऐसी संभावना है। डॉ. देवी शेट्टी ने 'इकोनॉमिक्स टाइम्स' में लिखा है, 'महाराष्ट्र सरकार ने तीसरी लहर के दौरान कोविड-संक्रमित बीमार बच्चों के प्रबंधन के लिए एक टास्क फोर्स बनाई है। मैं एक महामारी विज्ञानी नहीं हूं, लेकिन सामान्य ज्ञान मुझे बताता है कि वे सही हो सकते हैं।'

बच्चे क्यों हैं कोविड-19 वायरस का संभावित अगला लक्ष्य

डॉ. देवी शेट्टी ने लिखा, 'कोविड वायरस अधिक से अधिक नए लोगों पर हमला करने के लिए म्यूटेट होता है। पहली लहर के दौरान, कोविड ने मुख्य रूप से बुजुर्गों पर हमला किया और युवाओं को बख्शा। दूसरी लहर में बड़ी संख्या में युवाओं पर हमला हो रहा है। तीसरी लहर में बच्चों पर हमला होने की संभावना है क्योंकि अधिकांश वयस्क पहले से ही संक्रमित हो चुके होंगे या प्रतिरक्षित हैं।'

इस कारण से माता-पिता और वयस्कों का तेजी से टीकाकरण करें:

अगर बच्चे कोरोना की चपेट में आने लगते हैं और उनकी स्थिति बिगड़ती है तो माता-पिताओं की जिम्मेदारी बहुत बढ़ जाएगी। वो कहते हैं, 'बच्चे वयस्क नहीं हैं। वयस्कों के विपरीत हमारे माता-पिता में से एक के बिना कोविड आईसीयू में दो महीने का बच्चा नहीं हो सकता। आप तीन बच्चों की युवा मां या पिता को बिना टीकाकरण के कोविड आईसीयू में कैसे भेजेंगे? वयस्क कोविड आईसीयू रोगियों की तरह शिशुओं और छोटे बच्चों को उनके माता-पिता के बिना आईसीयू में नहीं छोड़ा जा सकता है। माताओं को अपने बच्चों को स्तनपान कराने की आवश्यकता होती है, और यह सुनिश्चित करने के लिए कोई न कोई होना चाहिए कि बच्चा ऑक्सीजन मास्क न फेंके। कार्डिएक आईसीयू में, अधिकांश बच्चे आंशिक रूप से बेहोश हो जाते हैं, और जब वे पूरी तरह से सतर्क हो जाते हैं, तो हम उन्हें वार्ड में भेज देते हैं। कोविड आईसीयू में हम बच्चे को बेहोश नहीं कर सकते; ऑक्सीजन को बनाए रखने के लिए उन्हें अच्छी तरह से सांस लेने की जरूरत है। 

इसका मतलब है कि हमें छोटे बच्चों के सभी माता-पिताओं को जल्द से जल्द टीका लगाने की जरूरत है। और यह अब होना चाहिए। हमें अगले कुछ महीनों में कम से कम 30 करोड़ युवा माता-पिता का टीकाकरण करने की जरूरत है। अच्छी खबर यह है कि टीका सुरक्षा प्रदान करता है।

बच्चों को कब लगेगी वैक्सीन

कई वैक्सीन हैं जो बच्चों के लिए तैयार हो रही हैं। 'द इकोनॉमिक टाइम्स' की रिपोर्ट है कि फाइजर वैक्सीन को पहले ही 16 साल की उम्र से उपयोग के लिए मंजूरी दे दी गई है। फाइजर और मॉडर्न दोनों ने 12 वर्ष और उससे अधिक उम्र के बच्चों के अध्ययन के लिए नामांकन पूरा कर लिया है, और उम्मीद है कि गर्मियों में डेटा जारी किया जाएगा। 5 मई को हेल्थ कनाडा ने 12-15 वर्ष की आयु के बच्चों में उपयोग के लिए एक कोविड-19 वैक्सीन को मंजूरी दी थी।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर