Covid 19 vaccine: क्या वैक्सीन लगने से पहले और बाद में आप ले सकते हैं नियमित दवा, जानिए क्या कहते हैं डॉक्टर

देशभर में कोविड के खिलाफ टीकाकरण चल रहा है है। ऐसे में असमंजस की स्थिति बनी हुई है क्या उन्हें वैक्सीन लगवाना चाहिए? या वैक्सीन लगवाने के बाद अपनी दवाई के डोज को लेना चाहिए या नहीं?

Covid Vaccine, Medicine You Can not Take With Covid Vccine, कोविड वैक्सीन, दवाएं औऱ स्टेरॉयड जो कोविज वैक्सीन के साथ नहीं लेना चाहिए,
Medicine You Can not Take With Covid Vccine 

मुख्य बातें

  • हार्ट या लिवर से संबंधित बीमारियों से पीड़ित लोग टीकाकरण से पहले और बाद में भी ले सकते हैं दवाई की डोज।
  • हार्ट या लिवर से संबंधित बीमारियों से पीड़ित लोग टीकाकरण से पहले और बाद में भी ले सकते हैं दवाई की डोज।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है कोविड वैक्सीन।

कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण महाभियान का दूसरा चरण शुरु हो चुका है। टीकाकरण के पहले चरण में करोड़ो स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंट लाइन वरकर्स को टीका लगाया गया। वहीं दूसरे चरण में 60 साल की उम्र से ऊपर के लोग और 45 साल से अधिक के लोगों को प्राथमिकता दी जा रही है, जिसमें कोमोरॉडिटीज यानि जो असाध्य रोग से पीड़ित हैं। ऐसे में लोगों के मन में असमंजस की स्थिति बनी हुई है कि क्या वह पहले से चल रही दवाओं को खाकर वैक्सीन लगवाएं? या वैक्सीन लगने के बाद दवा खा सकते हैं या नहीं। टाइम्स नाऊ के इस लेख में हम आपको ऐसे ही कुछ समस्याओं का हल बताएंगे। आइए जानते हैं।

क्या बीपी व शुगर के मरीजों को लगवाना चाहिए कोविड वैक्सीन?

आपको बता दें यह वैक्सीन कोरोना के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रदान करती है। तथा यह वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। खासकर बीपी औऱ शुगर से ग्रस्त मरीजों के लिए यह वैक्सीन अत्यंत आवश्यक है। क्योंकि ये लोग हाई रिस्क श्रेंणी में आते हैं। ऐसे में इन मरीजों के लिए कोरोना वैक्सीन लेना बेहद जरूरी है। लेकिन ध्यान रखें वैक्सीन लेते समय आपका शुगर औऱ बीपी दोनों नियंत्रित होना चाहिए। वैक्सीन लगने के बाद आप अपनी रोजमर्रा की दवाओं को ना बंद करें।

क्या थायरॉइड के मरीज लगवा सकते हैं वैकसीन और ले सकते हैं अपनी दवाएं?

थायराइड में वजन बढ़ने के साथ मेटाबॉलिज्म और हार्मोनल असंतुलित हो जाता है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर बनाता है। इसलिए थायराइड के मरीजों में कोरोना के संक्रमण का खतरा अधिक होता है। ऐसे में थायराइड को मरीजों को कोविड वैक्सीन लेना जरूरी है। तथा वैक्सीन लेने से पहले और बाद में वे अपनी दवाओं को जारी रख सकते हैं। लेकिन इससे पहले अपने डॉक्टर से एक बार अवश्य सलाह लें।

अस्थमा और एलर्जी से पीड़ित लोगों के लिए क्या सुरक्षित है वैक्सीन?

एलर्जी वाली दवाइयों के साथ कोविड 19 वैक्सीन इस स्थिति को औऱ भी चिंताजनक बना सकता है। हालांकि डॉक्टर राहुल के अनुसार एलर्जी से पीड़ित लोगों द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली अधिकांश दवाएं या एंटीथिस्टेमाइंस कोरोना वायरस वैक्सीन के साथ इस्तेमाल किए जाने पर सुरक्षित पाए गए हैं। वैक्सीन उन लोगों के लिए सुरक्षित है जो अस्थमा, राइनाइटिस एलर्जी और एलर्जी डर्माटाइटस जैसी सामान्य एलर्जी से पीड़ित हैं।

ऐसे लोग कोविड वैक्सीन लगने से पहले और बाद में ले सकते हैं अपनी दवाई की डोज

एक रिपोर्ट के अनुसार जो लोग दिल संबंधी बीमारियों या लिवर की बीमारी से पीड़ित हैं या पहले हार्ट अटैक या लिवर अटैक जैसी भयावह बीमारी के चपेट में आ चुके हैं, वे लोग अपनी दवाओं के साथ कोविड वैक्सीन ले सकते हैं। ऐसे लोगों के लिए अपनी दवाओं को खाने के बाद कोविड वैक्सीन लेना सुरक्षित है। तथा यदि आप रोग प्रतिरोध क्षमता को मजबूत बनाने वाली दवाईयों का सेवन कर रहे हैं तो ऐसे लोगों के लिए कोविड वैक्सीन काफी अच्छा होगा। यह 75 प्रतिशत लोगों को रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने में कारगार है।

कैंसर के रोगी इन बातों का रखें ध्यान

कैंसर एक इम्यूनोप्रेसप्रेसिंग स्थिति है। कैंसर जैसी भयावह बीमारी से पीड़ित लोगों में अक्सर इम्यूनोसप्रेसेन्ट की भारी मात्रा डाल दिया जाता है। कैंसर रोगियों को जल्द से जल्द कोविड के खिलाफ टीकाकरण करवाना चाहिए। तथा आईएमएम के दिशा निर्देशों के अनुसार टीकाकरण से पहले कीमोथेरेपी के लिए सोचना चाहिए।
डॉक्टर भरत अपोलो हॉस्पिटल के चिकित्सा सलाहकार के अनुसार कीमोथेरेपी के 4 सप्ताह बाद व्यक्ति को कोविड वैक्सीन लेने के लिए सोचना चाहिए। इसी तरह जिनकी हाल फिलहाल में सर्जरी हुई है उन्हें तुरंत वैक्सीन लेने की आवश्यकता नहीं हैं। ऐसे लोगों को वैक्सीन लेने के लिए करीब 2 सप्ताह का इंतजार करना चाहिए।

डिप्रेशन से ग्रस्त लोग दें ध्यान

नींद संबंधी विकारों व मानसिक संबंधी रोगों को रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम करने के लिए जाना जाता है। तनाव से ग्रस्त या डिप्रेशन के मरीजों द्वारा ली जा रही दवाई से शरीर में सूजन की स्थिति पैदा हो सकता है। ऐसे लोगों को वैक्सीन लेने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लेना चाहिए। वहीं डॉक्टर भरत अग्रवाल का कहना है कि इस दौरान कोविड का टीकाकरण आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ इन बीमारियों से भी लड़ने में मदद करता है।

इन दवाओं के डोज टीकाकरण से पहले ना लें

एक रिपोर्ट के मुताबिक आपको कुछ दवाओं और स्टेरॉइड को टीकाकरण से पहले नहीं लेना चाहिए। जिसमें कैंसर, थायरॉइड और एचआईवी की दवाएं और इंजेक्शन शामिल हैं। इन दवाओं और वैक्सीन का डोज टीकाकरण से पहले ना लें। इसका सेवन आफ टीकारण के बाद कर सकते हैं। टीकाकरण से पहेल इन दवाओं को लेने से स्थिति भयावह हो सकती है। इसलिए इसको लेकर आपको सजग रहना चाहिए।

ध्यान रखें
डॉक्टर और स्वास्थ्य निकाय कोरोना के भयावह प्रकोप से बचने के लिए सभी को कोरोना वैक्सीन लगाने की सलाह दे रहे हैं। हालांकि यदि आप किसी बीमारी से ग्रस्त या आप किसी एलर्जी से परेशान हैं तो टीकाकरण से पहले एक बार अपने डॉक्टर या किसी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। अन्यथा स्थिति भयावह हो सकती है।

(टाइम्‍स ऑफ इंड‍िया से साभार)
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर